26 June 2015

Lyrics Of "Resham Ka Dupatta Phaad Diya" From Movie - Do Dilon Ke Khel Mein (2010)

Resham Ka Dupatta Phaad Diya
Resham Ka Dupatta Phaad Diya
Lyrics Of Resham Ka Dupatta Phaad Diya From Movie - Do Dilon Ke Khel Mein (2010): An item song sung by Rekha Bhardwaj & music composed by Daboo Malik.
Singer: Rekha Bhardwaj
Music: Daboo Malik
Lyrics: Vijay Akela
Star Cast: Rajesh Khanna, Nausheen Ali Sardar, Rohit Nayar, Satish Kaushik, Anu Kapoor, Kiran Juneja, Kishori Shahane.


The video of this song is available on youtube.

Lyrics of "Resham Ka Dupatta Phaad Diya"


mera mursheed rehbar ishq hi hai
mera savn patjhad ishq hi hai
ishq hi hai, ishq hai
ishq hi hai, ishq hai

sona mitti mein gaad diya
resham ka dupatta phad diya
sona mitti mein gaad diya
resham ka dupatta phad diya
sab kehte hai isne bhang pee hai
maine ishq mein choli rang li hai
maine ishq mein choli rang li hai
maine ishq mein choli rang li hai

ab bhook mujhe lagti hi nahi
ab pyas meri jagti hi nahi
ab bhook mujhe lagti hi nahi
ab pyas meri jagti hi nahi
ghar baar chuta sansar chuta
har tarah ka vyapar chuta
duniya ne sooli, hai sooli, hai sooli
duniya ne sooli tang di hai
maine ishq mein choli rang li hai
maine ishq mein choli rang li hai

mera murshid rehbar ishq hi hai
mera savan patjhad ishq hi hai
mera murshid rehbar ishq hi hai
mera savan patjhad ishq hi hai
sab kehne lage mujhko hadi
main to ho baithi darbeshi
o meri halat mast, ho mast, ho mast
meri halat mast malang si hai
maine ishq mein choli rang li hai
sona mitti mein gaad diya
resham ka dupatta phaad diya
sab kehte hai iss ne bhang pee hai
maine ishq mein choli rang li hai
maine ishq mein choli rang li hai
maine ishq mein choli rang li hai

Lyrics in Hindi (Unicode) of "रेशम का दुपट्टा फाड़ दिया"


मेरा मुर्शीद रह्गुजर इश्क ही हैं
मेरा सावन पतझड़ इश्क ही हैं
इश्क ही हैं, इश्क हैं
इश्क ही हैं, इश्क हैं

सोना मिटटी में गाड दिया
रेशम का दुपट्टा फाड़ दिया
सोना मिटटी में गाड दिया
रेशम का दुपट्टा फाड़ दिया
सब कहते हैं इसने भांग पि हैं
मैंने इश्क में चोली रंग ली हैं
मैंने इश्क में चोली रंग ली हैं
मैंने इश्क में चोली रंग ली हैं

अब भूख मुझे लगती ही नहीं
अब प्यास मेरी जगती ही नहीं
अब भूख मुझे लगती ही नहीं
अब प्यास मेरी जगती ही नहीं
घर बार छूटा संसार छुटा
हर तरह का व्यापार छुटा
दुनिया ने सूली, हैं सूली, है सूली
दुनिया ने सूली टंग दी हैं
मैंने इश्क में चोली रंग ली हैं
मैंने इश्क में चोली रंग ली हैं

मेरा मुर्शीद रहबर इश्क ही हैं
मेरा सावन पतझड़ इश्क ही हैं
मेरा मुर्शीद रहबर इश्क ही हैं
मेरा सावन पतझड़ इश्क ही हैं
सब कहने लगे मुझको हादी
मैं तो हो बैठी दर्बेशी
ओ मेरी हालत मस्त, हो मस्त, हो मस्त
मेरी हालत मस्तमलंग सी हैं
मैंने इश्क में चोली रंग ली हैं
सोना मिटटी में गाड दिया
रेशम का दुपट्टा फाड़ दिया
सब कहते हैं इसने भांग पि हैं
मैंने इश्क में चोली रंग ली हैं
मैंने इश्क में चोली रंग ली हैं
मैंने इश्क में चोली रंग ली हैं
 

No comments:

Post a comment