6 July 2015

Lyrics Of "Duniya Me Aate Bhi Kyu" From Movie - Hair Is Falling (2011)

Duniya Me Aate Bhi Kyu
Duniya Me Aate Bhi Kyu
Lyrics Of Duniya Me Aate Bhi Kyu From Movie - Hair Is Falling (2011):  A Playful song sung by Neeraj Shridhar and Music has been Composed by Kamran Ahmed.

Singer: Neeraj Shridhar
Music: Kamran Ahmed
Lyrics: Kamran Ahmed
Star Cast: Rajesh Bhardwaj, Manoj Pawa, Mahendar, Sanjana Tiwari, Priyanka, Bharti




The Audio of this song is available at Youtube.







Lyrics of "Duniya Me Aate Bhi Kyu"



duniya me aake bhi kyu, paisa kamaa ke bhi kyu
sab kuch luta ke bhi kyu dar dar ke jita hai kyu
khushiya mila ke bhi kyu dar dar ke jita hai kyu
sapno me tanha hai kyu itna akela hai kyu
tanha hai kyu tuta huya hai kyu

aata hai jo jata hai kyu
duniya me aake bhi kyu paisa kama ke bhi kyu
sab kuch luta ke bhi kyu
kisike jaane se darta kyu marta hai kyu
aata hai kyu aata hai jo jata hai kyu
kal tak jo tera tha usne saath chhoda hai kyu
khushiyo ki dhup me gham ka chand nikala hai kyu
tanha hai kyu, tuta hai kyu
manav ke jhadne se darta hai kyu
jhuta hai wada hai kyu tuta hai sapna hai kyu
duniya se chhupta hai kyu apni hi baaho me jinda kyu

kya ho gaya sab lutt gaya, jo tha mera sab kho gaya
duniya me aake bhi kyu paisa kama ke bhi kyu
sab kuch luta ke bhi kyu
kisike jaane se darta kyu darta hai kyu
darta kyu marta hai kyu
aata hai kyu aata hai jo jata hai kyu

 

Lyrics in Hindi (Unicode) of "दुनिया मे आके भी क्यु"



दुनिया में आके भी क्यों, पैसा कमा के भी क्यों
सब कुछ लुटा के भी क्यों डर डर के जीता है क्यों
खुशियाँ मिला के भी क्यों डर डर के जीता है क्यों
सपनो में तन्हा है क्यों इतना अकेला है क्यों
तन्हा है क्यों टुटा हुआ है क्यों

आता है जो जाता है क्यों
दुनिया में आके भी क्यों पैसा कमा के भी क्यों
सब कुछ लुटा के भी क्यों
किसी के जाने से डरता क्यों मरता है क्यों
आता है क्यों आता है जो जाता है क्यों
कल तक जो तेरा था उसने साथ छोड़ा है क्यों
खुशियों की धुप में गम का चाँद निकलता है क्यों
तन्हा है क्यों, टुटा है क्या
मानव के झड़ने से डरता है क्यों
झूठा है वादा है क्यों टुटा है सपना है क्या
दुनिया से छुपता है क्यों अपनी ही बाहों में जिंदा क्यों

क्या हो गया सब लुट गया, जो था मेरा सब खो गया
छोड़ ना मेरा हाथ सब खो गया
दुनिया में आके भी क्यों पैसा कमा के भी क्यों
सब कुछ लुटा के भी क्यों
किसी के जाने से डरता क्यों डरता है क्यों
डरता क्यों मरता है क्यों
आता है क्यों आता है जो जाता है क्यों

No comments:

Post a comment