12 December 2015

Lyrics Of " Phir Se" From Latest Album - Phir Se (2015).

Phir Se
Phir Se
A motivational song sung by Divya Kumar, music composed by M. M. Kreem and lyrics are penned by Manoj Muntashir featuring Team India.

Singer: Divya Kumar
Music: M. M. Kreem
Lyrics: Manoj Muntashir







The video of this song is available on YouTube at the official channel T-Series. This video is of 2 minutes 20 seconds duration.

Lyrics of "Phir Se"



phir se, phir se, phir se
phir se uchhla lahu naso me
phir se machla junoon rago me
phir se chuma gagan tiranga
phir se dil huaa mast malanga

phir se, phir se, phir se
phir se loha huaa iraada
phir se karte hain hum waada
bhar denge hunkaara phir se
jeetenge hum yaara phir se, phir se, phir se
jeetenge hum yaara phir se, phir se, phir se
koi kheenche hum toote aisi kachchi dor nahi
jeet chuke hain jo duniya hum wohi hain koi aur nahi
aur jakad le, aur pakad le
aur jakad le, aur pakad le
din hai aar ya paar ka
balla nahi ye baaju hai, baaju hai dildaar ka

gagan shamal azaano se hum hauslo me rang bharte hain
ishwar allah waheguru maidaan me sang utarte hain
jaise duniya hai bejod waise hum bejod hain
yaara humko mat gin'na hum ek sau bees karod hain

bahe josh ki dhaara phir se, har nukkad galiyaara phir se
jaaga har chaubaara phir se, chadh gaya jaadu saara phir se
desh mera lalkaara phir se, jeetenge hum yaara phir se
jeetenge hum yaara phir se, jeetenge hum yaara phir se
jeetenge hum yaara phir se, jeetenge hum yaara phir se

Lyrics in Hindi (Unicode) of "फिर से"


फिर से, फिर से, फिर से
फिर से उछला लहू नसों मे
फिर से मचला जूनून रगों मे
फिर से चूमा गगन तिरंगा
फिर से दिल हुआ मस्त मलंगा

फिर से, फिर से, फिर से
फिर से लोहा हुआ इरादा
फिर से करते हैं हम वादा
भर देंगे हुंकार फिर से
जीतेंगे हम यारा फिर से, फिर से, फिर से
जीतेंगे हम यारा फिर से, फिर से, फिर से
कोई खींचे हम टूटे ऐसी कच्ची डोर नहीं
जीत चुके हैं जो दुनिया हम वोही हैं कोई और नही
और जकड ले, और पकड़ ले
और जकड ले, और पकड़ ले
दिन हैं आर या पार का
बल्ला नहीं ये बाजू हैं, बाजू हैं दिलदार का

गगन शामल अजानो से हम हौसलों मे रंग भरते हैं
ईश्वर अल्लाह वाहेगुरु मैदान मे संग उतरते हैं
जैसे दुनिया हैं बेजोड़ वैसे हम बेजोड़ हैं
यारा हमको मत गिन ना हम एक सौ बीस करोड़ हैं

बहे जोश की धारा फिर से, हर नुक्कड़ गलियारा फिर से
जागा हर चौबारा फिर से, चढ़ गया जादू सारा फिर से
देश मेरा ललकारा फिर से, जीतेंगे हम यारा फिर से
जीतेंगे हम यारा फिर से, जीतेंगे हम यारा फिर से
जीतेंगे हम यारा फिर से, जीतेंगे हम यारा फिर से

No comments:

Post a comment