27 June 2015

Lyrics Of "Rubayee More Raaton Ke" From Movie - Click (2010)

Rubayee More Raaton Ke
Rubayee More Raaton Ke
Lyrics Of Rubayee More Raaton Ke From Movie - Click (2010): Beautiful love song sung by Raaj featuring Shreyas Talpade & Sadaa.

Singer: Raaj
Music: Shamir Tandon
Lyrics: Shabbir Ahmed
Star Cast: Shreyas Talpade, Sadaa, Sneha Ullal, Rehan Khan, Chunky Pandey, Avtar Gill, Riya Sen, Shishir Sharma.




Lyrics of "Rubayee More Raaton Ke"


rubayee mere raato ke khwabo ki
rubayee ibadat meri saanso ki
wo lafjo se tarashi hai meri socho ki khwaish hai
aankho ne seecha dil ne pirohya mere humrahi
rubayee teri raato ke khwabo ki
rubayee ibadat teri saanso ki
main lafjo se tarashi hu teri socho ki khwaish hu
aankho ne seecha dil ne piroya mere humrahi

teri haya jazbaat ki shaake chuye
ek anchuye ehsas me hum gum huye
teri haya jazbaat ki shaake chuye
ek anchuye ehsas me hum gum huye
misro ki bandish hai tu
tujh me hu main mujh me hai tu
aankho ne seecha dil ne piroya mere humrahi
rubayi rubayi

besud mere afkar se lipati rahi
vo maheru is jahan mein firti rahi
besud mere afkar se lipati rahi
vo maheru is jahan mein firti rahi
jau ke talak badta raha aur main use padta raha
aankho ne seecha dil ne piroya mere humrahi
rubayi rubayi
rubayee teri raato ke khwabo ki
rubayee ibadat meri saanso ki
main lafjo se tarashi hu teri socho ki khwaish hu
aankho ne seecha dil ne piroya mere humrahi


Lyrics in Hindi (Unicode) of "रुबाई मोरे रातो के"


रुबाई मेरे रातो के ख्वाबो की
रुबाई इबादत मेरी साँसों की
वो लफ्जो से तराशी है मेरी सोचो की ख्वाइश है
आँखों ने सींचा दिल ने पिरोया मेरे हमराही
रुबाई मेरे रातो के ख्वाबो की
रुबाई इबादत मेरी साँसों की
वो लफ्जो से तराशी है मेरी सोचो की ख्वाइश है
आँखों ने सींचा दिल ने पिरोया मेरे हमराही

तेरी हया जजबात की शाखे छुए
एक अनछुए एहसास में हम गुम हुए
तेरी हया जज्बात की शाखे छुए
एक अनछुए एहसास में हम गुम हुए
मिस्रो की बंदिश है तू
तुझ में हु मैं मुझ में है तू
आँखों ने सींचा दिल ने पिरोया मेरे हमराही
रुबाई रुबाई

बेसुद मेरे अफकार से लिपटी रही
वो माहेरू इस जहन में फिरती रही
बेसुद मेरे अफकार से लिपटी रही
वो माहेरू इस जहन में फिरती रही
जौ के तलक बढता रहा और मैं उसे पढता रहा
आँखों ने सींचा दिल ने पिरोया मेरे हमराही
रुबाई रुबाई
रुबाई मेरे रातो के ख्वाबो की
रुबाई इबादत मेरी साँसों की
वो लफ्जो से तराशी है मेरी सोचो की ख्वाइस है
आँखों ने सींचा दिल ने पिरोया मेरे हमराही

No comments:

Post a comment