3 August 2015

Lyrics Of "Ek Pal" From Movie - Prague (2013)

Ek Pal
Ek Pal
Lyrics Of Ek Pal From Movie - Prague (2013): A pop song sung by Atif Afzal featuring Chandan Roy Sanyal, Elena Kazan, Arfi Lamba, Sonia Bindra.

Singer: Atif Afzal
Music: Atif Afzal
Lyrics: Varun Grover
Star Cast: Chandan Roy Sanyal, Elena Kazan, Arfi Lamba, Mayank Kumar, Sonia Bindra.





The audio of this song is available on YouTube at the channel CM Bollywood. This audio is of 4 minutes 51 seconds duration.

Lyrics of "Ek Pal"

ek pal dhoop hai, ek pal hai dhuan
ek pal mein hawa, ek pal ka jahaan
ek pal saans hai, ek pal hai jalan
ek pal mein laga chaar pal ka jatan
zara zara mutti khuli mutti khuli
zara zara zara zara zara
aankhein dhuli aankhein dhuli zara

duniya ko sapna kehta hai yeh
saanson ko apna kehta hai yeh
shehar aur jungle ko bhool ke
khud mein hi chhup ke rehta hai

ek pal yaad hai, ek pal hai safar
ek pal mein khatam saans ka yeh safar
ek pal neend hai, ek pal hai bharam
ek pal kar gaya chahaton ko bharam
zara zara mutti khuli mutti khuli
zara zara zara zara zara
aankhein dhuli aankhein dhuli zara

duniya ko sapna kehta hai yeh
saanson ko apna kehta hai yeh
shehar aur jungle ko bhool ke
khud mein hi chhup ke rehta hai

woh pal kahaan se laaye
woh pal kahaan se laaye ye ye
khayalon mein sab kuch na bhool jayein
woh pal kahaan
makdi ki jaalo me jisko fasaya hain
khoya hai khoya hai khoya hai jo
khaya hai khaya hai khaya hai jo

duniya ko sapna kehta hai yeh
saanson ko apna kehta hai yeh
shehar aur jungle ko bhool ke
khud mein hi chhup ke rehta hai


Lyrics in Hindi (Unicode) of "एक पल"


एक पल धुप हैं, एक पल हैं धुआं
एक पल मे हवा, एक पल का जहाँ
एक पल सांस हैं, एक पल हैं जलन
एक पल मे लगा चार पल का जतन
ज़रा ज़रा मुट्ठी खुली मुट्ठी खुली
ज़रा ज़रा ज़रा ज़रा ज़रा
आँखे धुली आँखे धूली ज़रा

दुनिया को सपना कहता हैं ये
साँसों को अपना कहता हैं ये
शहर और जंगल को भूल के
खुद मे ही छुप के रहता हैं

एक पल याद हैं, एक पल हैं सफ़र
एक पल मे ख़तम सांस का ये सफ़र
एक पल नींद हैं, एक पल हैं भरम
एक पल कर गया चाहतो को भरम
ज़रा ज़रा मुट्ठी खुली मुट्ठी खुली
ज़रा ज़रा ज़रा ज़रा ज़रा
आँखे धुली आँखे धूली ज़रा

दुनिया को सपना कहता हैं ये
साँसों को अपना कहता हैं ये
शहर और जंगल को भूल के
खुद मे ही छुप के रहता हैं

वो पल कहाँ से लाये
वो पल कहाँ से लाये ये ये
खयालों मे सब कुछ ना भूल जाए
वो पल कहाँ
मकड़ी की जालो मे जिसको फसाया हैं
खोया हैं खोया हैं खोया हैं जो
खोया हैं खोया हैं खोया हैं जो

दुनिया को सपना कहता हैं ये
साँसों को अपना कहता हैं ये
शहर और जंगल को भूल के
खुद मे ही छुप के रहता हैं



No comments:

Post a comment