12 June 2015

Lyrics Of "Shab Ko Roz Jaga Deta Hai" From Movie - Tera Kya Hoga Johny (2011)

Shab Ko Roz Jaga Deta
Shab Ko Roz Jaga Deta
Lyrics Of Shab Ko Roz Jaga Deta Hai From Movie - Tera Kya Hoga Johny (2011):  A Playful  Song sung by Pankaj Awasthi Featuring Neil Nitin Mukesh, Soha Ali Khan, Kay Kay Menon and Shahana Goswami.

Singer: Pankaj Awasthi
Music: Pankaj Awasthi
Lyrics: Surendra Chaturvedi
Star Cast: Neil Nitin Mukesh, Soha Ali Khan, Kay Kay Menon, Shahana Goswami, Karan Nath, Saurabh Shukla



The Video of this song is available on youtube at the Channel Unisysmusic. The Video is of 3 minutes and 01 seconds duration.






Lyrics of "Shab Ko Roz Jaga Deta"



shab ko roz jaga deta hai
shab ko roz jaga deta hai
kaisi khwab saza deta hai
mujhe band kamre me rakh
mujhe band kamre me rakh
kyu tu pankh laga deta hai
kyu tu pankh laga deta hai
kyu tu pankh laga deta hai
shab ko roz jaga deta hai
kaisi khwab saza deta hai

ruh me jab main dhalna chahu
ruh me jab main dhalna chahu
ruh me jab main dhalna chahu
tu ek jism bana deta hai
tu ek jism bana deta hai
shab ko roz jaga deta hai
kaisi khwab saza deta hai
shab ko roz jaga deta hai
kaisi khwab saza deta hai
shab ko roz jaga deta hai
kaisi khwab saza deta hai
shab ko roz jaga deta hai
kaisi khwab saza deta hai
shab ko roz jaga deta hai

jab bhi puchu main haal uska
jab bhi puchu main haal uska
jab bhi puchu main haal uska
jab bhi puchu main haal uska
meri hi ghazal suna deta hai
meri hi ghazal suna deta hai
shab ko roz jaga deta hai


Lyrics in Hindi (Unicode) of "शब् को रोज जगा देता है"



शब को रोज जगा देता है
शब को रोज जगा देता है
कैसी ख्वाब सजा देता हैं
मझे बंद कमरे में रख
मझे बंद कमरे में रख
क्यों तू पंख लगा देता है
क्यों तू पंख लगा देता है
क्यों तू पंख लगा देता है
शब को रोज जगा देता है
कैसी ख्वाब सजा देता हैं

रूह में जब मैं ढलना चाहू
रूह में जब मैं ढलना चाहू
रूह में जब मैं ढलना चाहू
तू इक जिस्म बना देता हैं
तू इक जिस्म बना देता हैं
शब को रोज जगा देता है
कैसी ख्वाब सजा देता हैं
शब को रोज जगा देता है
कैसी ख्वाब सजा देता हैं
शब को रोज जगा देता है
कैसी ख्वाब सजा देता हैं
शब को रोज जगा देता है
कैसी ख्वाब सजा देता हैं
शब को रोज जगा देता है

जब भी पिछु मैं हाल उसका
जब भी पिछु मैं हाल उसका
जब भी पिछु मैं हाल उसका
जब भी पिछु मैं हाल उसका
मेरी ही गजल सुना देता है
मेरी ही गजल सुना देता है
शब को रोज जगा देता है

No comments:

Post a comment