19 June 2015

Lyrics Of "Shaapit Hua" From Movie - Shaapit (2010)

Shaapit Hua
Shaapit Hua
Lyrics Of Shaapit Hua From Movie - Shaapit (2010): A rock song sung by Sunidhi Chauhan, Aditya Narayan featuring Aditya Narayan & Shweta Agarwal.

Singer: Sunidhi Chauhan, Aditya Narayan
Music: Aditya Narayan
Lyrics: Sameer
Star Cast: Aditya Narayan, Shweta Agarwal, Rahul Dev, Murli Sharma, Nishigandha Wad, Shubh Joshi, Manoj Verma.


The video of this song is available on youtube at the official channel T-Series. This video is of 3 minutes 12 seconds duration.


Lyrics of "Shaapit Hua"


bhoolenge na ye pal jab
apne pyar ka bita kal shapit hua
kya kya hota hai chahat ki anjani si raho me
dekha humne ja kar khud apni maut ki gufao me
khatra khatra chilati hai andhkar ki har diwar
aaya aashiq shapit kar gaye sun kar aashiq ka izhar
shapit hua tere pyar me shapit hua ikraar me
shapit hua tere pyar me shapit hua ikraar me
tujhe ho gaya pyar pehna gayi wo
maut ka haar aur mai shapit hua

sochne ki ye baat hai jisme na jism hai na jaan hai
uss nirjiv ke jivat shrap ne chine mere pran hai
na samjhe wo prem na premiyo ki judai ka ehsas
karz hai mujh par mehbooba ke
dhadakte dil ki bhukh aur pyaas
shapit hua tere pyar me shapit hua ikraar me
shapit hua tere pyar me shapit hua ikraar me

tujhe ho gaya pyar pehna gayi
wo maut ka haar aur mai shapit hua
tere pyar ke jot mujhe is andhkar se bachayenge
wo narjiv tere hatho se hi mukti paayenge
aayega wo pal jab khushiya chikengi chilayengi
tere paas tere sapno ki rajkumari ayegi
baho me bahe hatho me hath
chahu bas tera hi sath har din har rat
bhoolenge na ye pal jab apne
pyar ka bita kal shapit hua
shapit hua shapit hua shapit hua shapit hua



Lyrics in Hindi (Unicode) of "शापित हुआ"

 

भूलेंगे ना ये पल जब
अपने प्यार का बीता कल शापित हुआ

क्या क्या होता हैं चाहत की अंजानी सी राहो में
देखा हमने जा कर खुद अपनी मौत की गुफाओं में
खतरा खतरा चिल्लाती है अन्धकार की हाय दीवार
आया आशिक शापित कर गये सुन कर आशिक का इजहार
शापित हुआ तेरे प्यार में शापित हुआ इकरार में
शापित हुआ तेरे प्यार में शापित हुआ इकरार में
तुझे हो गया प्यार पहना गयी वो
मौत का हार और मैं शापित हुआ

सोचने की ये बात हैं जिसमें ना जिस्म हैं ना जान हैं
उस निर्जीव के जीवत शाराप ने छीने मेरे प्राण हैं
ना समझे वो प्रेम ना प्रेमियों की जुदाई का एहसास
क़र्ज़ है मुझ पर महबूबा का
धड़कते हैं दिल की भूख और प्यास
शापित हुआ तेरे प्यार में शापित हुआ इकरार में
शापित हुआ तेरे प्यार में शापित हुआ इकरार में

तुझे हो गया प्यार पहना गयी वो
मौत का हार और मैं शापित हुआ
तेरे प्यार के ज्योत मुझे इस अन्धकार से बचायेंगे
वो निर्जीव तेरे हाथो से ही मुक्ति पायेंगे
आयेगा वो पल जब खुशियाँ चीखेगी चिल्लायेगी
तेरे पास तेरे सपनो की राजकुमारी आएगी
बाहों में बाहे हाथो में हाथ
चाहू बस तेरा ही साथ हर दिन हर रात
भूलेंगे ना ये पल जब अपने
प्यार का बीता कल शापित हुआ
शापित हुआ शापित हुआ शापित हुआ शापित हुआ

 

No comments:

Post a comment