14 December 2015

Lyrics Of "Muskurane Ke Bahane" From Movie - Anuradha (2014).

Muskurane Ke Bahane
Muskurane Ke Bahane
A romantic song sung by Kavita Krishnamurthy featuring Rahul Jain, Disha Choudhary

Singer: Kavita Krishnamurthy
Music: Farzan Faaiz
Lyrics: Faaiz Anwar
Star Cast: Disha Choudhary, Rahul Jain, Sachin Khedekar, Manoj Joshi, Raju Mavani, Smita Jaykar, Hrishita Bhatt.





Lyrics of "Muskurane Ke Bahane"


muskurane ke bahane dhundti hai zindagi
muskurane ke bahane dhundti hai zindagi
har ghadi mausam suhane dhundti hai zindagi
muskurane ke bahane dhundti hai zindagi

thapkiya maa ki meri neend me shamil hai abhi
thapkiya maa ki meri neend me shamil hai abhi
yaado ke kitne khazane dhundti hai zindagi
yaado ke kitne khazane dhundti hai zindagi
har ghadi mausam suhane dhundti hai zindagi
muskurane ke bahane dhundti hai zindagi

wakt ne khul ke sunae nahi abtak ho kabhi
wakt ne khul ke sunae nahi abtak ho kabhi
mahke mahke wo tarane dhundti hai zindagi
mahke mahke wo tarane dhundti hai zindagi
har ghadi mausam suhane dhundti hai zindagi
muskurane ke bahane dhundti hai zindagi

janti hai ke kabhi laut ke aaynge nahi
janti hai ke kabhi laut ke aaynge nahi
fir bhi wo guzre zamane dhundti hai zindagi
fir bhi wo guzre zamane dhundti hai zindagi
har ghadi mausam suhane dhundti hai zindagi
muskurane ke bahane dhundti hai zindagi

surk joda bhi nahi mang me sindur nahi
surk joda bhi nahi mang me sindur nahi
aaj kyu rishte purane dhundti hai zindagi
aaj kyu rishte purane dhundti hai zindagi
har ghadi mausam suhane dhundti hai zindagi
muskurane ke bahane dhundti hai zindagi 


Lyrics in Hindi (Unicode) of "मुस्कुराने के बहाने"


मुस्कुराने के बहाने ढूंडती है जिंदगी
मुस्कुराने के बहाने ढूंडती है जिंदगी
हर घडी मौसम सुहाने ढूंडती है जिंदगी
मुस्कुराने के बहाने ढूंडती है जिंदगी

थपकियाँ माँ की मेरी नींद में शामिल है अभी
थपकियाँ माँ की मेरी नींद में शामिल है अभी
यादो के कितने खजाने ढूंडती है जिंदगी
यादो के कितने खजाने ढूंडती है जिंदगी
हर घडी मौसम सुहाने ढूंडती है जिंदगी
मुस्कुराने के बहाने ढूंडती है जिंदगी

वक्त ने खुल के सुनाए नही अबतक जो कभी
वक्त ने खुल के सुनाए नही अबतक जो कभी
महके महके वो तराने ढूंडती है जिंदगी
महके महके वो तराने ढूंडती है जिंदगी
हर घडी मौसम सुहाने ढूंडती है जिंदगी
मुस्कुराने के बहाने ढूंडती है जिंदगी

जानती है के कभी लौट के आयेंगे नही
जानती है के कभी लौट के आयेंगे नही
फिर भी वो गुज़रे ज़माने ढूंडती है जिंदगी
फिर भी वो गुज़रे ज़माने ढूंडती है जिंदगी
हर घडी मौसम सुहाने ढूंडती है जिंदगी
मुस्कुराने के बहाने ढूंडती है जिंदगी

सूर्ख जोड़ा भी नही मांग में सिन्दूर नही
सूर्ख जोड़ा भी नही मांग में सिन्दूर नही
आज क्यों रिश्ते पुराने ढूंडती है जिंदगी
आज क्यों रिश्ते पुराने ढूंडती है जिंदगी
हर घडी मौसम सुहाने ढूंडती है जिंदगी
मुस्कुराने के बहाने ढूंडती है जिंदगी 

No comments:

Post a comment