4 July 2015

Lyrics Of "Sheet Leher" From Movie - Lanka (2011)

Sheet Leher
Sheet Leher
Lyrics Of Sheet Leher From Movie - Lanka (2011):  A Emotional song sung by Sonu Nigam Featuring Arjan Bajwa and Tia Bajpai,

Singer: Shreya Ghoshal
Music: Gaurav Dagaonkar
Lyrics: Seema Saini
Star Cast: Manoj Bajpayee, Arjan Bajwa, Tia Bajpai, Yashpal Sharma, Manish Choudhary, Yatin Karyekar, Shveta Salve



The Video of this song is available at Youtube at the Channel KhanHDMusicVideos. The Video is of 2 minutes and 08 seconds duration.






Lyrics of "Sheet Leher"



sheet leher hai bheege se par hai
thodi si dhoop maangi hai
aankho bhar hai neela gagan hai
aur therha hua paani hai, sheet leher hai

sunsaan raaho pe kyu sharmsaar saaye hai
baduwa si lagti hai kyu kosti hawaye hai
sunsaan raaho pe kyu sharmsaar saaye hai
baduwa si lagti hai kyu kosti hawaye hai
humse kya gunah hua hai kaisi ye sajaye hai
bheegi nazar hai shaamo seher hai
thodi si kher maangi hai
aankho bhar hai neela gagan hai
aur therha hua paani hai, sheet leher hai

tinka tinka raat uudhedo din aazad hai kehdo na
bheetar bheetar kitni uumas hai thodi saanse de do na
thode thode par hai bhole, kuch aakash bhi de do na
bheetar bheetar kitni uumas hai thodi saanse de do na
thodi saanse de do na
gumsum pahaado me jab suraj ye dhalta hai
khare khare aansuo se jakham aur jalta hai
gumsum pahaado me jab suraj ye dhalta hai
khare khare aansuo se zakham aur jalta hai
tairta hai raasto pe ek dhuua sa khalta hai
lamba safar hai bisari dagar hai
thodi si raah maangi hai
aankho bhar hai neela gagan aur
therha hua kuch paani hai, sheet leher hai


Lyrics in Hindi (Unicode) of "शीत लेहर"



शीत लहर है भीगे से पर हैं
थोड़ी सी धुप मांगी है
आँखों भर है नीला गगन है
और ठहरा हुआ पानी है, शीत लहर है

सुनसान राहो पे क्यों शर्मसार साये है
बददुआ सी लगती है क्यों कोसती हावाए हैं
सुनसान राहो पे क्यों शर्मसार साये है
बददुआ सी लगती है क्यों कोसती हावाए हैं
हमसे क्या गुनाह हुआ है कैसी ये सजाए हैं
भीगी नज़र है शामो सेहर है
थोड़ी सी खैर मांगी है
आँखों भर है नीला गगन है
और ठहरा हुआ पानी है, शीत लहर है

तिनका तिनका रात उधेदो दिन आज़ाद है कहदो ना
भीतर भीतर कितनी उमस है थोड़ी साँसे दे दो ना
थोड़े थोड़े पर हैं खोले, कुछ आकाश भी दे दो ना
भीतर भीतर कितनी उमस है थोड़ी साँसे दे दो ना
थोड़ी साँसे दे दो ना
गुमसुम पहाड़ो से जब सूरज ये ढलता है
खारे खारे आँसुओ से ज़ख्म और जलता है
गुमसुम पहाड़ो से जब सूरज ये ढलता है
खारे खारे आँसुओ से ज़ख्म और जलता है
तैरता है रास्तो पे एक धुआ सा खलता है
लम्बा सफ़र है बिसरी डगर है
थोड़ी सी राह मांगी है
आँखों भर है नीला नीला गगन और
और ठहरा हुआ पानी है, शीत लहर है

No comments:

Post a comment