20 June 2016

Lyrics Of "Ijazat" From Latest Movie - One Night Stand (2016)

Ijazat
Ijazat
A sensational song sung by Arijit Singh featuring Tanuj Virwani, Nyra Banerjee

Singer: Arijit Singh
Music: Meet Bros
Lyrics: Shabbir Ahmed
Star Cast: Sunny Leone, Tanuj Virwani, Nyra Banerjee, Khalid Siddiqui, Ninad Kamath, Master Rehan Pathan, Geeta Bisht, Shishir Sharma, Narendra Jetley, Aamir Ahmed.


The video of this song is available on YouTube at the official channel T-Series. This video is of 2 minutes 37 seconds duration.


The lyrical video of this song is also available on YouTube at the official channel T-Series. This video is of 4 minutes 48 seconds duration.

Lyrics of "Ijazat"


kaise bataaye, kaise jataaye, subah tak tujhme jina chahe
bhige labo ki gili hansi ko, pine ka mausam hai pina chahe
ik baat kahu kya ijazat hai, tere ishq ki mujhko aadat hai
ik baat kahu kya ijazat hai, tere ishq ki mujhko aadat hai
o aadat hai, aadat hai o aadat hai

ehsaas tere aur mere toh ik duje se jud rahe
ik teri talab mujhe aisi lagi, mere hosh bhi udne lage
mujhe milta sukun teri baaho me, jannat jaisi ek raahat hai
ik baat kahu kya ijazat hai, tere ishq ki mujhko aadat hai
ik baat kahu kya ijazat hai, tere ishq ki mujhko aadat hai
o aadat hai, aadat hai o aadat hai

kyun sabse juda, kyun sabse alag andaaz tere lagte
besaakhta hum saaye se tere, har shaam lipatate hain
har waqt mera qurbat me teri, jab guzre toh ibadat hai
ik baat kahu kya ijazat hai, tere ishq ki mujhko aadat hai
ik baat kahu kya ijazat hai, tere ishq ki mujhko aadat hai
o aadat hai, aadat hai o teri aadat hai


Lyrics in Hindi (Unicode) of "इजाज़त"


कैसे बताये, कैसे जताए, सुबह तक तुझमे जीना चाहे
भीगे लबो की गीली हंसी को, पिने का मौसम हैं पीना चाहे
इक बात कहू क्या इजाज़त हैं, तेरे इश्क की मुझको आदत हैं
इक बात कहू क्या इजाज़त हैं, तेरे इश्क की मुझको आदत हैं
ओ आदत हैं, आदत हैं ओ आदत हैं

एहसास तेरे और मेरे तो इक दूजे से जुड़ रहे
इक तेरी तलब मुझे ऐसी लगी, मेरे होश भी उड़ने लगे
मुझे मिलता सुकून तेरी बाहों में, जन्नत जैसी एक राहत हैं
इक बात कहू क्या इजाज़त हैं, तेरे इश्क की मुझको आदत हैं
इक बात कहू क्या इजाज़त हैं, तेरे इश्क की मुझको आदत हैं
ओ आदत हैं, आदत हैं ओ आदत हैं

क्यूँ सबसे जुदा, क्यूँ सबसे अलग अंदाज़ तेरे लगते
बेसाख्ता हम साए से तेरे, हर शाम लिपटते हैं
हर वक़्त मेरा कुरबत में तेरी, जब गुज़रे तो इबादत हैं
इक बात कहू क्या इजाज़त हैं, तेरे इश्क की मुझको आदत हैं
इक बात कहू क्या इजाज़त हैं, तेरे इश्क की मुझको आदत हैं
ओ आदत हैं, आदत हैं ओ आदत हैं

No comments:

Post a comment