17 March 2016

Lyrics Of "Mind Ki Goti Jaam Hain" From Movie - What The Fish (2013)

Mind Ki Goti Jaam Hain
Mind Ki Goti Jaam Hain
Masti bhara song sung and composed by Amartya Rahut and lyrics penned by Manoj Yadav.

Singer: Amartya Rahut
Music: Amartya Rahut
Lyrics: Manoj Yadav
Star Cast: Dimple Kapadia, Manu Rishi Chadha, Manjot Singh, Anand Tiwari, Sheeba Shabnam.




The video of this song is available on youtube at the official channel T-Series. This video is of 3 minutes 07 seconds duration.

Lyrics of "Mind Ki Goti Jaam Hain"


mind ki goti jaam hai
fatein me atki tang hai
by god tu karde abke beda par
mind ki goti jaam hain
are fatein mein atki tang hai
by god bacha le please ab ki baar
jaam hai

life saali khel kabbadi
jab dekho utare chaddi
jeevan ka ho kya re chakka jaam
do chullu bhar mein dubi naiyya
lo kismat ki ho gayi bahiyya
ma* dil kar gaya kaisa kand
zara kameena zara hatela
danka jan jan bada jhamela
kaun dhakele kiska thela

mind ki goti jaam hain
are fatein mein atki taang hai
by god tu karde abke beda par
mind ki goti jaam hai
are fatein me atki taang hai
by god bacha le please ab ki baar

afra tafri laagi jab se ye morning jaagi
bina ticket aa jaye sapno ki barbadi
wo man ka khulla market
ye payrited maal hi baiche
ghabrahat mein dil ka canvas
lakshman rekha khinche
jaane kyun dil sala
yun gend sa kude
dil ka ye panchhi
umeed ka address dhunde
mind ki goti jaam hai

asli nakli yahan hai farzi
dil hi jaane dil ki marzi
kar deta hai kyun jeena haraam
zor lagake bole hayiya
chalti gaadi nikla paiyya
thoke taali karke kaam tamam
zara kameena zara hatela
danka jan jan bada jhamela
kaun thakele kiska thela

mind ki goti jaam hai
are fatein me atki tang hai
by god tu karde abke beda paar
mind ki goti jaam hai
are fatein me atki taang hai
by god bacha le please ab ki baar

 

Lyrics in Hindi (Unicode) of "माईंड की गोटी जाम है"


माईंड की गोटी जाम है
फटें में अटकी टांग है
बाए गोड तू करदे अबके बेड़ा पार
माईंड की गोटी जाम है
अरे फटें में अटकी टांग है
बाए गॉड बचा ले प्लीस अब की बार
जाम है

लाईफ साली खेल कब्बडी
जब देखो उतारे चड्डी
जीवन का हो क्या रे चक्का जाम
दो चुल्लू भर में डूबी नईया
लो किस्मत की हो गयी मैया
माँ* दिल कर गया कैसा कांड
ज़रा कमीना ज़रा हटेला
डंका जन जन बड़ा झमेला
कौन ढकेले किसका ठेला

माईंड की गोटी जाम है
फटें में अटकी टांग है
बाए गोड तू करदे अबके बेड़ा पार
माईंड की गोटी जाम है
अरे फटें में अटकी टांग है
बाए गॉड बचा ले प्लीस अब की बार

अफरा तफरी लागी जब से ये मोर्निंग जागी
बिना टिकेट आ जाए सपनों की बर्बादी
वो मन का खुल्ला मार्केट
ये पाईरेटीड़ माल ही बेचे
घबराहट में दिल का कैनवस
लक्ष्मण रेखा खींचे
जाने क्यूँ दिल साला
यूँ गेंद सा कूदे
दिल का ये पंछी
उम्मीद का एड्रेस ढूंढे
माईंड की गोटी जाम है

असली नकली यहाँ है फर्जी
दिल ही जाने दिल की मर्ज़ी
कर देता है क्यूँ जीना हराम
ज़ोर लगाके बोले हईया
चलती गाड़ी का निकला पईया
ठोके ताली करके काम तमाम
ज़रा कमीना ज़रा हटेला
डंका जन जन बड़ा झमेला
कौन ढकेले किसका ठेला

माईंड की गोटी जाम है
फटें में अटकी टांग है
बाए गोड तू करदे अबके बेड़ा पार
माईंड की गोटी जाम है
अरे फटें में अटकी टांग है
बाए गॉड बचा ले प्लीस अब की बार 

No comments:

Post a comment