22 June 2015

Lyrics Of "Unmaad Ranjit" From Movie - 332 Mumbai To India (2010)

Unmaad Ranjit
Unmaad Ranjit
Lyrics Of Unmaad Ranjit From Movie - 332 Mumbai To India (2010): A song sung by Vinod Rathod & music composed by Shamir Tandon.

Singer: Vinod Rathod
Music: Shamir Tandon
Lyrics: Amal Donwaar
Star Cast: Sharbani Mukherjee, Ali Asgar, Chetan Pandit, Vijay Mishra.




 The audio of this song is available on youtube.

Lyrics of "Unmaad Ranjit"


unmad ranjit krodh vashibhut bharbhav jo sar chada
shuny hasil rah gaya aur thag gaya man bawara
unmad ranjit krodh vashibhut bharbhav jo sar chada
shuny hasil rah gaya aur thag gaya man bawara
shuny hasil rah gaya aur thag gaya man bawara
thag gaya man bawara

dundh aankho par padi sab kyu nahi pehchante
dundh aankho par padi sab kyu nahi pehchante
apni hi miti ka hai ye
apni hi miti ka hai ye putala humsa bana hua
shuny hasil rah gaya aur thag gaya man bawara, bawara

bhumi putar hai kon kitna parshan hai ye vyarth ka
bhumi putar hai kon kitna parshan hai ye vyarth ka
patkhra na daraj koi
patkhra na daraj koi matarisneh jo tolta
shuny hasil rah gaya aur thag gaya man bawara
bawara, bawara, bawara

jivan yagay hai prem ka aahuti kar bhudesh ka
jivan yagay hai prem ka aahuti kar bhudesh ka
bhasam kar antar ka antar
bhasam kar antar ka antar thos kar ye dharana
shuny hasil rah gaya aur thag gaya man bawara
thag gaya man bawara
shuny hasil rah gaya thag gaya man bawara
thag gaya man bawara
shuny hasil rah gaya aur thag gaya man bawara
thag gaya man bawara
sunay hasil rah gaya aur thag gaya man bawara


Lyrics in Hindi (Unicode) of "उन्माद रंजित"


उन्माद रंजित क्रोध वशिबुत भरभव जो सर चडा
शुन्य हासिल रह गया और ठग गया मन बावरा
उन्माद रंजित क्रोध वशिबुत भरभव जो सर चडा
शुन्य हासिल रह गया और ठग गया मन बावरा
शुन्य हासिल रह गया और ठग गया मन बावरा
ठग गया मन बावरा

धुंध आँखों पर पड़ी हैं सब क्यों नहीं पहचानते
धुंध आँखों पर पड़ी हैं सब क्यों नहीं पहचानते
अपनी ही मिटटी का है ये
अपनी ही मिटटी का है ये पुत्त्ला हमसा बना हुआ
शुन्य हासिल रह गया और ठग गया मन बावरा, बावरा

भूमि पुत्र है कौन कितना प्रश्न है ये व्यर्थ का
भूमि पुत्र है कौन कितना प्रश्न है ये व्यर्थ का
पतखरा ना दराज कोई
पतखरा ना दराज कोई मात्रस्नेह जो तोलता
शुन्य हासिल रह गया और ठग गया मन बावरा
बावरा, बावरा, बावरा

जीवन यज्ञ है प्रेम है आहुति कर भूदेश का
जीवन यज्ञ है प्रेम है आहुति कर भूदेश का
भस्म कर अंतर का अंतर
भस्म कर अंतर का अंतर ठोस कर ये धारणा
शुन्य हासिल रह गया और ठग गया मन बावरा
ठग गया मन बावरा
शुन्य हासिल रह गया और ठग गया मन बावरा
ठग गया मन बावरा
शुन्य हासिल रह गया और ठग गया मन बावरा
ठग गया मन बावरा
सुनय हासिल रह गया और ठग गया मन बावरा

No comments:

Post a comment