12 December 2015

Lyrics Of "Kitni Khari Insaan Ko Doulat" From Latest Movie - Tere Ishq Mein Qurbaan (2015).

Kitni Khari Insaan Ko Doulat
Kitni Khari Insaan Ko Doulat
Beautiful love song in the voice of Adnan Sami, music composed by Harsh Vyas featuring Sonam Arora, Shobhit Attrey.

Singer: Adnan Sami
Music: Harsh Vyas
Lyrics: Perwez Kaash
Star Cast: Shobhit Attrey, Sonam Arora, Nikhil Sharma, Heeba Shah, Hina Choudhry, S. M. Zheer, Nilima Singh.




The video of this song is available on youtube at the official channel ynr Music. This video is of 1 minutes 33 seconds duration.

Lyrics of "Kitni Khari Insaan Ko Doulat"


kitni khari insaan ko doulat bakshi hai
kitni khari insaan ko doulat bakshi hai
sabse aalaa cheez mohabbat bakshi hai
ho o sabse aalaa cheez mohabbat bakshi hai
kitni khari insaan ko doulat bakshi hai
kitni khari insaan ko doulat bakshi hai
sabse aalaa cheez mohabbat bakshi hai
ho o sabse aalaa cheez mohabbat bakshi hai

rishton ko lazzat ki dor piroti hai
tute jab ye dori toh aankhein roti hai
rishton ko lazzat ki dor piroti hai
tute jab ye dori toh aankhein roti hai
iski hi taasir se pigle patthar
laakh koi juthlaye ye sacha moti hai
jodne wali dil ko karamat bakshi hai
jodne wali dil ko karamat bakshi hai
sabse aalaa cheez mohabbat bakshi hai
ho o sabse aalaa cheez mohabbat bakshi hai

 saare rango ki ik phoolwari hai
iske naam se kaayam saari duniya hai
o ho saare rango ki ik phoolwari hai
iske naam se kaayam duniya saari hai
sakht dilo ko ye mom se piglaaye
aisi pyaari pyaar ki ye chingaari hai
bharke rang nirale nazakat bakshi hai
bharke rang nirale nazakat bakshi hai
sabse aalaa cheez mohabbat bakshi hai
ho o sabse aalaa cheez mohabbat bakshi hai

ho koi anban yaa ruthe dilbar
apno ki takraar bhari ho dil par
ho koi anban yaa ruthe dilbar
apno ki takraar bhari ho dil par
bair dilo ki yeh dil se mitati hai
laati hai ye khushiya gham ke chehro par
sab kismo ki isne maharath bakshi hai
sab kismo ki isne maharath bakshi hai
sabse aalaa cheez mohabbat bakshi hai
oo sabse aalaa cheez mohabbat bakshi hai
sabse aalaa cheez mohabbat bakshi hai

Lyrics in Hindi (Unicode) of "कितनी खरी इंसान को दौलत"


कितनी खरी इंसान को दौलत बक्शी है
कितनी खरी इंसान को दौलत बक्शी है
सबसे आला चीज़ मोहब्बत बक्शी है
हो ओ सबसे आला चीज़ मोहब्बत बक्शी है
कितनी खरी इंसान को दौलत बक्शी है
कितनी खरी इंसान को दौलत बक्शी है
सबसे आला चीज़ मोहब्बत बक्शी है
हो ओ सबसे आला चीज़ मोहब्बत बक्शी है

रिश्तों को लज्ज्त की डोर पिरोती है
टूटे जब ये डोरी तो आँखें रोती हें
हाँ रिश्तों को लज्ज्त की डोर पिरोती है
टूटे जब ये डोरी तो आँखें रोती हें
इसकी ही तासीर से पिघले पत्थर
लाख कोई जुठलाये ये सच्चा मोती है
जोड़ने वाली दिल को करामत बक्शी है
जोड़ने वाली दिल को करामत बक्शी है
सबसे आला चीज़ मोहब्बत बक्शी है
हो ओ सबसे आला चीज़ मोहब्बत बक्शी है

सारे रंगों की एक फुलवारी है
इसके नाम से कायम दुनिया सारी है
ओ हो सारे रंगों की एक फुलवारी है
इसके नाम से कायम दुनिया सारी है
सख्त दिलों को ये मोम से पिघलाए
ऐसी प्यारी प्यार की ये चिंगारी है
भरके रंग निराले नजाकत बक्शी
भरके रंग निराले नजाकत बक्शी
सबसे आला चीज़ मोहब्बत बक्शी है
हो ओ सबसे आला चीज़ मोहब्बत बक्शी है

हो कोई अनबन या रूठे दिलबर
अपनों की तकरार भारी हो दिल पर
हो कोई अनबन या रूठे दिलबर
अपनों की तकरार भारी हो दिल पर
बैर दिलो के ये दिल से मिटाती है
लाती है ये खुशियाँ गम के चेहरों पर
सब किस्मो की इसने महारथ बक्शी है
सब किस्मो की इसने महारथ बक्शी है
सबसे आला चीज़ मोहब्बत बक्शी है
हो ओ सबसे आला चीज़ मोहब्बत बक्शी है
सबसे आला चीज़ मोहब्बत बक्शी है

No comments:

Post a comment