5 February 2016

Lyrics Of "Humnava (MTV)" From MTV Unplugged 5 - Episode 04 (2016)

Humnava (MTV)
Humnava (MTV)
Nice romantic song in the voice of Papon featuring him in song video.

Singer: Papon
Music: Mithoon
Lyrics: Sayeed Quadri
Features: Papon







The video of this song is available on YouTube at the official channel  MTV Unplugged. This video is of 6 minutes 22 seconds duration.

Lyrics of "Humnava (MTV)"


hey humnava mujhe apna bana le
sukhi padi dil ki iss zameen ko bhiga de
hmm hoon akela, zara haath badha de
sukhi padi dil ki iss zameen ko bhiga de
kab se mai dar dar phir raha musafir dil ko panah de
tu awaargi ko meri aaj thehra de
hoon akela, thoda pyaar jataa de
sukhi padi dil ki iss zameen ko bhiga de

murjhaayi si shakh pe dil ki phul khilte hai kyu
baat gulo ki, zikr mehak ka achcha lagta hai kyu
un rango se tune milaaya jinse kabhi mai mil na paaya
dil karta hai tera shukriya, phir se bahaare tu la de
dil ka soona banjar mehka de
sukhi padi dil ki is zameen ko bhiga de
hoon akela, zara haath badha de
sukhi padi dil ki iss zameen ko bhiga de

waise toh mausam guzre hain zindagi me kayi
par ab na jaane kyu mujhe wo lag rahe hai hasin
tere aane par jaana maine kahi na kahi zinda hu mai
jine laga hu mai ab ye fizaye, chehre ko chhuti hawaye
inki tarah do kadam toh badha le
sukhi padi dil ki iss zameen ko bhiga de
hoon akela, zara haath badha de
sukhi padi dil ki iss zameen ko bhiga de

Lyrics in Hindi (Unicode) of "हमनवा"




हे हमनवा मुझे अपना बना ले
सूखी पड़ी दिल की इस ज़मीन को भीगा दे
हम्म हूँ अकेला, ज़रा हाथ बढ़ा दे
सूखी पड़ी दिल की इस ज़मीन को भीगा दे

कब से मैं दर दर फिर रहा मुसाफिर दिल को पनाह दे
तू आवारगी को मेरी आज ठेहरा दे
हूँ अकेला, थोडा प्यार जता दे
सूखी पड़ी दिल की इस ज़मीन को भीगा दे

मुरझाई सी शाख पे दिल की फूल खिलते हैं क्यों
बात गुलों की, ज़िक्र महक का अच्छा लगता हैं क्यों
उन रंगों से तूने मिलाया जिनसे कभी मैं मिल ना पाया
दिल करता हैं तेरा शुक्रिया, फिर से बहारे तू ला दे
दिल का सूना बंजर महका दे
सूखी पड़ी दिल की इस ज़मीन को भीगा दे
हूँ अकेला, ज़रा हाथ बढ़ा दे
सूखी पड़ी दिल की इस ज़मीन को भीगा दे

वैसे तो मौसम गुज़रे हैं ज़िन्दगी मे कई
पर अब ना जाने क्यों मुझे वो लग रहे हैं हसीं
तेरे आने पर जाना मैंने कहीं ना कहीं जिंदा हूँ मैं
जीने लगा हूँ मैं अब ये फिजायें, चेहरे को छूती हवाए
इनकी तरह दो कदम तो बढ़ा ले
सूखी पड़ी दिल की इस ज़मीन को भीगा दे
हूँ अकेला, ज़रा हाथ बढ़ा दे
सूखी पड़ी दिल की इस ज़मीन को भीगा दे

No comments:

Post a comment