19 June 2015

Lyrics Of "Ik Tu Hi" From Movie - Mausam (2011)

Ik Tu Hi
Ik Tu Hi
Lyrics Of Ik Tu Hi From Movie - Mausam (2011):  A Heart touching song sung by Hans Raj Hans Featuring Shahid Kapoor and Sonam Kapoor.

Singer: Hans Raj Hans
Music: Pritam Chakraborty
Lyrics: Irshad Kamil
Star Cast: Shahid Kapoor, Sonam Kapoor, Anupam Kher, Supriya Pathak, Aditi Sharma, Manoj Pahwa, Lorna Anderson



The Video of this song is available on Youtube at the Channel T-Series. The Video is of 2 minutes and 56 seconds duration.







Lyrics of "Ik Tu Hi"



tera shehar jo piche chhut raha
kuch andar andar tutt raha
hairaan hai mere do naina
ye jharna kaha se phut raha
jab jab chaaha tune rajj ke rulaaya
jab jab chaaha tune khul ke hasaaya
jab jab chaaha tune khudme milaaya
ik tu hi tu hi tu hi tu hi tu hi tu hi
jab jab chaaha tune rajj ke rulaaya
jab jab chaaha tune khul ke hasaaya
jab jab chaaha tune khudme milaaya
ik tu hi tu hi tu hi tu hi tu hi tu hi
ik tu hi tu hi tu hi tu hi tu hi tu hi

mainda toh hai rab kho gaya
mainda toh hai haye sab kho gaya
teriyan mohabbatan ne lutt putt saaya
teriyan mohabbatan ne sacheya sataaya
khaali hath modhi naa tu, khaali hath aaya
mainda toh hai rab kho gaya
mainda toh hai haye sab kho gaya
jab jab chaaha tune rajj ke rulaaya
jab jab chaaha tune khul ke hasaaya
jab jab chaaha tune khudme milaaya
ik tu hi tu hi tu hi tu hi tu hi tu hi
jab jab chaaha tune rajj ke rulaaya
jab jab chaaha tune khul ke hasaaya
jab jab chaaha tune khudme milaaya
ik tu hi tu hi tu hi tu hi tu hi tu hi
ik tu hi tu hi tu hi tu hi tu hi tu hi

kaanch pe chalna, aanch me jalna
jitne bhi dard hai maaye seh na sake ye jindadi
zehar ko pee ke, suli pe jee ke
nikle jo dum kabhi toh inn dardo se chhute jindadi
yun waqt kate meri jaan kate
armaan sabhi tukdon me bante
kaanch pe chalna, aanch me jalna
jitne bhi dard hai maaye seh na sake ye jindari
teriyan judaaiyan aggey dukh saare chhote
teriyan judaaiyan aggey sukh saare khote
pal pal hote mere dil de hai tote
mainda toh hai rab kho gaya

dil ki gaagar se saat sagar se chhalke hai to kyun ye
paancho dariya bhi hairaan ho gaye
saaz tan mann ke, sone se khanke
saath mere tha jab mera ab toh ye viran ho gaye
tere gham ko mitawaan, kaise tujhko bhulawan
kaise lagiya nibhawaa, kaise bhichde ko paawan kaise
dil ki gaagar se saat sagar se
chhalke hai to kyun ye
paancho dariya bhi hairaan ho gaye
teriyan mohabbatan ne haqq bhi diye hai
teriyan mohabbatan ne dukh bhi diye hai
tere bina lakh vaari marr ke jiye hain
mainda toh hai rab kho gaya
jab jab chaaha tune rajj ke rulaaya
jab jab chaaha tune khul ke hasaaya
jab jab chaaha tune khudme milaaya
ik tu hi tu hi tu hi tu hi tu hi tu hi
jab jab chaaha tune rajj ke rulaaya
jab jab chaaha tune khul ke hasaaya
jab jab chaaha tune khudme milaaya
ik tu hi tu hi tu hi tu hi tu hi tu hi
ik tu hi tu hi tu hi tu hi tu hi tu hi


Lyrics in Hindi (Unicode) of "इक तु ही"



तेरा शहर जो पीछे छुट रहा
कुछ अंदर अंदर टूट रहा
हैरान हैं मेरे दो नैना
ये झरना कहा से फुट रहा
जब जब चाहा तूने रज्ज के रुलाया
जब जब चाहा तूने खुल के हसाया
जब जब चाहा तूने खुदमे मिलाया
इक तू ही तू ही तू ही तू ही तू ही तू ही
जब जब चाहा तूने रज्ज के रुलाया
जब जब चाहा तूने खुल के हसाया
जब जब चाहा तूने खुदमे मिलाया
इक तू ही तू ही तू ही तू ही तू ही तू ही
इक तू ही तू ही तू ही तू ही तू ही तू ही

मैंडा तो है रब खो गया
मैंडा तो है हाए सब खो गया
तेरिया मोहब्बता ने लुट पुट साया
तेरिया मोहब्बता ने सच्चेया सताया
खाली हाथ मोड़ी ना तू, खाली हाथ आया
मैंडा तो है रब खो गया
मैंडा तो है हाए सब खो गया
जब जब चाहा तूने रज्ज के रुलाया
जब जब चाहा तूने खुल के हसाया
जब जब चाहा तूने खुदमे मिलाया
इक तू ही तू ही तू ही तू ही तू ही तू ही
जब जब चाहा तूने रज्ज के रुलाया
जब जब चाहा तूने खुल के हसाया
जब जब चाहा तूने खुदमे मिलाया
इक तू ही तू ही तू ही तू ही तू ही तू ही
इक तू ही तू ही तू ही तू ही तू ही तू ही

कांच पे चलना, आंच मैं जलना
जितने भी दर्द है माये सेह ना सके ये जिंदडी
जेहर को पि के, सूली पे जी के
निकले जो दम कभी तो इन दर्द से छुटे जींदडी
यु वक्क कटे मेरी जान कटे
अरमान सभी टुकडो मैं बनते
कांच पे चलना, आंच मैं जलना
जितने भी दर्द है माये सेह ना सके ये जिंदडी
तेरिया जुदाइया आगे दुख सारे छोटे
तेरिया जुदाइया आगे सुख सारे खोटे
पल पल होते मेरे दिल दे है टोटे
मैंडा तो है, रब खो गया

दिल की गागर से सात सागर से छलके है तो क्यों ये
पांचो दरिया भी हैरान हो गए
साज तन मन के, सोने से खनके
साथ मेरे था जब मेरा अब तो ये वीरा हो गए
तेरे गम को मिटवा कैसे तुझको भुलावा
कैसे लगिय निभावा, कैसे बिचड़े को पावा कैसे
दिल की गागर से सात सागर से छलके है तो क्यों ये
पांचो दरिया भी हैरान हो गए
तेरिया मोहब्बता ने हक़ भी दिए है
तेरिया मोहब्बता ने दुख भी दिए है
तेरे बिना लख वारि मर के जिए है
मैंडा तो है, रब खो गया
जब जब चाहा तूने रज्ज के रुलाया
जब जब चाहा तूने खुल के हसाया
जब जब चाहा तूने खुदमे मिलाया
इक तू ही तू ही तू ही तू ही तू ही तू ही
जब जब चाहा तूने रज्ज के रुलाया
जब जब चाहा तूने खुल के हसाया
जब जब चाहा तूने खुदमे मिलाया
इक तू ही तू ही तू ही तू ही तू ही तू ही
इक तू ही तू ही तू ही तू ही तू ही तू ही

No comments:

Post a comment