7 December 2015

Lyrics Of "Hosh O Hawas" From Latest Movie - Love Exchange (2015).

Hosh O Hawas
Hosh O Hawas
A playful song sung by Shraddha Pandit featuring Mohit Madan, Khushboo Purohit.

Singer: Shraddha Pandit
Music: Jaidev Kumar
Lyrics: Kumaar
Star Cast: Mohit Madan, Jyoti Sharma, Manoj Pahwa, Darshan Jariwala, Shama Deshpande,
Manoj Walia, Prema Gupta.





The video of this song is available on YouTube at the official channel  Zee Music Company. This video is of 2 minutes 43 seconds duration.


Lyrics of "Hosh O Hawas"


hosh o hawaas kho jane de
hota hai jo bhi ab ho jane de
hosh o hawaas kho jane de
hota hai jo bhi ab ho jane de

saason ki is garmi se khud ko pighalne de
ek duje ki baahon me jismon ko khulne de
bundon ke is mausam me jismon ko dhulne de
bundon ko dhire dhire hoton pe khulne de
ek duje ki baahon me jismon ko khulne de
bundon ke is mausam me jismon ko dhulne de
bundon ko dhire dhire hoton pe khulne de

meri ankhon me hai nashe ki ek chingari
jitni aag hai isme tujhko pila dun saari
meri ankhon me hai nashe ki ek chingari
jitni aag hai isme tujhko pila dun saari
mere saath chalne ki tu karle ab tyaari
duri bardash hogi nahi
jo me kahun ab hoga wahi
mere isharon pe tu khud ko ab chalne de
ek duje ki baahon me jismon ko khulne de
bundon ke is mausam me jismon ko dhulne de
bundon ko dhire dhire hoton pe khulne de

tu chahe to tujhko de dun saari raate
pyar chodkar ke karle baaki saari baate
tu chahe to tujhko de dun saari raate
pyar chodkar ke karle baaki saari baate
tujhse tujhko le jaaungi main to aaj chura ke
jitni bhi hai mujh me sharam
kehta hai dil ye karde khatam
mujhko ab dhire dhire khud me tu dhalne de
ek duje ki baahon me jismon ko khulne de
bundon ke is mausam me jismon ko dhulne de
bundon ko dhire dhire hoton pe khulne de 



Lyrics in Hindi (Unicode) of "होश ओ हवास"


होश ओ हवास खो जाने दे
होता है जो भी अब हो जाने दे
होश ओ हवास खो जाने दे
होता है जो भी अब हो जाने दे

साँसों की इस गर्मी से खुद को पिघलने दे
एक दूजे की बाहों में जिस्मों को खुलने दे
बूंदों के इस मौसम में जिस्मों को धुलने दे
बूंदों को धीरे धीरे होंठों पे खुलने दे
एक दूजे की बाहों में जिस्मों को खुलने दे
बूंदों के इस मौसम में जिस्मों को धुलने दे
बूंदों को धीरे धीरे होंठों पे खुलने दे

मेरी आँखों में है नशे की एक चिंगारी
जितनी आग है इसमें तुझको पिला दूँ सारी
मेरी आँखों में है नशे की एक चिंगारी
जितनी आग है इसमें तुझको पिला दूँ सारी
मेरे साथ चलने की तू करले अब तयारी
दुरी बर्दाश होगी नहीं
जो में कहूँ अब होगा वही
मेरे इशारों पे तू खुद को अब चलने दे
एक दूजे की बाहों में जिस्मों को खुलने दे
बूंदों के इस मौसम में जिस्मों को धुलने दे
बूंदों को धीरे धीरे होंठों पे खुलने दे

तू चाहे तो तुझको दे दूँ सारी रातें
प्यार छोडकर के करले बाकी सारी बातें
तू चाहे तो तुझको दे दूँ सारी रातें
प्यार छोडकर के करले बाकी सारी बातें
तुझसे तुझको ले जाउंगी मैं तो आज चुरा के
जितनी भी है मुझमें शरम
कहता है दिल ये करदे खतम
मुझको अब धीरे धीरे खुद में ढलने दे
एक दूजे की बाहों में जिस्मों को खुलने दे
बूंदों के इस मौसम में जिस्मों को धुलने दे
बूंदों को धीरे धीरे होंठों पे खुलने दे 

No comments:

Post a comment