23 June 2015

Lyrics Of "Chandni Rato Me" From Movie - Anjaan (2010)

 Chandni Rato Me
 Chandni Rato Me
Lyrics Of Chandni Rato Me From Movie - Anjaan (2010): Nice love song sung by Aumkar Gholap starring Mahek Chhal, Kapil Gupta, Aamir Ali Malik, Vipul Gupta.

Singer: Aumkar Gholap
Music: Viju Shah
Lyrics: Rahul Mehta
Star Cast: Mahek Chhal, Kapil Gupta, Aamir Ali Malik, Vipul Gupta




Lyrics of "Chandni Rato Me"


chandni rato me yad teri aati hain
kya kahu yar kitna tadpati hain
chandni rato me yad teri aati hain
kya kahu yar kitna tadpati hain
dil ko behlati hain, dil ko tarsati hain
dil ko behlati hain, dil ko tarsati hain
janeman jane jana jan chali jati hain
chandni rato me yad teri aati hain
kya kahu yar kitna tadpati hain

kya kashish hain aankho me
kya ada hain teri bato me
kya nasha hai tere hontho me
aa bhi jaana aisi raato me
teri palken jhuke toh sham dhale
teri palken uthe toh subaha chalti hain
too jo nahee yaha toh mai kya kahu
teri har ek yad pe jan chali hain

aye chand teri chandani kho jati hain jo kahi
uski yado me kya teri jan jati hai ke nahee
waise meri jan hain kahee aur mai tanha hu yahi
jaise lakho tare tujhe ghere huye
par teri jan toh chandani me hain
waise kai chehro pe nigah jaaye
par ek chehre pe yeh jan chali jati hain

chandni rato me yad teri aati hain
kya kahu yar kitna tadpati hain
chandni rato me yad teri aati hain
kya kahu yar kitna tadpati hain
dil ko behlati hain, dil ko tarsati hain
dil ko behlati hain, dil ko tarsati hain
janeman jane jana jan chali jati hain
chandni rato me yad teri aati hain
kya kahu yar kitna tadpati hain


Lyrics in Hindi (Unicode) of "चांदनी रातो में"


चांदनी रातो में याद तेरी आती है
क्या कहूँ यार कितना तडपाती है
चांदनी रातो में याद तेरी आती है
क्या कहूँ यार कितना तडपाती है
दिल को बहलाती है, दिल को तरसाती है
दिल को बहलाती है, दिल को तरसाती है
जानेमन जाने जाना जान चली जाती है
चांदनी रातो में याद तेरी आती है
क्या कहूँ यार कितना तडपाती है

क्या कशिश है आँखों में
क्या अदा है तेरी बातो में
क्या नशा हैं तेरे होंठो मे
आ भी जाना ऐसी रातों मे
तेरी पलके झुके तो शाम ढले
तेरी पलके उठे तो सुबहा चलती है
तू जो नहीं यहाँ तो मै क्या कहूँ
तेरी हर इक अदा पे जान चली है

ए चाँद तेरी चांदनी खो जाती है जो कही
उसकी यादो में क्या तेरी जान जाती है की नहीं
वैसे मेरी जान है कही और मै तन्हा हूँ यही
जैसे लाखो तारे तुझे घेरे हुए
पर तेरी जान तो चांदनी में है
वैसे कई चेहरों पे निगाह जाये
पर एक चेहरे पे ये जान चली जाती है

चांदनी रातो में याद तेरी आती है
क्या कहूँ यार कितना तडपाती है
चांदनी रातो में याद तेरी आती है
क्या कहूँ यार कितना तडपाती है
दिल को बहलाती है, दिल को तरसाती है
दिल को बहलाती है, दिल को तरसाती है
जानेमन जाने जाना जान चली जाती है
चांदनी रातो में याद तेरी आती है
क्या कहूँ यार कितना तडपाती है

No comments:

Post a comment