9 July 2015

Lyrics Of "Yeh Des Hai Mera" From Movie - Khelein Hum Jee Jaan Sey (2010)

Yeh Des Hai Mera
Yeh Des Hai Mera
Lyrics Of Yeh Des Hai Mera From Movie - Khelein Hum Jee Jaan Sey (2010): Nice patriotic song sung by Sohail Sen and lyrics penned by Javed Akhtar.

Singer: Sohail Sen
Music: Sohail Sen
Lyrics: Javed Akhtar
Star Cast: Abhishek Bachchan, Deepika Padukone, Vishakha Singh, Sikander Kher, Amin Gazi, Vijay Maurya.



The video of this song is available on youtube at the official channel T-Series. This video is of 5 minutes 01 seconds duration.


Lyrics of "Yeh Des Hai Mera"


yeh des hai mera, yeh des hai mera
yeh poochh rahaa hai kahan hai savera
jaan rahe naa rahe, dil toh ab yeh kahe
ujyaare main dhoond laaoon
aisee ho roshni, jaag uthe zindagi
andhiyaare saare mitaoon
andhiyaara toh purana hai
suraj naya banana hai
yeh des hai mera, yeh des hai mera

yeh des hai mera, yeh des hai mera
yeh poochh rahaa hai kahan hai savera
jaan rahe naa rahe, dil toh ab yeh kahe
ujyaare main dhoond laaoon
aisee ho roshni, jaag uthe zindagi
andhiyaare saare mitaoon
andhiyaara toh purana hai
suraj naya banana hai
yeh des hai mera, yeh des hai mera

muskura uthe jeevan jo din aisaa aaye
chehre par jo ab hain wo gham dhul jaaye
har disha ujaale barse
laaoon roshni ka main jo mausam
andhiyaara toh purana hai
suraj naya banana hai
yeh des hai mera, yeh des hai mera
yeh poochh rahaa hai kahan hai savera

sapna aisa dekha hai toh sach bhi hai karna
tasvire banayi hain toh rang bhi hai bharna
dil mera yeh keh raha hai
sapnon ka sach se toh hoga sangam
andhiyaara toh purana hai
suraj naya banana hai
yeh des hai mera, yeh des hai mera
yeh poochh rahaa hai kahan hai savera

Lyrics in Hindi (Unicode) of "ये देस हैं मेरा"


ये देस हैं मेरा, ये देस हैं मेरा
ये पूछ रहा हैं कहाँ हैं सवेरा
जान रहे ना रहे, दिल तो अब ये कहे
उजियारे मैं ढूँढ लाऊ
ऐसी हो रौशनी, जाग उठे ज़िन्दगी
अँधियारे सारे मिटाऊ
अँधियारा तो पुराना हैं
सूरज नया बनाना हैं
ये देस हैं मेरा, ये देस हैं मेरा

ये देस हैं मेरा, ये देस हैं मेरा
ये पूछ रहा हैं कहाँ हैं सवेरा
जान रहे ना रहे, दिल तो अब ये कहे
उजियारे मैं ढूँढ लाऊ
ऐसी हो रौशनी, जाग उठे ज़िन्दगी
अँधियारे सारे मिटाऊ
अँधियारा तो पुराना हैं
सूरज नया बनाना हैं
ये देस हैं मेरा, ये देस हैं मेरा

मुस्कुरा उठे जीवन जो दिन ऐसा आये
चेहरे पर जो अब हैं वो गम धुल जाये
हर दिशा उजाले बरसे
लाऊ रौशनी का मैं जो मौसम
अँधियारा तो पुराना हैं
सूरज नया बनाना हैं
ये देस हैं मेरा, ये देस हैं मेरा
ये पूछ रहा हैं कहाँ हैं सवेरा

सपना ऐसा देखा हैं तो सच भी हैं करना
तस्वीरे बनाई हैं तो रंग भी हैं भरना
दिल मेरा ये कह रहा हैं
सपनो का सच से तो होगा संगम
अँधियारा तो पुराना हैं
सूरज नया बनाना हैं
ये देस हैं मेरा, ये देस हैं मेरा
ये पूछ रहा हैं कहाँ हैं सवेरा

No comments:

Post a comment