8 August 2015

Lyrics Of "Bade Akshar Mein" From Movie - Babloo Happy Hai (2014)

Bade Akshar Mein
Bade Akshar Mein
Lyrics Of Bade Akshar Mein From Movie - Babloo Happy Hai (2014): A romantic song sung by Bishakh while lyrics penned by Protique Mojoomdar.

Music: Bishakh-Kanish
Lyrics: Protique Mojoomdar
Star Cast: Sahil Anand, Erica Fernandes, Preet Kamal, Sumit Suri, Amol Parashar, Reyhna Malhotra, Parvin Dabas, Anu Choudhury, Khusbhoo Purohit.




Lyrics of "Bade Akshar Mein"


bade-bade akshar me hai, likha har pathar pe hai
manzil hai kitni door, kitni door zyaada ya kum
beech zindagi ke hum ginti gaye hain bhool
bade-bade akshar me hai, likha har pathar pe hai
manzil hai kitni door, kitni door zyaada ya kum
beech zindagi ke hum ginti gaye hain bhool
gin-gin ke din guzaare nahi
raftaar thodi badha le kahi
din duguni raat chauguni
bade-bade akshar me hai, likha har pathar pe hai
manzil hai kitni door, kitni door zyaada ya kum
beech zindagi ke hum ginti gaye hain bhool

andhe the kal ye raste tedhe the
aaj ujalo ke lambe ghere hai
andhe the kal ye raste tedhe the
aaj ujalo ke lambe ghere hai
tasveere jo thi deewar pe kal
dil me utaar aur saath le chal
aankho ke parde pe khinchne lagi
tasveere kitni nayi nayi
din duguni raat chauguni
bade-bade akshar me hai, likha har pathar pe hai
manzil hai kitni door, kitni door zyaada ya kum
beech zindagi ke hum ginti gaye hain bhool

do chaar din hi hai milnewaale
haath badha inse mil le gale
do chaar din hi hai milnewaale
haath badha inse mil le gale
kandhe pe yaaro ke baazu rahe
aankho me door ki aarzu rahe
gin-gin ke taro se nind chura le
aur khwabo ki goliya zyada le le
din duguni raat chauguni
kitni door zyaada ya kum
beech zindagi ke hum ginti gaye hain bhool
bade-bade akshar me hai, likha har pathar pe hai
manzil hai kitni door

ghante nahi hai to lamhe chun le
ghoomke aate rahenge, chun le
ghante nahi hai to lamhe chun le
ghoomke aate rahenge, chun le
har mod pe koyi kadi khadi hai
jud jaye jab wahi sahi ghadi hai
gin-gin ke jodoge jo tum inhe
ghat jaayenge ye saare lamhe
din dugune raat chaugune
bade-bade akshar me hai, likha har pathar pe hai
manzil hai kitni door, kitni door zyaada ya kum
beech zindagi ke hum ginti gaye hain bhool

gin-gin ke din guzaare nahi
raftaar thodi badha le kahi
din duguni raat chauguni
bade-bade akshar me hai, likha har pathar pe hai
manzil hai kitni door, kitni door zyaada ya kum
beech zindagi ke hum ginti gaye hain bhool

Lyrics in Hindi (Unicode) of "बड़े अक्षर में"


बड़े-बड़े अक्षर में हैं, लिखा हर पत्थर पे हैं
मंजिल हैं कितनी दूर, कितनी दूर ज्यादा या कम
बीच ज़िन्दगी के हम गिनती गए हैं भूल
बड़े-बड़े अक्षर में हैं, लिखा हर पत्थर पे हैं
मंजिल हैं कितनी दूर, कितनी दूर ज्यादा या कम
बीच ज़िन्दगी के हम गिनती गए हैं भूल
गिन-गिन के दिन गुज़ारे नहीं
रफ़्तार थोड़ी बढ़ा ले कही
दिन दुगुनी रात चौगुनी
बड़े-बड़े अक्षर में हैं, लिखा हर पत्थर पे हैं
मंजिल हैं कितनी दूर, कितनी दूर ज्यादा या कम
बीच ज़िन्दगी के हम गिनती गए हैं भूल

अंधे थे कल ये रस्ते टेढ़े थे
आज उजालो के लम्बे घेरे हैं
अंधे थे कल ये रस्ते टेढ़े थे
आज उजालो के लम्बे घेरे हैं
तस्वीरे जो थी दिवार पे कल
दिल में उतार और साथ ले चल
आँखों के परदे पे खींचने लगी
तस्वीरे कितनी नयी नयी
दिन दुगुनी रात चौगुनी
बड़े-बड़े अक्षर में हैं, लिखा हर पत्थर पे हैं
मंजिल हैं कितनी दूर, कितनी दूर ज्यादा या कम
बीच ज़िन्दगी के हम गिनती गए हैं भूल

दो चार दिन ही हैं मिलनेवाले
हाथ बढ़ा इनसे मिल ले गले
दो चार दिन ही हैं मिलनेवाले
हाथ बढ़ा इनसे मिल ले गले
कंधे पे यारो के बाजू रहे
आँखों में दूर की आरजू रहे
गिन-गिन के तारो से नींद चुरा ले
और ख्वाबो की गोलिया ज्यादा ले ले
दिन दुगुनी रात चौगुनी
कितनी दूर ज्यादा या कम
बीच ज़िन्दगी के हम गिनती गए हैं भूल
बड़े-बड़े अक्षर में हैं, लिखा हर पत्थर पे हैं
मंजिल हैं कितनी दूर

घंटे नहीं हैं तो लम्हे चुन ले
घूमके आते रहेंगे, चुन ले
घंटे नहीं हैं तो लम्हे चुन ले
घूमके आते रहेंगे, चुन ले
हर मोड़ पे कोई कड़ी खड़ी हैं
जुड़ जाए जब वही सही घडी हैं
गिन-गिन के जोड़ोगे जो तुम इन्हें
घट जायेंगे ये सारे लम्हे
दिन दुगुनी रात चौगुनी
बड़े-बड़े अक्षर में हैं, लिखा हर पत्थर पे हैं
मंजिल हैं कितनी दूर, कितनी दूर ज्यादा या कम
बीच ज़िन्दगी के हम गिनती गए हैं भूल

गिन-गिन के दिन गुज़ारे नहीं
रफ़्तार थोड़ी बढ़ा ले कही
दिन दुगुनी रात चौगुनी
बड़े-बड़े अक्षर में हैं, लिखा हर पत्थर पे हैं
मंजिल हैं कितनी दूर, कितनी दूर ज्यादा या कम
बीच ज़िन्दगी के हम गिनती गए हैं भूल

No comments:

Post a comment