18 February 2016

Lyrics Of "Halka Halka" From Mtv Unplugged 5 - Episode 06 (2016)

Halka Halka
Halka Halka
A traditional qawwali sung by Rahat Fateh Ali Khan featuring him in song video.

Singer: Rahat Fateh Ali Khan
Music: Traditional
Lyrics: Traditional
Features: Rahat Fateh Ali Khan.





The video of this song is available on YouTube at the official channel  MTV Unplugged. This video is of 12 minutes 08 seconds duration.

Lyrics of "Halka Halka"


paas rehta hai, dur rehta hai
paas rehta hai, dur rehta hai
koi dil me zarur rehta hai
koi dil me zarur rehta hai
jab se dekha hai teri aankho ko
jab se dekha hai teri aankho ko
halka halka surur rehta hai
halka halka surur rehta hai
aise rehte ho tum mere dil me
aise rehte ho tum mere dil me
jaise zulmat me noor rehta hai
jaise zulmat me noor rehta hai
ab adam ka ye haal hai har waqt
mast rehta hai, chur rehta hai

yeh jo halka halka surur hai, yeh jo halka halka surur hai
yeh teri nazar ka qasur hai ke sharab pina sikha diya
yeh teri nazar ka qasur hai ke sharab pina sikha diya
ke sharab pina sikha diya
yeh teri nazar ka qasur hai ke sharab pina sikha diya
yeh teri nazar ka qasur hai ke sharab pina sikha diya
yeh teri nazar ka qasur hai ke sharab pina sikha diya
yeh jo halka halka surur hai, yeh jo halka halka surur hai
yeh teri nazar ka qasur hai, yeh teri nazar ka qasur hai
ke sharab pina sikha diya, ke sharab pina sikha diya

tere pyar ne teri chaah ne, tere pyar ne teri chaah ne
teri behki behki nigaah ne mujhe ek sharabi bana diya
teri behki behki nigaah ne mujhe ek sharabi bana diya
teri behki behki nigaah ne mujhe ek sharabi bana diya
teri behki behki nigaah ne mujhe ek sharabi bana diya
teri behki behki nigaah ne mujhe ek sharabi bana diya
sharab kaisi, khumar kaisa yeh sab tumhari nawazishe hai
sharab kaisi, khumar kaisa yeh sab tumhari nawazishe hai
pilayi hai kis nazar se tune ke mujhko apni khabar nahi hai
teri behki behki nigaah ne mujhe ek sharabi bana diya
teri behki behki nigaah ne mujhe ek sharabi bana diya
tera pyar hai meri zindagi, tera pyar hai meri zindagi
tera pyar hai meri zindagi, tera pyar hai meri zindagi
tera pyar hai bas meri zindagi
tera pyar hai bas meri zindagi
tera pyar hai bas meri zindagi
tera pyar hai bas meri zindagi, tera pyar hai

mai azal se banda e ishq hu, mai azal se banda e ishq hu
mujhe zuhd-o-kufr ka gam nahi, mujhe zuhd-o-kufr ka gam nahi
mere sar ko dar tera mil gaya, mujhe ab talash-e-haram nahi
mere sar ko dar tera mil gaya, mujhe ab talash-e-haram nahi
meri bandagi hai wo bandagi jo baqaid-e-dair-o-haram nahi
meri bandagi hai wo bandagi jo baqaid-e-dair-o-haram nahi
mera ik nazar tujhe dekhna
mera ik nazar tujhe dekhna bakhuda namaz se kam nahi hai
bas meri zindagi tera pyaar hai
bas meri zindagi tera pyaar hai
bas meri zindagi tera pyaar hai
bas meri zindagi tera pyaar hai
bas meri zindagi tera pyaar hai
bas meri zindagi tera pyaar hai
bas meri zindagi tera pyaar hai
bas meri zindagi tera pyaar hai

bas meri zindagi tera pyaar hai
bas meri zindagi tera pyaar hai
bas meri zindagi tera pyaar hai
bas meri zindagi tera pyaar hai
meri zindagi teri yaad hai
meri bandagi teri yaad hai meri bandagi
jo teri khushi wo meri khushi, jo teri khushi wo meri khushi
ye mere junun ka hai muajza, ye mere junun ka hai muajza
jaha apne sar ko jhuka diya waha maine kaaba bana diya
jaha apne sar ko jhuka diya waha maine kaaba bana diya
mere baad kisko sataaoge, mere baad kisko sataaoge
mere baad kisko sataaoge, mere baad kisko sataaoge
mere baad kisko sataaoge, mere baad kisko sataaoge
maine unke saamne, maine unke saamne
maine unke saamne awwal-to-khanjar rakh diya
maine unke saamne awwal-to-khanjar rakh diya
phir kaleja rakh diya, dil rakh diya sar rakh diya
aur arz kiya mere baad kisko sataaoge
mere baad kisko sataaoge, mere baad kisko sataaoge
mere baad kisko sataaoge, mere baad kisko sataaoge

jo puchha ke kis tarah hoti hai barish
jabin se pasine ki bunde gira di
jabin se pasine ki bunde gira di
jabin se pasine ki bunde gira di
jo puchha shab-o-roz milte hai kaise
to chehre pe apne wo zulfe gira di
to chehre pe apne wo zulfe gira di
to chehre pe apne wo zulfe gira di
jo apni tamannaao ka haal puchha
to jalti hui chand shamme bujha di
to jalti hui chand shamme bujha di
mai kehta reh gaya khata-e-mohabbat ki achchi saza di
khata-e-mohabbat ki achchi saza di
mere dil ki duniya bana kar mita di achcha
mere baad kisko sataaoge, mere baad kisko sataaoge
mujhe kis tarah se mitaaoge, mujhe kis tarah se mitaaoge
kahan ja ke teer chalaaoge, kahan ja ke teer chalaaoge
meri dosti ki balaaye lo, meri dosti ki balaaye lo
mujhe hath utha kar duaaye do tumhe ek katil bana diya
mujhe hath utha kar duaaye do tumhe ek katil bana diya
yeh jo halka halka surur hai
yeh teri nazar ka qasur hai ke sharab pina sikha diya


Lyrics in Hindi (Unicode) of "हल्का हल्का"


पास रहता हैं, दूर रहता हैं
पास रहता हैं, दूर रहता हैं
कोई दिल मे ज़रूर रहता हैं
कोई दिल मे ज़रूर रहता हैं
जब से देखा हैं तेरी आँखों का
जब से देखा हैं तेरी आँखों का
हल्का हल्का सुरूर रहता है
हल्का हल्का सुरूर रहता है
ऐसे रहते हो तुम मेरे दिल मे
ऐसे रहते हो तुम मेरे दिल मे
जैसे ज़ुल्मत मे नूर रहता हैं
जैसे ज़ुल्मत मे नूर रहता हैं
अब अदम का ये हाल हैं हर वक़्त
मस्त रहता हैं, चूर रहता हैं

ये जो हल्का हल्का सुरूर हैं, ये जो हल्का हल्का सुरूर हैं
ये तेरी नज़र का कसूर हैं के शराब पीना सिखा दिया
ये तेरी नज़र का कसूर हैं के शराब पीना सिखा दिया
के शराब पीना सिखा दिया
ये तेरी नज़र का कसूर हैं के शराब पीना सिखा दिया
ये तेरी नज़र का कसूर हैं के शराब पीना सिखा दिया
ये तेरी नज़र का कसूर हैं के शराब पीना सिखा दिया
ये जो हल्का हल्का सुरूर हैं, ये जो हल्का हल्का सुरूर हैं
ये तेरी नज़र का कसूर हैं, ये तेरी नज़र का कसूर हैं
के शराब पीना सिखा दिया, के शराब पीना सिखा दिया

तेरे प्यार ने तेरी चाह ने, तेरे प्यार ने तेरी चाह ने
तेरी बहकी बहकी निगाह ने मुझे एक शराबी बना दिया
तेरी बहकी बहकी निगाह ने मुझे एक शराबी बना दिया
तेरी बहकी बहकी निगाह ने मुझे एक शराबी बना दिया
तेरी बहकी बहकी निगाह ने मुझे एक शराबी बना दिया
तेरी बहकी बहकी निगाह ने मुझे एक शराबी बना दिया
शराब कैसी, खुमार कैसा ये सब तुम्हारी नवाज़िशे हैं
शराब कैसी, खुमार कैसा ये सब तुम्हारी नवाज़िशे हैं
पिलाई हैं किस नज़र से तूने के मुझको अपनी खबर नहीं हैं
तेरी बहकी बहकी निगाह ने मुझे एक शराबी बना दिया
तेरी बहकी बहकी निगाह ने मुझे एक शराबी बना दिया
तेरा प्यार हैं मेरी ज़िन्दगी, तेरा प्यार हैं मेरी ज़िन्दगी
तेरा प्यार हैं मेरी ज़िन्दगी, तेरा प्यार हैं मेरी ज़िन्दगी
तेरा प्यार हैं बस मेरी ज़िन्दगी
तेरा प्यार हैं बस मेरी ज़िन्दगी
तेरा प्यार हैं बस मेरी ज़िन्दगी
तेरा प्यार हैं बस मेरी ज़िन्दगी, तेरा प्यार हैं

मैं अज़ल से बंदा ए इश्क हु,
मैं अज़ल से बंदा ए इश्क हु
मुझे ज़ुह्द-ओ-कुफ्र का ग़म नहीं, मुझे ज़ुह्द-ओ-कुफ्र का ग़म नहीं
मेरे सर को दर तेरा मिल गया, मुझे अब तलाश-ए-हरम नहीं
मेरे सर को दर तेरा मिल गया, मुझे अब तलाश-ए-हरम नहीं
मेरी बंदगी हैं वो बंदगी जो बकैद-ए-दैर-ओ-हरम नहीं
मेरी बंदगी हैं वो बंदगी जो बकैद-ए-दैर-ओ-हरम नहीं
मेरा इक नज़र तुझे देखना
मेरा इक नज़र तुझे देखना बाखुदा नमाज़ से कम नहीं हैं
बस मेरी ज़िन्दगी तेरा प्यार हैं
बस मेरी ज़िन्दगी तेरा प्यार हैं
बस मेरी ज़िन्दगी तेरा प्यार हैं
बस मेरी ज़िन्दगी तेरा प्यार हैं
बस मेरी ज़िन्दगी तेरा प्यार हैं
बस मेरी ज़िन्दगी तेरा प्यार हैं
बस मेरी ज़िन्दगी तेरा प्यार हैं
बस मेरी ज़िन्दगी तेरा प्यार हैं

बस मेरी ज़िन्दगी तेरा प्यार हैं
बस मेरी ज़िन्दगी तेरा प्यार हैं
बस मेरी ज़िन्दगी तेरा प्यार हैं
बस मेरी ज़िन्दगी तेरा प्यार हैं
मेरी ज़िन्दगी तेरी याद हैं
मेरी बंदगी तेरी याद हैं मेरी बंदगी
जो तेरी ख़ुशी वो मेरी ख़ुशी, जो तेरी ख़ुशी वो मेरी ख़ुशी
ये मेरे जूनून का हैं मौजज़ा, ये मेरे जूनून का हैं मौजज़ा
जहा अपने सर को झुका दिया वहा मैंने काबा बना दिया
जहा अपने सर को झुका दिया वहा मैंने काबा बना दिया
मेरे बाद किसको सताओगे, मेरे बाद किसको सताओगे
मेरे बाद किसको सताओगे, मेरे बाद किसको सताओगे
मेरे बाद किसको सताओगे, मेरे बाद किसको सताओगे
मैंने उनके सामने, मैंने उनके सामने
मैंने उनके सामने अव्वल-तो-खंजर रख दिया
मैंने उनके सामने अव्वल-तो-खंजर रख दिया
फिर कलेजा रख दिया, दिल रख दिया सर रख दिया
और अर्ज़ किया मेरे बाद किसको सताओगे
मेरे बाद किसको सताओगे, मेरे बाद किसको सताओगे
मेरे बाद किसको सताओगे, मेरे बाद किसको सताओगे

जो पूछा के किस तरह होती हैं बारिश
जबीं से पसीने की बुँदे गिरा दी
जबीं से पसीने की बुँदे गिरा दी
जबीं से पसीने की बुँदे गिरा दी
जो पूछा शब्-ओ-रोज़ मिलते हैं कैसे
तो चेहरे पे अपने वो जुल्फे गिरा दी
तो चेहरे पे अपने वो जुल्फे गिरा दी
तो चेहरे पे अपने वो जुल्फे गिरा दी
जो अपनी तमन्नाओ का हाल पूछा
तो जलती हुई चंद शम्मे बुझा दी
तो जलती हुई चंद शम्मे बुझा दी
मैं कहता रेह गया खता-ए-मोहब्बत की अच्छी सजा दी
खता-ए-मोहब्बत की अच्छी सजा दी
मेरे दिल की दुनिया बना कर मिटा दी अच्छा
मेरे बाद किसको सताओगे, मेरे बाद किसको सताओगे
मुझे किस तरह से मिटाओगे, मुझे किस तरह से मिटाओगे
कहाँ जा के तीर चलाओगे, कहाँ जा के तीर चलाओगे
मेरी दोस्ती की बलाए लो, मेरी दोस्ती की बलाए लो
मुझे हाथ उठा कर दुआए दो तुम्हे एक कातिल बना दिया
मुझे हाथ उठा कर दुआए दो तुम्हे एक कातिल बना दिया
ये जो हल्का हल्का सुरूर हैं
ये तेरी नज़र का कसूर हैं के शराब पीना सिखा दिया

No comments:

Post a comment