15 July 2015

Lyrics Of "Dono Ki Aankhon Mein" From Movie - Prem Kaa Game (2010)

Dono Ki Aankhon Mein
Dono Ki Aankhon Mein
Lyrics Of Dono Ki Aankhon Mein From Movie - Prem Kaa Game (2010): A romantic song sung by Sonu Nigam, Shreya Ghoshal featuring Madhuri Bhattacharya, Arbaaz Khan.

Singer: Sonu Nigam, Shreya Ghoshal
Music: Raju Singh
Lyrics: Javed Akhtar
Star Cast: Arbaaz Khan, Tara Sharma, Madhuri Bhattacharya, Malaika Arora, Rakesh Bedi, Johny Lever, Razzak Khan, Salman Khan.


 The video of this song is available on youtube.


Lyrics of "Dono Ki Aankhon Mein"


dono ki aankhon me jagmagaati hai jo
wo shararat nahin hai
wo shararat nahin hai magar kuch to hai
magar kuch to hai, magar kuch to hai
dono ke chehro pe rang laati hai jo
maana ulfat nahin hai
maana ulfat nahin hai magar kuch to hai
magar kuch to hai, magar kuch to hai

kaun si baat hai jo nigahon me hai
kya hai jo khamoshi ki panahon me hai
dono hi chahatein hain ki milte rahe
kya ye pehla kadam dil ki raahon me hai
dono ko har ghadi paas laati hai jo
maana chaahat nahin hai
maana chaahat nahin hai magar kuch to hai
magar kuch to hai, magar kuch to hai

dhadkane tez hain saans bhi garam hai
jo hawa hai chali kitni wo naram hai
dono me paas aake bhi hain faasle
inko inkaar hai ya koi sharam hai
dono ke honthon pe machle jaati hain jo
wo ijaazat nahin hai haan
wo ijaazat nahin hai magar kuch to hai
magar kuch to hai, magar kuch to hai
dono ki aankhon me jagmagaati hai jo
wo shararat nahin hai
wo shararat nahin hai magar kuch to hai
magar kuch to hai, magar kuch to hai

Lyrics in Hindi (Unicode) of "दोनों की आँखों में"



दोनों की आँखों में जगमगाती है जो
वो शरारत नहीं है
वो शरारत नहीं है मगर कुछ तो है
मगर कुछ तो है, मगर कुछ तो है
दोनों के चेहरों पे रंग लाती है जो
माना उल्फत नहीं है
माना उल्फत नहीं है मगर कुछ तो है
मगर कुछ तो है, मगर कुछ तो है

कौन सी बात है जो निगाहों में है
क्या है जो खामोशी की पनाहों में है
दोनों ही चाहते है की मिलते रहे
क्या ये पहला कदम दिल की राहों में है
दोनों को हर घड़ी पास लाती है जो
माना चाहत नहीं है
माना चाहत नहीं है मगर कुछ तो है
मगर कुछ तो है, मगर कुछ तो है

धड़कने तेज है साँस भी गर्म है
जो हवा है चली कितनी वो नर्म है
दोनों में पास आके भी है फासले
इनको इनकार है या कोई शर्म है
दोनों के होंठों पे मचले जाती है जो
वो इज़ाज़त नहीं है हा
वो इज़ाज़त नहीं है मगर कुछ तो है
मगर कुछ तो है, मगर कुछ तो है

दोनों की आँखों में जगमगाती है जो
वो शरारत नहीं है
वो शरारत नहीं है मगर कुछ तो है
मगर कुछ तो है, मगर कुछ तो है

No comments:

Post a comment