6 April 2015

Lyrics Of "Kar Chalna Shuru Tu" From Movie - Ek Main Aur Ekk Tu (2012)

Kar Chalna Shuru Tu
Kar Chalna Shuru Tu
Lyrics Of Kar Chalna Shuru Tu From Ek Main Aur Ekk Tu (2012):  An Inspiring song sung by Shilpa Rao and Vishal Dadlani Featuring Kareena Kapoor and Imraan Khan.

Singer: Shilpa Rao, Vishal Dadlani
Music: Amit Trivedi
Lyrics: Amitabh Bhattacharya

Star Cast: Kareena Kapoor, Imraan Khan.






The Video of this song is available on youtube at the official channel T-Series. This video is of 2 minutes 30 seconds duration.  






Lyrics of "Kar Chalna Shuru Tu "



jo hua hai woh hota hai, jo hona hai woh hona hai
jo tere bas me baate hai unhe khamakha kyu khona hai
ho jitni bhi hai jitni bhi ha umide leke
jaaye kaha tak jaaye kaha tak raaste dekhe
kar chalna shuru tu, mudke naa dekh tu
jaise hai sahi hai, ek main aur ekk tu
ho kar chalna shuru tu, mudke naa dekh tu
jaise hai sahi hai, ek main aur ekk tu
ek main aur ekk tu

nazariya dono ka mile na mile, kadar dono ko hai dono ki
safar tay ye kare sath me bhale alag hai manzile dono ki
tukda tukda dhoop ho chahe chutki bharke chhav bhi
barabari se baate ho zarurat jo jis tarah ki
ho jitni bhi hai jitni bhi hai koshishe leke
jaaye kaha tak jaaye kaha tak raaste dekhe
kar chalna shuru tu, shuru tu
mudke na dekh tu, na dekh mudke na dekh tu
jaise hai sahi hai sahi hai sahi hai
ek main aur ekk tu, ek main aur ekk tu
kar chalna shuru tu, mudke naa dekh tu
jaise hai sahi hai ek main aur ekk tu
ek main aur ekk tu

jo socha hai kab hota hai, ye hi hamesha ka rona hai
soche bin mil jaaye jo use khamakha kyun khona hai
hmm jitni mile jitni mile raahate leke
jaye kaha tak jaye kaha tak raste dekhe



Lyrics in Hindi (Unicode) of "कर चलना तु शुरू"



जो हुआ है वो होता है, जो होना है वो होना है
जो तेरे बस में बाते है उन्हें खामखा क्यों खोना है
हो जितनी भी है जितनी भी है उम्मीदे लेके
जाए कहा तक जाए कहा तक रास्ते देखे
कर चलना शुरू तू, मुडके ना देख तू
जैसे है सही है एक मैं और एक तू
हो कर चलना शुरू तू, मुडके ना देख तू
जैसे है सही है एक मैं और एक तू
एक मैं और एक तू

नजरिया दोनों का मिले ना मिले, कदर दोनों को है दोनों की
सफर तय ये करे साथ में भले अलग हैं मज़िले दोनों की
टुकड़े टुकड़े धुप हो चाहे चुटकी भरके छाव भी
बराबरी से बाते हो जरुरत जो जिस तरह की
हो जितनी भी है जितनी भी है कोशिशे लेके
जाएँ कहा तक जाए कहा तक रास्ता देखे
कर चलना शुरू तू, शुरू तू
मुडके ना देख तू, ना देख मुडके ना देख तू
जैसे है सही है सही है सही है
एक मैं और तू, एक मैं और एक तू
कर चलना शुरू तू, मुडके ना देख तू
जैसे हैं सही हैं एक मैं और एक तू
एक मैं और एक तू

जो सोचा है कब होता है, ये ही हमेशा का रोना है
सोचे बिन मिल जाए जो उसे खामखा क्यों खोना है
हम्म जितनी मिले जितनी मिले राहते लेके
जाए कहा तक जाए कहा तक रास्ते देखे

No comments:

Post a comment