28 June 2016

Lyrics Of "Jag Ghoomeya (Female)" From Salman Khan's Latest Movie - Sultan (2016)

Jag Ghoomeya (Female)
Jag Ghoomeya (Female)
Beautiful romantic song in the voice of Neha Bhasin featuring Anushka Sharma, Salman Khan.

Singer: Neha Bhasin
Music: Vishal Shekhar
Lyrics: Irshad Kamil
Star Cast: Salman Khan, Anushka Sharma, Amit Sadh, Randeep Hooda, Urvashi Rautela.




Lyrics of "Jag Ghoomeya (Female)"


na wo akhiya ruhani kahi, na wo chehra nurani kahi
kahi dil wali baate bhi na, na wo sajri jawani kahi
jag ghoomeya thaare jaisa na koi
jag ghoomeya thaare jaisa na koi
na toh hasna rumaani kahi, na toh khusbu suhani kahi
na wo rangli adaye dekhi, na wo pyari si nadani kahi
jaisa tu hai waisa rehna
jag ghoomeya thaare jaisa na koi
jag ghoomeya thaare jaisa na koi
jag ghoomeya thaare jaisa na koi
jag ghoomeya thaare jaisa na koi

baarisho ke mausamo ki bheegi hariyali tu
sardiyo me gaalo pe jo aati mere laali tu
raato ka sukun
raato ka sukun bhi hai, subah ki azaan hai
chaahato ki chaadaro me kare rakhwali tu
kabhi haq saare rakhta hai, kabhi samjhe begaani kahi
tu to janta hai marke bhi mujhe aati hai nibhani kahi
wahi karna jo hai kehna
jag ghoomeya thaare jaisa na koi
jag ghoomeya thaare jaisa na koi

apne nasibo me yaa honsle ki baato me
sukho aur dukho wali saari saugato me
sang tujhe rakhna hai
sang tujhe rakhna hai, tere sang rehna
meri duniya me bhi mere jazbaato me
teri milti nishani kahi, jo hai sabko dikhani kahi
mai to janti hai marke bhi tujhe aati hai nibhani kahi
wahi karna hai jo hai kehna
jag ghoomeya thaare jaisa na koi
jag ghoomeya thaare jaisa na koi
jag ghoomeya thaare jaisa na koi
jag ghoomeya thaare jaisa na koi


Lyrics in Hindi (Unicode) of "जग घूमेया (फीमेल)"


ना वो अखिया रूहानी कही, ना वो चेहरा नुरानी कही
कही दिल वाली बाते भी ना, ना वो सजरी जवानी कही
जग घूमेया थारे जैसा ना कोई
जग घूमेया थारे जैसा ना कोई
ना तो हसना रूमानी कही, ना तो खुशबू सुहानी कही
ना तो रंगली अदाए देखी, ना तो प्यारी सी नादानी कही
जैसी तू है वैसा रेहना
जग घूमेया थारे जैसा ना कोई
जग घूमेया थारे जैसा ना कोई
जग घूमेया थारे जैसा ना कोई
जग घूमेया थारे जैसा ना कोई

बारिशो के मौसमो की भीगी हरियाली तू
सर्दियों में गालो पे जो आती है वो लाली तू
रातो का सुकून
रातो का सुकून भी है, सुबह की अज़ान है
चाहतो की चादरों में करे रखवाली तू
कभी हक सारे रखता है, कभी समझे बेगानी कही
तू तो जानता है मरके भी मुझे आती है निभानी कही
जैसी तू है वैसा रेहना
जग घूमेया थारे जैसा ना कोई
जग घूमेया थारे जैसा ना कोई

अपने नसीबो में या होंसले की बातो में
सुखो और दुखो वाली सारी सौगातो में
संग तुझे रखना है
संग तुझे रखना है, तेरे संग रेहना
मेरी दुनिया में भी मेरे जज्बातों में
तेरी मिलती निशानी कही, जो है सबको दिखानी कही
तू तो जानती हे मरके भी तुझे आती है निभानी कही
वही करना है जो है कहना
जग घूमेया थारे जैसा ना कोई
जग घूमेया थारे जैसा ना कोई
जग घूमेया थारे जैसा ना कोई
जग घूमेया थारे जैसा ना कोई

No comments:

Post a comment