17 June 2015

Lyrics Of "Purana Yaar" From Latest Album - Ehsaas Ki Khushboo (2015)

Purana Yaar
Purana Yaar
Lyrics Of Purana Yaar From Album - Ehsaas Ki Khushboo (2015): A pop song sung by Pooja Gaitonde & music composed by Ali - Ghani.

Singer: Pooja Gaitonde
Music: Ali - Ghani
Lyrics: N/A







Lyrics of "Purana Yaar"



purana yaar jab milta hain koi puchh leta hoon
purana yaar jab milta hain koi puchh leta hoon
watan mein woh jo kachcha ghar tha mera
ab woh kaisa hain
purana yaar jab milta hain koi puchh leta hoon
watan mein woh jo kachcha ghar tha mera
ab woh kaisa hain
purana yaar jab milta hain koi puchh leta hoon

wo sab mitti ki deeware zara jo sar se unchi thi
kahin aadi kahin tirchhi ke jo bilkul na sidhi thi
thi un par ek chhat lohe ke be tip patron ki
woh patre aandhiyaan chalti toh
aksar udd bhi jaate they
kabhi woh tut jaate they
kabhi woh tut jaate they kabhi woh mud bhi jaate they
naya ghar jaa nikal aata thaa baarish ke zamane mein
ke ghehne maa ke beek jaate they
us mausam suhaane mein
purana yaar jab milta hain koi puchh leta hoon

woh kachcha ghar hi tha apni zameen aur aasmaan apna
ke jiski dhool mitti mein basaa thaa ek jahaan apna
use maa lipati thi pot-ti thi aur sajati thi
use maa lipati thi pot-ti thi aur sajati thi
ke kachche ghar ko woh nadaan ek jannat banati thi
ke ek jannat banati thi
purana yaar jab milta hain koi puchh leta hoon

mohabbat thi use us ghar ke ek ek zarre zarre se
mohabbat thi use us ghar ke ek ek zarre zarre se
ki jiski dhool mein ek roz woh bhi ho gayi mitti
zanaja jab utha toh sab daro deewar roye the
mila ek umra ka banvaas mujhko apne us ghar se
jahaan bachpan guzara kat gaya rishta usi dar se
woh kachcha ghar azizo ne mere ab bech daala hain
khuda jaane wahaa kya ho gaya
kya hone wala hain, kya hone wala hain

purana yaar jab milta hain koi puchh leta hoon
watan mein woh jo kachcha ghar tha mera
purana yaar jab milta hain koi puchh leta hoon


Lyrics in Hindi (Unicode) of "पुराना यार"


पुराना यार जब मिलता हैं कोई पूछ लेता हूँ
पुराना यार जब मिलता हैं कोई पूछ लेता हूँ
वतन मे वो जो कच्चा घर था मेरा
अब वो कैसा हैं
पुराना यार जब मिलता हैं कोई पूछ लेता हूँ
वतन मे वो जो कच्चा घर था मेरा
अब वो कैसा हैं
पुराना यार जब मिलता हैं कोई पूछ लेता हूँ

वो सब मिट्टी की दीवारे ज़रा जो सर से ऊँची थी
कही आड़ी कही तिरछी के जो बिलकुल ना सीधी थी
थी उन पर एक छत लोहे के बे टिप पतरो की
वो पतरे आंधियाँ चलती तो
अक्सर उड़ भी जाते थे
कभी वो टूट जाते थे
कभी वो टूट जाते थे कभी वो मुड भी जाते थे
नया घर जा निकल आता था बारिश के ज़माने मे
के गहने माँ के बीक जाते थे
उस मौसम सुहाने मे
पुराना यार जब मिलता हैं कोई पूछ लेता हूँ

वो कच्चा घर ही था अपनी ज़मीन और आसमान अपना
के जिसकी धुल मिट्टी मे बसा था एक जहाँ अपना
उसे माँ लिपती थी पोतती थी और सजाती थी
उसे माँ लिपती थी पोतती थी और सजाती थी
के कच्चे घर को वो नादान एक जन्नत बनाती थी
के एक जन्नत बनाती थी
पुराना यार जब मिलता हैं कोई पूछ लेता हूँ

मोहब्बत थी उसे उस घर के एक एक ज़र्रे ज़र्रे से
मोहब्बत थी उसे उस घर के एक एक ज़र्रे ज़र्रे से
की जिसकी धुल मे एक रोज़ वो भी हो गयी मिट्टी
ज़नाज़ा जब उठा तो सब दरो दिवार रोए थे
मिला एक उम्र का बनवास मुझको अपने उस घर से
जहाँ बचपन गुज़ारा कट गया रिश्ता उसी दर से
वो कच्चा घर अजीजो ने मेरे अब बेच डाला हैं
खुदा जाने वहा क्या हो गया
क्या होने वाला हैं, क्या होने वाला हैं

पुराना यार जब मिलता हैं कोई पूछ लेता हूँ
वतन मे वो जो कच्चा घर था मेरा
पुराना यार जब मिलता हैं कोई पूछ लेता हूँ

No comments:

Post a comment