6 December 2015

Lyrics Of "Kisne Yun Mujh Ko" From Latest Movie - Ranviir The Marshal (2015).

Kisne Yun Mujh Ko
Kisne Yun Mujh Ko
Beautiful love song in the voice of K. K, music composed by Ricky Mishra featuring Rishabh Rishi Sharma, Ramnitu Chaudhary.

Music: Ricky Mishra
Lyrics: DR Sagar
Star Cast: Rishabh Rishi Sharma, Ramnitu Chaudhary, Rati Agnihotri, Prateek Parmar, Rajesh Khattar, Shibani Kashyap.




The video of this song is available on YouTube at the official channel Zee Music Company. This video is of 2 minutes 49 seconds duration.

Lyrics of "Kisne Yun Mujh Ko"


kisne yun mujhko chua ke main
pankho ke bin aise udane laga
chahe jaha bhi rahu magar kyun
ja kar ke usse hi judne laga

o raaho mein meri uske
paaon ke nishaan hai
manzil ki jaanib ab to
chlna asaan hai
duriya simatne lagi hain
khwaishein chatkane lagi
kiska wajood hai yahan
koi mojood hai yahan
kisne yun mujhko chua ke main
pankho ke bin aise udane laga

khushbu kawaon mein hai
tu meri duao mein hai
jab se hua hai raabta
tu hai falak pe kahin
dikhti zamin pe nahi
dhundu main tera hi pata
main bhee ab main na raha
khud ko ab dhundu kahan
main hua laapata
kisne yun mujhko chua ke main
pankho ke bin aise udane laga

parinde chehakne lage
paao kyun behakne lage
naksh tu hi hota jaa raha
fizaayein mehakne lagi
khwaishe behakne lagi
ye kya gazab ho raha
door talak jaata hun main
tujhko hi pata hun main
jaaun main jaaun jaha
kisne yun mujhko chua ke main
pankho ke bin aise udane laga
chahe jaha bhi rahu magar kyun
ja kar ke usse hi judne laga 

Lyrics in Hindi (Unicode) of "किसने यूं मुझ को"


किसने यूं मुझको छुआं के मैं
पंखों के बिन ऐसे उड़ने लगा
चाहें जहां भी रहूँ मगर क्यूँ
जा कर के उससे ही जुड़ने लगा

ओ राहों में मेरी उसके
पाऊँ के निशान है
मंजिल की जानिब अब तो
चलना आसान है
दूरियां सिमट ने लगी
ख्वाइशे चटकने लगी
किसका वजूद है यहाँ
कोई मौजूद है यहाँ
किसने यूं मुझको छुआं के मैं
पंखों के बिन ऐसे उड़ने लगा

खुशबू हवाओं में है
तू मेरी दुआओं में है
जब से हुआ है राबता
तू है फलक पे कहीं
दिखती ज़मीं पे नही
ढूंदु मैं तेरा ही पता
मैं भी अब मैं ना रहा
खुद को अब ढूंदु कहाँ
मैं हुआ लापता
किसने यूं मुझको छुआं के मैं
पंखों के बिन ऐसे उड़ने लगा

परिंदे चहकने लगे
पाओं क्यूँ बहकने लगे
नक्श तू ही होता जा रहा
फिजाएं महकने लगी
ख्वाइशे बहकने लगी
ये क्या गज़ब हो रहा
दूर तलक जाता हूँ मैं
तुझको ही पाता हूँ मैं
जाऊं मैं जाऊं जहां
किसने यूं मुझको छुआं के मैं
पंखों के बिन ऐसे उड़ने लगा
चाहें जहां भी रहूँ मगर क्यूँ
जा कर के उससे ही जुड़ने लगा

No comments:

Post a comment