25 November 2015

Lyrics Of "Rooh Yeh Qaid Hai" From Latest Movie - Four Pillars Of Basement (2015)

A song sung by Mudasir Ali starring Dillzan Wadia, Bruna Abdullah, Aalya Singh

Singer: Mudasir Ali
Music: N/A
Lyrics: N/A
Star Cast: Dillzan Wadia, Zakir Hussain, Bruna Abdullah, Aalya Singh.





Lyrics of "Rooh Yeh Qaid Hai"


rooh ye qaid hai jism ye qaid hai
bas mein kyo kuch bhi na raha
rooh ye qaid hai jism ye qaid hai
bas mein kyo kuch bhi na raha
tanha si hai dagar sabkuch hai beasar
kis aur mera safar chala
tanha si hai dagar sabkuch hai beasar
kis aur mera safar chala
tanha si hai dagar sabkuch hai beasar
kis aur mera safar chala
rooh ye qaid hai jism ye qaid hai
bas mein kyo kuch bhi na raha
tanha si hai dagar sabkuch hai beasar
kis aur mera safar chala

bhid mein hai tanhai kaisi ghadi ye aai
tujhse kahu main kaisa hai sama
bhid mein hai tanhai kaisi ghadi ye aai
tujhse kahu main kaisa hai sama
rang birangi lage jaise tapis na bujhe
aag barsaane laga aasman
aaye na kuch najar chhaya hai kaisa dar
lamha shahar ka gujar chala
aaye na kuch najar chhaya hai kaisa dar
lamha shahar ka gujar chala
rooh ye qaid hai jism ye qaid hai
bas mein kyo kuch bhi na raha
tanha si hai dagar sabkuch hai beasar
kis aur mera safar chala 


Lyrics in Hindi (Unicode) of "रूह ये कैद है"


रूह ये कैद है जिस्म ये कैद है
बस में क्यों कुछ भी ना रहा
रूह ये कैद है जिस्म ये कैद है
बस में क्यों कुछ भी ना रहा
तन्हा सी है डगर सबकुछ है बेअसर
किस और मेरा सफ़र चला
तन्हा सी है डगर सबकुछ है बेअसर
किस और मेरा सफ़र चला
तन्हा सी है डगर सबकुछ है बेअसर
किस और मेरा सफ़र चला
रूह ये कैद है जिस्म ये कैद है
बस में क्यों कुछ भी ना रहा
तन्हा सी है डगर सबकुछ है बेअसर
किस और मेरा सफ़र चला

भीड़ में है तन्हाई कैसी घड़ी ये आई
तुझसे कहूँ मैं कैसा है समां
भीड़ में है तन्हाई कैसी घड़ी ये आई
तुझसे कहूँ मैं कैसा है समां
रंग बिरंगी लगे जैसे तपिस ना बुझे
आग बरसाने लगा आसमान
आये ना कुछ नजर छाया है कैसा डर  
लम्हा शहर का गुजर चला
आये ना कुछ नजर छाया है कैसा डर  
लम्हा शहर का गुजर चला
रूह ये कैद है जिस्म ये कैद है
बस में क्यों कुछ भी ना रहा
तन्हा सी है डगर सबकुछ है बेअसर
किस और मेरा सफ़र चला

No comments:

Post a comment