24 June 2015

Lyrics Of "Tinka Tinka Aashaaye" From Gul Panag's Movie - Turning 30!!! (2011)

Tinka Tinka Aashaaye
Tinka Tinka Aashaaye
Lyrics Of Tinka Tinka Aashaaye From Movie - Turning 30!!! (2011):   A Sad song sung by Hamza Faruqui Featuring Gul Panag.

Singer: Hamza Faruqui
Music: Siddharth Suhas
Lyrics: Kumaar
Star Cast: Purab Kohli, Gul Panag, Tillotama Shome, Anita Kanwar, Siddharth Makkar





The Video of this song is available on Youtube.







Lyrics of "Tinka Tinka Aashaaye"



tinka tinka aashaye mann re nai sanjoda
tanha tanha reh jana bun na na ashiyana
ye khwab taa ik din tut jana, o jiya nai jina
o jiya nai jina, re mar jana jag jhuta ab jana
o jiya nai jina, re mar jana jag jhuta ab jana

todh le jaise lo koi diyo se
todh le jaise lo koi diyo se chin le roshni jo akkhiyo se
andhero mein hai zindagi khud se hai kyun berukhi haye
kahan ye dard chupana, o jiya nai jina
ho jiya nai jina, re mar jana jag jhuta ab jana
o jiya nai jina, re mar jana jag jhuta ab jana

udh gaye kyun hai rang chahton ke
kat gaye kyun hai pankh khwaishon ke
suna suna hai kyun safar, badli badli hai har nazar haye
khoyi hain rahe kit jana, o jiya nai jina
ho jiya nai jina, re mar jana jag jhuta ab jana
o jiya nai jina, re mar jana jag jhuta ab jana
tinka tinka aashayen, man re nai sanjoda
tanha tanha reh jana, buna na ashiyana
ye khwab ta ik din tut jana, o jiya nai jina
o jiya nai jina, re mar jana jag jhuta ab jana
o jiya nai jina, re mar jana jag jhuta ab jana
o jiya nai jina


Lyrics in Hindi (Unicode) of "तिनका तिनका आशाए"



तिनका तिनका आशायें मन रे नई संजोदा
तनहा तनहा रह जाना बुन ना ना आशियाना
ये ख्वाब तां इक दिन टूट जाना, ओ जिया नई जीना
ओ जिया नहीं जीना, रे मर जाना जग झूठा अब जाना
ओ जिया नहीं जीना, रे मर जाना जग झूठा अब जाना

तोड़ ले जैसे लो कोई दियों से
तोड़ ले जैसे लो कोई दियों से छीन ले रोशनी जो अंखियों से
अंधेरों में है जिंदगी खुद से है क्यूँ बेरुखी हाए
कहाँ ये दर्द छुपाना, ओ जिया नई जीना
ओ जिया नहीं जीना, रे मर जाना जग झूठा अब जाना
ओ जिया नहीं जीना, रे मर जाना जग झूठा अब जाना

उड़ गए क्यूँ हैं रंग चाहतों के
कट गए क्यूँ है पंख ख्वाइशों के
सुना सुना है क्यूँ सफर, बदली बदली है हर नज़र हाए
खोई है राहें कित जाना, ओ जिया नई जीना
ओ जिया नहीं जीना, रे मर जाना जग झूठा अब जाना
ओ जिया नहीं जीना, रे मर जाना जग झूठा अब जाना
तिनका तिनका आशायें, मन रे नई संजोदा
तनहा तनहा रह जाना, बुनना ना आशियाना
ये ख्वाब तां इक दिन टूट जाना, ओ जिया नई जीना
ओ जिया नहीं जीना, रे मर जाना जग झूठा अब जाना
ओ जिया नहीं जीना, रे मर जाना जग झूठा अब जाना
ओ जिया नहीं जीना

No comments:

Post a comment