18 April 2015

Lyrics Of "Rasme Muhabbat Ki" From Nawazuddin Siddiqui's Latest Movie - Lateef (2015)

Rasme Muhabbat Ki
Rasme Muhabbat Ki
Lyrics Of Rasme Muhabbat Ki From Lateef (2015): A sad love song sung by Adnan Sami featuring Nawazuddin Siddiqui.

Singer: Adnan Sami
Music Gunwant Raj
Lyrics: Amina Israar.
Star Cast: Nawazuddin Siddiqui, Neena Singh, Mukesh Tiwari, Murli Sharma



The audio of this song is available on youtube.




Lyrics of "Rasme Muhabbat Ki"



rasme muhabbat ki ada na wo kar paaye
rasme muhabbat ki ada na wo kar paaye
bewafa kya hai wafa
bewafa kya hai wafa ye bhi samajh na paaye
diwana bana ke hame wo sataaye
diwana bana ke hame wo sataaye
rasme muhabbat ki ada na wo kar paaye
rasme muhabbat ki ada na wo kar paaye

tum meri dil ki dhadkan, tum hi meri pehchan bhi
tum meri rooh bhi aur tum hi meri jaan bhi
tum meri dil ki dhadkan, tum hi meri pehchan bhi
tum meri rooh bhi aur tum hi meri jaan bhi
bewafa kya hai wafa
bewafa kya hai wafa ye bhi samajh na paaye
diwana bana ke hame wo sataaye
diwana bana ke hame wo sataaye
rasme muhabbat ki ada na wo kar paaye
rasme muhabbat ki ada na wo kar paaye

kya hai haya, kya hai wafa
chahat ka chalan hi chhod diya
tumne meri ummido ke tajmahal ko tod diya
kya hai haya, kya hai wafa
chahat ka chalan hi chhod diya
tumne meri ummido ke tajmahal ko tod diya
bewafa kya hai wafa
bewafa kya hai wafa ye bhi samajh na paaye
diwana bana ke hame wo sataaye
diwana bana ke hame wo sataaye
rasme muhabbat ki ada na wo kar paaye
rasme muhabbat ki ada na wo kar paaye


Lyrics in Hindi (Unicode) of "रस्मे मुहब्बत की"



रस्मे मुहब्बत की अदा ना वो कर पाए
रस्मे मुहब्बत की अदा ना वो कर पाए
बेवफा क्या हैं वफ़ा
बेवफा क्या हैं वफ़ा ये भी समझ ना पाए
दीवाना बना के हमें वो सताए
दीवाना बना के हमें वो सताए
रस्मे मुहब्बत की अदा ना वो कर पाए
रस्मे मुहब्बत की अदा ना वो कर पाए

तुम मेरी दिल की धड़कन, तुम ही मेरी पहचान भी
तुम मेरी रूह भी और तुम ही मेरी जान भी
तुम मेरी दिल की धड़कन, तुम ही मेरी पहचान भी
तुम मेरी रूह भी और तुम ही मेरी जान भी
बेवफा क्या हैं वफ़ा
बेवफा क्या हैं वफ़ा ये भी समझ ना पाए
दीवाना बना के हमें वो सताए
दीवाना बना के हमें वो सताए
रस्मे मुहब्बत की अदा ना वो कर पाए
रस्मे मुहब्बत की अदा ना वो कर पाए

क्या हैं हया, क्या हैं वफ़ा
चाहत का चलन ही छोड़ दिया
तुमने मेरी उम्मीदों ने ताजमहल को तोड़ दिया
क्या हैं हया, क्या हैं वफ़ा
चाहत का चलन ही छोड़ दिया
तुमने मेरी उम्मीदों ने ताजमहल को तोड़ दिया
बेवफा क्या हैं वफ़ा
बेवफा क्या हैं वफ़ा ये भी समझ ना पाए
दीवाना बना के हमें वो सताए
दीवाना बना के हमें वो सताए
रस्मे मुहब्बत की अदा ना वो कर पाए
रस्मे मुहब्बत की अदा ना वो कर पाए


No comments:

Post a comment