6 July 2015

Lyrics Of "Ishq Me Ruswai" From Movie - College Campus (2011)

Ishq Me Ruswai
Ishq Me Ruswai
Lyrics Of Ishq Me Ruswai From Movie - College Campus (2011):  A Sad song sung by Farid Sabri, Manjira & Udit Narayan and Music has been Composed by Atul Srivastav.

Singer: Farid Sabri, Manjira, Udit Narayan
Music: Atul Srivastav
Lyrics: Sahil Sultanpuri
Star Cast: Jaya Prada, Mohan Joshi, Tej Sapru, Asrani, Milind Gunaji, Vijayendra Ghatge, Razzak Khan, Mukesh Rishi, Govind Namdeo, Mushtaq Khan



The Video of this song is available at Youtube. 







Lyrics of "Ishq Me Ruswai"



tera ishk hai meri jindagi, meri jaan tak tujhpe fida
tu hai mere dil ki dhadkan hona na mujhse juda
ishk chahat, ishk ibaadat, ishk hai deeno imaan
ye junu bhi ye sukun bhi, ye jamin or asmaan
dil ki hai diwangi bhi, ye khuda ka noor hai
ishk me ruswai bhi manjur hai
o ishk me ruswai bhi manjur hai
haye kya kare, kya kare ye dil bada majbur hai
ishk me ruswai bhi manjur hai
ishk me ruswai bhi manjur hai

kya karu kaise sambhalu apne is dil ko sanam
tumse milne ke liye bechain hu rab ki kasam
mujhko na itna rulao sirf itna jaan lo
main hu parchai tumhari, mujhko tum pahchan lo
main hu kitne pas tere ho
main hu kitne pas tere tu hi mujhse dur hai
ishk me ruswai bhi manjur hai
ishk me ruswai bhi manjur hai

ab talak yado ke saye dil me hai chhaye hue
ek jamana ho gaya lab pe hasi aye huye
humko baaho me chupa lo, ab yahi armaan hai
aapke hatho me hi bas ab hamari jaan hai
ishk me darde judai haye
ishk me darde judai ishk ka dastur hai
ishk me ruswai bhi manjur hai
ho ishk me ruswai bhi manjur hai
haye kya kare, kya kare ye dil bada majbur hai
ishk me ruswai bhi manjur hai
ishk me ruswai bhi manjur hai


Lyrics in Hindi (Unicode) of "इश्क मे रुसवाई"



तेरा इश्क हैं मेरी जिंदगी, मेरी जान तक तुझपे फ़िदा
तू हैं मेरे दिल की धड़कन होना न मुझसे जुदा
इश्क चाहत, इश्क इबादत, इश्क हैं दिनों इमान
ये जूनून भी ये सुकून भी, ये जमीं और आसमान
दिल की हैं दीवानगी भी, ये खुदा का नूर हैं
इश्क में रुसवाई भी मंजूर हैं
ओ इश्क में रुसवाई भी मंजूर हैं
हाय क्या करे, क्या करे ये दिल बड़ा मजबूर हैं
इश्क में रुसवाई भी मंजूर हैं
इश्क में रुसवाई भी मंजूर हैं

क्या करू कैसे संभालू अपने इस दिल को सनम
तुमसे मिलने के लिए बेचैन हु रब की कसम
मुझको ना इतना रुलाओ सिर्फ इतना जान लो
मैं हु परछाई तुम्हारी, मुझको तुम पहचान लो
मैं हु कितने पास तेरे हो
मैं हु कितने पास तेरे तू ही मुझसे दूर हैं
इश्क में रुसवाई भी मंजूर हैं
इश्क में रुसवाई भी मंजूर हैं

अब तलक यादो के साए दिल में है छाए हुए
एक जमाना हो गया लब पे हसी आये हुए
हमको बहो में छुपा लो, अब यही अरमान हैं
आपके हाथो में ही बस अब हमारी जान हैं
इश्क में दर्दे जुदाई हाय
इश्क में दर्दे जुदाई इश्क का दस्तूर हैं
हो इश्क में रुसवाई भी मंजूर हैं
हो इश्क में रुसवाई भी मंजूर हैं
हाय क्या करे, क्या करे ये दिल बड़ा मजबूर हैं
इश्क में रुसवाई भी मंजूर हैं
इश्क में रुसवाई भी मंजूर हैं

No comments:

Post a comment