5 February 2016

Lyrics Of "Yesu Allah Aur Krishna (MTV)" From MTV Unplugged 5 - Episode 05 (2016)

Yesu Allah Aur Krishna (MTV)
Yesu Allah Aur Krishna (MTV)
A playful song sung by Vasu Dixit featuring Swarathma Band.

Singer: Vasu Dixit
Music: Swarathma
Lyrics: Vasu Dixit, Hitesh Kewalya
Features: Swarathma  (Vasu Dixit, Sanjeev Nayak, Jishnu Dasgupta, Montry Manuel, Pavan Kumar KJ, Varun)





The video of this song is available on YouTube at the official channel  MTV Unplugged. This video is of 6 minutes 58 seconds duration.


Lyrics of "Yesu Allah Aur Krishna (MTV)"


yeshu allah aur krishna
yeshu allah aur krishna kaun bhagwan hai apna
yeshu allah aur krishna kaun bhagwan hai apna
phul pe phul chadha de, diye pe diye jala de
phul pe phul chadha de, diye pe diye jala de
mala pe mala japna, maal ko andar karna
mala pe mala japna, maal ko andar karna
yeshu allah aur krishna kaun bhagwan hai apna
yeshu allah aur krishna kaun bhagwan hai apna
yeshu allah aur krishna

sant kabir ne, sant kabir ne
sant kabir ne dekh tha ek sapna
jaha paraya koi nahi, jo bhi hai apna
par maharaj ye sant kabir kaun tha
sant kabir kaun tha, sant kabir wo tha
jiski vani thi gyan ki gagariya
sant kabir wo tha jisne apne doho se
manavta ka dharam samjhaya
to aaj isi kabir ke baare me kuchh bolenge
kuch gayenge aur mtv unplugged me rang jamayenge
sant kabir ne dekh tha ek sapna
jaha paraya koi nahi, jo bhi hai apna
ye barso ki baat nahi hai
ye kal ki breaking news bhi nahi
ye intolerance bhi nahi par yaar
ye sant kabir aaya dharti pe

sant kabir dharti pe, dharti pe sant kabir
sant kabir dharti pe, dharti pe sant kabir
are sant kabir aa gaya
pichhe mud ke kya dekhto ho madam
sant kabir tumhare dil me hai
tumhare man me hai sant kabir
ji ha hum sab me hai sant kabir
par ye duniya ki jo duniyadari hai
usme hum bhul gaye hai
to ghar ja ke sochiyega
hum sab me hai sant kabir

to sant kabir aaya dharti pe aur bole
500 saal me kuch khas nahi badla hai
jine ke liye jo zaruri hai wo swas nahi badla hai
poshakh badli hai par insan nahi badla hai
dar wahi hai dar ka saman kahi badla hai
pehle chalti thi talvar ki dhar
ab chalti hai goliyo ki bauchhar
500 saal me kuch khas nahi badla hai
isiliye kabir ne kaha
din me to sab hai gyani, are sadho
din me to sab hai gyani aur raat me chor ki nani
din me to sab hai gyani, raat me chor ki nani
yeshu allah aur krishna kaun bhagwan hai apna
yeshu allah aur krishna kaun bhagwan hai apna
phul pe phul chadha de, diye pe diye jala de
phul pe phul chadha de, diye pe diye jala de
mala pe mala japna, maal ko andar karna
yeshu allah aur krishna kaun bhagwan hai apna


Lyrics in Hindi (Unicode) of "येशु अल्लाह और कृष्णा"



येशु अल्लाह और कृष्णा
येशु अल्लाह और कृष्णा कौन भगवान हैं अपना
येशु अल्लाह और कृष्णा कौन भगवान हैं अपना
फूल पे फूल चढ़ा दे. दिए पे दिए जला दे
फूल पे फूल चढ़ा दे. दिए पे दिए जला दे
माला पे माला जपना, माल को अन्दर करना
माला पे माला जपना, माल को अन्दर करना
येशु अल्लाह और कृष्णा कौन भगवान हैं अपना
येशु अल्लाह और कृष्णा कौन भगवान हैं अपना
येशु अल्लाह और कृष्णा

संत कबीर ने, संत कबीर ने
संत कबीर ने देखा था एक सपना
जहा पराया कोई नहीं, जो भी हैं अपना
पर महाराज ये संत कबीर कौन था
संत कबीर कौन था, संत कबीर वो था
जिसकी वाणी थी ज्ञान की गगरिया
संत कबीर वो था जिसने अपने दोहों से
मानवता का धरम समझाया
तो आज इसी कबीर के बारे में कुछ बोलेंगे
कुछ गायेंगे और एमटीवी अनप्लग्ड मे रंग जमायेंगे
संत कबीर ने देखा था एक सपना
जहा पराया कोई नहीं, जो भी हैं अपना
ये बरसो की बात नहीं हैं
ये कल की ब्रेकिंग न्यूज़ भी नहीं
ये इन्टोलेरेंस भी नहीं पर यार
ये संत कबीर आया धरती पे

संत कबीर धरती पे, धरती पे संत कबीर
संत कबीर धरती पे, धरती पे संत कबीर
अरे संत कबीर आ गया
पीछे मुड के क्या देखते हो मैडम
संत कबीर तुम्हारे दिल में हैं
तुम्हारे मन में हैं संत कबीर
जी हाँ हम सब में हैं संत कबीर
पर ये दुनिया की जो दुनियादारी हैं
उसमें हम भूल गए हैं
तो घर जा के सोचिएगा
हम सब में हैं संत कबीर

तो संत कबीर आया धरती पे और बोले
५०० साल में कुछ खास नहीं बदला हैं
जीने के लिए जो ज़रूरी हैं वो स्वास नहीं बदला हैं
पोशाख बदली हैं पर इन्सान नहीं बदला हैं
डर वही हैं डर का सामान कही बदला हैं
पहले चलती थी तलवार की धर
अब चलती हैं गोलियों की धर
५०० साल में कुछ खास नहीं बदला हैं
इसीलिए कबीर ने कहा
दिन मे तो सब हैं ज्ञानी, अरे साधो
दिन मे तो सब हैं ज्ञानी और रात में चोर की नानी
दिन मे तो सब हैं ज्ञानी, रात में चोर की नानी
येशु अल्लाह और कृष्णा कौन भगवान हैं अपना
येशु अल्लाह और कृष्णा कौन भगवान हैं अपना
फूल पे फूल चढ़ा दे. दिए पे दिए जला दे
फूल पे फूल चढ़ा दे. दिए पे दिए जला दे
माला पे माला जपना, माल को अन्दर करना
येशु अल्लाह और कृष्णा कौन भगवान हैं अपना

No comments:

Post a comment