24 June 2015

Lyrics Of "Sapney" From Gul Panag's Movie - Turning 30!!! (2011)

Sapney
Sapney
Lyrics Of Sapney From Movie - Turning 30!!! (2011):  A Inspirational song sung by Suhas Shetty Featuring Gul Panag.

Singer: Suhas Shetty
Music: Siddharth Suhas
Lyrics: Kumaar
Star Cast: Purab Kohli, Gul Panag, Tillotama Shome, Anita Kanwar, Siddharth Makkar






The Video of this song is available on Youtube.









Lyrics of "Sapney"



sapne, khile hue rango se
udhe hue patango se, ambar se hai unche
tukde, bujhe hue suraj ke abhi abhi hai chamke
roshan hai umeede, dee subah ne aahte
saare armaan neendo se jaage hai
ab toh peeche kuch nahi
jinhe milna hai manzar woh aage hai

khudko dhoonda yahan doosro me
bas batakte rahe faaslon me
waqt banke lehar beh gaya
jaate jaate madar keh gaya
jise doondhte hai woh
khushi apne andar hi rehti hai
hai khudme jahan tera
zindagi bhi humse yeh kehti hai

ab hai chehra naya manzilon ka
ab safar hai naye silsilon ka
humsafar banke yeh hausla
nayi disha me kahin le chala
mila hai jo raasta
inn kadmon me chalne ki khwaish hai
jinne dekha door se
unn lamho ko chune ki koshish hai

sapne, khile hue rango se
udhe hue patango se, ambar se hai unche
tukde, buje hue suraj ke abhi abhi hai chamke
roshan hai umeedein, dee subah ne aahte
saare armaan neendon se jaage hai
ab toh peeche kuch nahi
jinhe milna hai manzar woh aage hai


Lyrics in Hindi (Unicode) of "सपने"



सपने, खिले हुए रंगों से
उड़े हुए पतंगों से, अम्बर से हैं ऊँचे
टुकड़े, बुझे हुए सूरज के अभी अभी हैं चमके
रौशन हैं उमीदें दी सुबह ने आहटे
सारे अरमान नीदों से जागे हैं
अब तो पीछे कुछ नहीं
जिन्हें मिलना है मंज़र वो आगे हैं

खुदको ढूँढा यहाँ दूसरों में
बस भटकते राहें फासलों में
वक्त बनके लहर बह गया
जाते जाते मदर कह गया
जिसे ढूँढ़ते हैं वो
खुशी अपने अंदर ही रहती है
है खुदमें जहाँ तेरा
जिंदगी भी हमसे ये कहती है

अब है चेहरा नया मंजिलों का
अब सफर है नए सिलसिलों का
हमसफ़र बनके ये हौंसला
नयी दिशा में कहीं ले चला
मिला है जो रास्ता
इन क़दमों में चलने की ख्वाइश है
जिन्हें देखा दूर से
उन लम्हों को छूने की कोशिश है

सपने, खिले हुए रंगों से
उड़े हुए पतंगों से, अम्बर से हैं ऊँचे
टुकड़े, बुझे हुए सूरज के अभी अभी हैं चमके
रौशन हैं उमीदें दी सुबह ने आहटे
सारे अरमान नीदों से जागे हैं
अब तो पीछे कुछ नहीं
जिन्हें मिलना है मंज़र वो आगे हैं

No comments:

Post a comment