18 August 2015

Lyrics Of "Baat Kya Hai" From Movie - One By Two (2014)

Baat Kya Hai
Baat Kya Hai
Lyrics Of Baat Kya Hai From Movie - One By Two (2014): A sad song sung by Clinton Cerejo featuring Abhay Deol, Preeti Desai.

Singer: Clinton Cerejo
Music: Shankar Ehsaan Loy
Lyrics: Amitabh Bhattacharya
Star Cast: Abhay Deol, Preeti Desai, Rati Agnihotri, Jayant Kriplani, Darshan Jariwala, Lilette Dubey, Anish Trivedi, Smita Jaykar.




The audio of this song is available on youtube at the official channel unisysmusic. This audio is of 5 minutes 03 seconds duration.

Lyrics of "Baat Kya Hai"


baat kya hai baat kya hai
baat kya hai baat kya hai
baat kya hai baat kya hai
baat kya hai baat kya hai
kyu zindagi ka haal muhal hua hai
baat kya hai baat kya hai
baat kya hai baat kya hai
sine pe jaise bojh ye saal hua hai
char diwari me kyu sanse, umra guzaar rahi hai
lagta hai jaise koi karz utar rahi hai
dhire dhire kat ti ye saza hai
jaane kaisi rab ki ye raza hai
sab kuchh hai magar kuch to kami hai
jina aise jina be maza hai ho wo

dimak laga har khushi me
lagti hai sabhi kagazi, kagazi o
saans ki garam chakariya kyu
phunkane lagi aag si, aag si o
hasti meri simti si hai kursi me
sapne mere hain daftar ki arzi me
dhire dhire kat ti ye saza hai
jaane kaisi rab ki ye raza hai
sab kuchh hai magar kuch to kami hai
jina aise jina be maza hai ae

baat kya hai baat kya hai
baat kya hai baat kya hai
baat kya hai baat kya hai
baat kya hai baat kya hai
kyun muskurana band filhal hua hai
baat kya hai baat kya hai
baat kya hai baat kya hai
sine pe jaise bojh ye saal hua hai
char diwari me kyu sanse, umra guzaar rahi hai
lagta hai jaise koi karz utar rahi hai
dhire dhire kat ti ye saza hai
jaane kaisi rab ki ye raza hai
sab kuchh hai magar kuch to kami hai
jina aise jina be maza hai ho wo
baat kya hai baat kya hai
baat kya hai baat kya hai
baat kya hai baat kya hai
baat kya hai baat kya hai

Lyrics in Hindi (Unicode) of "बात क्या है"


बात क्या है बात क्या है
बात क्या है बात क्या है
बात क्या है बात क्या है
बात क्या है बात क्या है
क्यू जिंदगी का हाल मुहाल हुआ है
बात क्या है बात क्या है
बात क्या है बात क्या है
सिने पे जैसे बोझ ये साल हुआ है
चार दिवारी मे क्यू सांसे, उम्र गुजार रही है
लगता है जैसे कोई कर्ज उतार रही है
धीरे धीरे कट ती ये सजा है
जाने कैसी रब की ये रजा है
सब कुछ है मगर कुछ तो कमी है
जीना ऐसे जीना बे मजा है हो वो

दिमक लगा हर खुशी मे
लगती है सभी कागजी, कागजी ओ
साँस की गर्मी चकरिया क्यू
फूंकने लगी आग सी, आग सी ओ
हसती मेरी सिमटी सी है कुर्सी मे
सपने मेरे है दफ्तर की अर्जी मे
धीरे धीरे कट ती ये सजा है
जाने कैसी रब की ये रजा है
सब कुछ है मगर कुछ तो कमी है
जीना ऐसे जीना बे मजा है ऐ

बात क्या है बात क्या है
बात क्या है बात क्या है
बात क्या है बात क्या है
बात क्या है बात क्या है
क्यू जिंदगी का हाल मुहाल हुआ है
बात क्या है बात क्या है
बात क्या है बात क्या है
सिने पे जैसे बोझ ये साल हुआ है
चार दिवारी मे क्यू सांसे, उम्र गुजार रही है
लगता है जैसे कोई कर्ज उतार रही है
धीरे धीरे कट ती ये सजा है
जाने कैसी रब की ये रजा है
सब कुछ है मगर कुछ तो कमी है
जीना ऐसे जीना बे मजा है हो वो
बात क्या है बात क्या है
बात क्या है बात क्या है
बात क्या है बात क्या है
बात क्या है बात क्या है

No comments:

Post a comment