12 July 2015

Lyrics Of "Thori Si Kami Reh Jati Hai" From Movie - Life Express (2010)

Thori Si Kami Reh Jati Hai
Thori Si Kami Reh Jati Hai
Lyrics Of Thori Si Kami Reh Jati Hai From Movie - Life Express (2010): An emotional song sung by Roop Kumar Rathod and lyrics penned by Shakeel Azmi.

Singer: Roop Kumar Rathod
Music: Roop Kumar Rathod
Lyrics: Shakeel Azmi
Star Cast:  Kiran Janjani, Rituparna Sengupta, Divya Dutta, Yashpal Sharma, Alok Nath, Nandita Puri, Daya Shanker Pandey.


 The video of this song is available on youtube.


Lyrics of "Thori Si Kami Reh Jati Hai"


thodi si kami rah jati hai
thodi si kami rah jati hai
thodi si kami rah jati hai
thodi si kami rah jati hai
khilte hai chehre hasti hai ankhe
khilte hai chehre hasti hai ankhe
phir bhi nami rah jati hai
thodi si kami rah jati hai
thodi si kami rah jati hai

khushiyo ke lamhe aate hai milne
mil ke nikal jaate hai kahi
aankho me palke jajbo ko chhalke
sapne pighal jaate hai kahi
shishe pe dil ke wakt ke gam ki
shishe pe dil ke wakt ke gam ki
gard jami rah jati hai
thodi si kami rah jati hai
thodi si kami rah jati hai

raato ka dhalna din ka nikalna
leke ummide aaya savera
kitni umange kitni tarange
karti hai aake dil me basera
udta jo man hai, milta gagn hai
udta jo man hai, milta gagn hai
lekin jami rah jati hai
thodi si kami rah jati hai
thodi si kami rah jati hai

Lyrics in Hindi (Unicode) of "थोड़ी सी कमी रह जाती हैं"


थोड़ी सी कमी रह जाती हैं
थोड़ी सी कमी रह जाती हैं
थोड़ी सी कमी रह जाती हैं
थोड़ी सी कमी रह जाती हैं
खिलते हैं चेहरे हंसती हैं आँखे
खिलते हैं चेहरे हंसती हैं आँखे
फिर भी नमी रह जाती हैं
थोड़ी सी कमी रह जाती हैं
थोड़ी सी कमी रह जाती हैं

खुशियों के लम्हे आते हैं मिलने
मिल के निकल जाते हैं कही
आँखों में पलके जजबो को छलके
सपने पिघल जाते हैं कही
शीशे पे दिल के वक़्त के ग़म की
शीशे पे दिल के वक़्त के ग़म की
गर्द जमी रह जाती हैं
थोड़ी सी कमी रह जाती हैं
थोड़ी सी कमी रह जाती हैं

रातो का ढलना दिन का निकलना
लेके उम्मीदे आया सवेरा
कितनी उमंगें कितनी तरंगे
करती हैं आके दिल में बसेरा
उड़ता जो मन हैं, मिलता गगन हैं
उड़ता जो मन हैं, मिलता गगन हैं
लेकिन जमीं रह जाती हैं
थोड़ी सी कमी रह जाती हैं
थोड़ी सी कमी रह जाती हैं

No comments:

Post a comment