4 July 2015

Lyrics Of "Barham Hai Hum" From Movie - Lanka (2011)

Barham Hai Hum
Barham Hai Hum
Lyrics Of Barham Hai Hum From Movie - Lanka (2011):  A Playful song sung by Krishnakumar Kunnath (K.K) Featuring Manoj Bajpayee, Arjan Bajwa and Tia Bajpai,

Singer: Krishnakumar Kunnath (K.K)
Music: Gaurav Dagaonkar
Lyrics: Seema Saini
Star Cast: Manoj Bajpayee, Arjan Bajwa, Tia Bajpai, Yashpal Sharma, Manish Choudhary, Yatin Karyekar, Shveta Salve


The Video of this song is available at Youtube at the Channel KhanHDMusicVideos. The Video is of 3 minutes and 57 seconds duration.







Lyrics of "Barham Hai Hum"



ehsaano tale bebas si hai ye hawaaye
ghul rahi hai saanso me jaise zeher si hawaaye
ehsaano tale bebas si hai ye hawaaye
ghul rahi hai saanso me jaise zeher si hawaaye
bemaani si zindagi je rahe hai ham
khairaat si har khushi hai
barham hai hum barham hai hum
barham hai hum barham hai hum

agar gunahgaar hu main mujrim nahi tu bhi kam
khaamosh main bhi dekhu chup tu bhi dekhe sitam
tu toh bhala dara khuda kyu hai bebas tu aise
tu bhi vahi main bhi vahi dono mitti ke jaise
toote hai is dil ke saare bharam
barham hai ham, theraate jaa rahe sitam
barham hai ham, sehera na shota ye khatam
barham hai ham, bebas hamare hai kadam
barham hai ham

kyu bekhabar hai aise khudh ke jahaan se hi tu
tera likha na bhaaye sunle khuda abh ye tu
mann ye mera mujhse kahe dur chalde yahan se
na ho koi naata tere dard ke is jahaan se
jhoote hai saare beroharam
barham hai ham, theraate ja rahe sitam
barham hai ham, sehra na hota ye khatam
barham hai ham, bebas hai hamare kadam
tujhse kya chupa tu toh hai khuda insaan banke dekh
jeene ke liye marte ham rahen tu bhi mar ke dekh
khuda jo ho hame tere sang karlu lakeer
nahi banu mera khuda sab ho meri daleele
chaahu na abh tere rehem o karam
ehsaano thale ghul rahi hai saanso me


Lyrics in Hindi (Unicode) of "बरहम है हम"



एहसानों तले बेबस सी है ये हवाए
घुल रही साँसों में जैसे ज़हर सी हवाये
एहसानों तले बेबस सी है ये हवाए
घुल रही साँसों में जैसे ज़हर सी हवाये
बेईमानो सी जिंदगी जी रहे है हम
खेरात सी हर ख़ुशी है
बरहम है हम बरहम है हम
बरहम है हम बरहम है हम

अगर गुनाहगार हु मैं मुजरिम नहीं तू भी कम
खामोश मै भी देखुचुप तू भी देखे सितम
तू तो भला डरा खुदा क्यों है बेबस तू ऐसे
तू भी वही मै भी वही दोनों मिटटी के जैसे
टूटे है इस दिल के सारे भरम
बरहम है हम, ठराते जा रहे सितम
बरहम है हम, सेहरा ना होते ये ख़त्म
बरहम है हम, बेबस हमारे है कदम
बरहम है हम

क्यों बेखबर है ऐसे खुद के जहाँ से ही तू
तेरा लिखा ना भाए सुनले खुदा अब ये तू
मन ये मेरा मुझसे कहे दूर चलेदे यहा से तु
ना हो कोई नाता तेरे दर्द के इस जहान से
झुटे है सारे बहरोरहम
बरहम है हम, ठराते जा रहे सितम
बरहम है हम, सेहरा ना होते ये ख़त्म
बरहम है हम, बेबस हमारे है कदम
तुझसे क्या छुपा तू तो है खुदा इंसान बनके देख
जीने के लिए मरते हम रहे तू भी मर के देख
खुदा जो हो हमे तेरे संग करलू लकीर
नहीं बनू मेरा खुदा सब हो मेरी दलेर
चाहू ना अब तेरे रहमो करम
एहसानों तले घुल रही है साँसों में

No comments:

Post a comment