6 July 2015

Lyrics Of "Tanhai Me Khamoshi Se" From Movie - College Campus (2011)

Tanhai Me Khamoshi Se
Tanhai Me Khamoshi Se
Lyrics Of Tanhai Me Khamoshi Se From Movie - College Campus (2011):  A Romantic song sung by Manjira & Shaan and Music has been Composed by Atul Srivastav.

Singer: Manjira, Shaan
Music: Atul Srivastav
Lyrics: Sahil Sultanpuri
Star Cast: Jaya Prada, Mohan Joshi, Tej Sapru, Asrani, Milind Gunaji, Vijayendra Ghatge, Razzak Khan, Mukesh Rishi, Govind Namdeo, Mushtaq Khan
 
The Video of this song is available at Youtube.






Lyrics of "Tanhai Me Khamoshi Se"



tanhai me khamoshi se dil chori se jo kehta hai
tanhai me khamoshi se dil chori se jo kehta hai
kya kahta hai kyo kahata hai
kya kahta hai kyo kahata hai jo kahta hai batlao na
ye pyar hai kya samjhao na, ye pyar hai kya samjhao na
ha tanhai me khamoshi se dil chori se jo kahta hai
tanhai me khamoshi se dil chori se jo kehta hai
kya kehta hai kyo kehta hai
kya kehta hai kyo kehta hai jo kehta hai batlao na
ye pyar hai kya samjhao na, ye pyar hai kya samjhao na

yu shyam dhale beete raate, hum khudse kare khudki baate
yu shyam dhale beete raate, hum khudse kare khudki baate
ye mujhse mere armaan kahe, masum se pal pal khwab bune
ye khwabo ki gujarish hai mohabbat me kho jao na
ye pyar hai kya samjhao na, ye pyar hai kya samjhao na

jis roj najar mil jaati hai chehre pe haya itrati hai
jis roj najar mil jaati hai chehre pe haya itrati hai
halaat kyo aise hai akhir, ham pagal hai kiski khatir
ishk ka nagma bikhar jata hai, yu hawao me koi jane na
ye pyar hai kya samjhao na, ye pyar hai kya samjhao na
ye pyar hai kya samjhao na, ye pyar hai kya samjhao na
ye pyar hai kya samjhao na, ye pyar hai kya samjhao na



Lyrics in Hindi (Unicode) of "तन्हाई मे खामोशी से"



तन्हाई में ख़ामोशी से दिल चोरी से जो कहता हैं
तन्हाई में ख़ामोशी से दिल चोरी से जो कहता हैं
क्या कहता हैं क्यों कहता हैं
क्या कहता हैं क्यों कहता हैं जो कहता हैं बतलाओ ना
ये प्यार हैं क्या समझाओ ना, ये प्यार हैं क्या समझाओ ना
हां तन्हाई में ख़ामोशी से दिल चोरी से जो कहता हैं
तन्हाई में ख़ामोशी से दिल चोरी से जो कहता हैं
क्या कहता हैं क्यों कहता हैं
क्या कहता हैं क्यों कहता हैं जो कहता हैं बतलाओ ना
ये प्यार हैं क्या समझाओ ना, ये प्यार हैं क्या समझाओ ना

यु शाम ढले बीते राते, हम खुद से करे खुदकी बाते
यु शाम ढले बीते राते, हम खुद से करे खुदकी बाते
ये मुझसे मेरे अरमान कहे, मासूम से पल पल ख्वाब बने
ये ख्वाबो की गुजारिश हैं मोहब्बत में खो जाओ ना
ये प्यार हैं क्या समझाओ ना, ये प्यार हैं क्या समझाओ ना

जिस रोज़ नजर मिल जाती हैं चेहरे पे हया इतराती हैं
जिस रोज़ नजर मिल जाती हैं चेहरे पे हया इतराती हैं
हालात क्यों ऐसे हैं आखिर, हम पागल हैं किसकी खातिर
इश्क का नगमा बिखर जाता हैं, यु हवाओ में कोई जाने ना
ये प्यार हैं क्या समझाओ ना, ये प्यार हैं क्या समझाओ ना
ये प्यार हैं क्या समझाओ ना, ये प्यार हैं क्या समझाओ ना
ये प्यार हैं क्या समझाओ ना, ये प्यार हैं क्या समझाओ ना

No comments:

Post a comment