28 June 2015

Lyrics Of "Bas Aisa Hi Hai" From Movie - 404 (2011)

Bas Aisa Hi Hai
Bas Aisa Hi Hai
Lyrics Of Bas Aisa Hi Hai From Movie - 404 (2011):  A Playful song  sung and Featured by Imaad Shah.

Singer: Imaad Shah
Music: Imaad Shah
Lyrics: Imaad Shah
Star Cast: Rajvvir Aroraa, Imaad Shah, Satish Kaushik, Tisca Chopra, Nishikant Kamat


  


The Audio of this song is available on Youtube.







Lyrics of "Bas Aisa Hi Hai"



bas aisa hi hai jaisa hai bas aisa hi hai meri jaan
bas aisa hi hai jaisa bhi hai aisa rahega ji yaha
master ji koi nayi cheez sikhani ho toh meri baat maano
isse pehle ki aaj kal ke is traffic me
aap apni jaan kho daalo
kache pakke iraado se aur tuti tuti yaado se
mehel banega hamara haan
bas aisa hi hai jaisa hai bas aisa hi hai meri jaan
bas aisa hi hai jaisa bhi hai aisa rahega ji yahaan

arrey bandhu re tere aas paas dekh le
aakhir kya ho raha hai yahaan
teri meerut wali chachi tujhko dhund rahi hai
cyber cafe me baithi hai waha
hati purani chithiyo iss desh ki pacchis mittiyo se
mehel banega hamara haan
bas aisa hi hai jaisa hai bas aisa hi hai meri jaan
bas aisa hi hai jaisa bhi hai aisa rahega ji yaha

arre master ji koi nayi cheez sikhani ho to
meri baat na mano isse pehle ki
iss sharafat ke mausam me
kisi sundri ko aap apna dil le aao
mere mann ki makdiyo se aag se jali yeh lakdiyon se
hati purani chithiyo iss desh ki pacchis mittiyo se
kache pakke irado se aur tuti tuti yaadon se
mehel banega hamara haan
bas aisa hi hai jaisa hai bas aisa hi hai meri jaan
bas aisa hi hai jaisa bhi hai aisa rahega ji yaha


Lyrics in Hindi (Unicode) of "बस ऐसा ही है"



बस ऐसा ही है जैसा है बस ऐसा ही है मेरी जान
बस ऐसा ही है जैसा भी है ऐसा रहेगा जी यहा
मास्टर जी कोई नयी चीज़ सिखानी हो तो मेरी बात मानो
इसे पहले की आज कल के ट्रैफिक में
आप अपनी जान खो डालो
कच्चे पक्के इरादों से और टूटी टूटी यादों से
महल बनेगा हमारा हा
बस ऐसा ही है जैसा है बस ऐसा ही है मेरी जान
बस ऐसा ही है जैसा भी है ऐसा रहेगा जी यहा

अरे बंधु रे तेरे आस पास देख ले
आखिर क्या हो रहा हिया यहाँ
तेरी मेरठ वाली चाची तुझको ढूंढ रही है
साइबर कैफे में बैठी है वहाँ
हटी पुरानी चिठियो इस देश की पच्चीस मिट्टियों से
महल बनेगा हमारा हा
बस ऐसा ही है जैसा है बस ऐसा ही है मेरी जान
बस ऐसा ही है जैसा भी है ऐसा रहेगा जी यहा

मास्टर जी कोई नयी चीज़ सिखानी हो तो
मेरी बात ना मानो इससे पहले कि
इस शराफत के मौसम में
किसी सुंदरी को आप अपना दिल ले आओ
मेरे मन कि मकड़ियों से आग से जली ये लड़कियों से
हटी पुरानी चिठियो इस देश की पच्चीस मिट्टियों से
कच्चे पक्के इरादों से और टूटी टूटी यादों से
महल बनेगा हमारा हा
बस ऐसा ही है जैसा है बस ऐसा ही है मेरी जान
बस ऐसा ही है जैसा भी है ऐसा रहेगा जी यहा

No comments:

Post a comment