9 July 2015

Lyrics Of "Sar Jhuka To Diya" From Movie - Kuchh Kariye (2010)

Sar Jhuka To Diya
Sar Jhuka To Diya
Lyrics Of Sar Jhuka To Diya From Movie - Kuchh Kariye (2010): A Sufi Qawwali sung by Hans Raj Hans and music composed by Onkar.

Singer: Hans Raj Hans
Music: Onkar
Lyrics: Salim Bijnauri
Star Cast:  Sukhwinder Singh, Vikrum Kumar, Rufy Khan, Shriya Saran, Khuahhish, Deepak Shirke, Mushtaq Khan, Surendra Pal.




Lyrics of "Sar Jhuka To Diya"


alla hu akbar
dil mera kaba, dil mera kaba
dil mera kaba, alla dil mera kaba
dil mera kaba, alla dil mera kaba
dil mera kaba ruh meri jannat
jare jare me hai teri kudrat
dil mera kaba ruh meri jannat
jare jare me hai teri kudrat

sar jhuka to diya dil kabhi na jhuka
sar jhuka to diya dil kabhi na jhuka
aisi kya bandagi, aisi kya bandagi
o aisa sajda bhi kya
sar jhuka to diya dil kabhi na jhuka
sar jhuka to diya dil kabhi na jhuka

risto me banta hua hai, lafjo me fasa hua hai
risto me banta hua hai, lafjo me fasa hua hai
risto me banta hua hai, lafjo me fasa hua hai
peene ke liye mara hai, khali hai magar bhara hai
khali hai magar bhara hai
mai to kafir hu, kya bhala kya bura
mai to kafir hu, kya bhala kya bura
aisi kya bandagi, aisi kya bandagi
o aisa sajda bhi kya
sar jhuka to diya dil kabhi na jhuka
sar jhuka to diya dil kabhi na jhuka
dil mera kaba ruh meri jannat
jare jare me hai teri kudrat

pardo me chupa hua hai, khud pe hi lada hua hai
pardo me chupa hua hai, khud pe hi lada hua hai
pardo me chupa hua hai, khud pe hi lada hua hai
aadat se bada hua hai, chehre pe likha hua hai
chehre pe likha hua hai
mai to jahil hu, kya padha kya likha
mai to jahil hu, kya padha kya likha
aisi kya bandagi, aisi kya bandagi
o aisa sajda bhi kya
sar jhuka to diya dil kabhi na jhuka
sar jhuka to diya dil kabhi na jhuka
dil mera kaba, dil mera kaba
dil mera kaba, dil mera kaba


Lyrics in Hindi (Unicode) of "सर झुका तो दिया"


अल्ला हु अकबर
दिल मेरा काबा, दिल मेरा काबा
दिल मेरा काबा, अल्ला दिल मेरा काबा
दिल मेरा काबा, अल्ला दिल मेरा काबा
दिल मेरा काबा रूह मेरी जन्नत
जरे जरे में हैं तेरी कुदरत
दिल मेरा काबा रूह मेरी जन्नत
जरे जरे में हैं तेरी कुदरत

सर झुका तो दिया दिल कभी ना झुका
सर झुका तो दिया दिल कभी ना झुका
ऐसी क्या बंदगी, ऐसी क्या बंदगी
ओ ऐसा सजदा भी क्या
सर झुका तो दिया दिल कभी ना झुका
सर झुका तो दिया दिल कभी ना झुका

रिश्तो में बंटा हुआ हैं, लफ्जो में फंसा हुआ हैं
रिश्तो में बंटा हुआ हैं, लफ्जो में फंसा हुआ हैं
रिश्तो में बंटा हुआ हैं, लफ्जो में फंसा हुआ हैं
पिने के लिए मरा हैं, खाली हैं मगर भरा हैं
खाली हैं मगर भरा हैं
मैं तो काफ़िर हु, क्या भला क्या बुरा
मैं तो काफ़िर हु, क्या भला क्या बुरा
ऐसी क्या बंदगी, ऐसी क्या बंदगी
ओ ऐसा सजदा भी क्या
सर झुका तो दिया दिल कभी ना झुका
सर झुका तो दिया दिल कभी ना झुका
दिल मेरा काबा रूह मेरी जन्नत
जरे जरे में हैं तेरी कुदरत

पर्दों में छुपा हुआ हैं, खुद पे ही लदा हुआ हैं
पर्दों में छुपा हुआ हैं, खुद पे ही लदा हुआ हैं
पर्दों में छुपा हुआ हैं, खुद पे ही लदा हुआ हैं
आदत से बड़ा हुआ हैं, चेहरे पे लिखा हुआ हैं
चेहरे पे लिखा हुआ हैं
मैं तो जाहिल हु, क्या पढा क्या लिखा
मैं तो जाहिल हु, क्या पढा क्या लिखा
ऐसी क्या बंदगी, ऐसी क्या बंदगी
ओ ऐसा सजदा भी क्या
सर झुका तो दिया दिल कभी ना झुका
सर झुका तो दिया दिल कभी ना झुका
दिल मेरा काबा, दिल मेरा काबा
दिल मेरा काबा, दिल मेरा काबा

No comments:

Post a comment