24 June 2016

Lyrics Of "Junooniyat (Title Song)" From Latest Movie - Junooniyat (2016)

Junooniyat (Title Song)
Junooniyat (Title Song)
Nice title song sung by Falak Shabir featuring Pulkit Samrat, Yami Gautam.

Singer: Falak Shabir
Music: Meet Bros Anjjan
Lyrics: Kumaar
Star Cast: Pulkit Samrat, Yami Gautam.





The video of this song is available on YouTube at the official channel T-Series. This video is of 2 minutes 36 seconds duration.

Lyrics of "Junooniyat (Title Song)"


palke jeeye kaise aankho bina, mumkin hai kya ye o mere khuda
kyu saans lu bas yu hi bewajah, riha kar mujhe mere dardo se zara
dil jo ibaadat kare ishq ki, to marke bhi zinda rahe aashiqui
junooniyat hai yahi, junooniyat hai yahi, junooniyat hai yahi
junooniyat hai yahi, junooniyat hai yahi, junooniyat hai yahi
junooniyat hai yahi, junooniyat hai yahi

tu nahi to lag rahe hai, raat jaise din
aankho ke hai mausam hai bheege, aaj tere bin
tu judaa to ruk gayi hai saanse kahi
aankho se bichhdi lakeere ke rahi hai bas yahi
dil jo ibaadat kare ishq ki, to marke bhi zinda rahe aashiqui
junooniyat hai yahi, junooniyat hai yahi, junooniyat hai yahi
junooniyat hai yahi, junooniyat hai yahi, junooniyat hai yahi
junooniyat hai yahi, junooniyat hai yahi

yaad teri mil rahi hai, mujhko har ik mod pe
dil ko dhadkan dheere dheere, jaa rahi hai chhod ke
tujhko phir se kar lu haasil, hai ye khwahish aakhiri
naa mile to main khuda ki, Chhod dunga bandagi
dil jo ibaadat kare ishq ki, to marke bhi zinda rahe aashiqui
junooniyat hai yahi, junooniyat hai yahi, junooniyat hai yahi
junooniyat hai yahi, junooniyat hai yahi, junooniyat hai yahi
junooniyat hai yahi, junooniyat hai yahi, junooniyat hai yahi


Lyrics in Hindi (Unicode) of "जुनूनियत (टाइटल सोंग)"


पलके जीए कैसे आँखों बिना, मुमकिन है क्या ये ओ मेरे खुदा
क्यों सांस लू बस यु ही बेवजह, रिहा कर मुझे मेरे दर्दो से ज़रा
दिल जो इबादत करे इश्क की, तो मरके भी जिंदा रहे आशिकी
जुनूनियत है यही, जुनूनियत है यही, जुनूनियत है यही
जुनूनियत है यही, जुनूनियत है यही, जुनूनियत है यही
जुनूनियत है यही, जुनूनियत है यही

तू नहीं तो लग रहे है, रात जैसे दिन
आँखों के है मौसम है भीगे, आज तेरे बिन
तू जुदा तो रुक गयी है साँसे कही
आँखों से बिछडी लकीरे के रही है बस यही
दिल जो इबादत करे इश्क की, तो मरके भी जिंदा रहे आशिकी
जुनूनियत है यही, जुनूनियत है यही, जुनूनियत है यही
जुनूनियत है यही, जुनूनियत है यही, जुनूनियत है यही
जुनूनियत है यही, जुनूनियत है यही

याद तेरी मिल रही है, मुझको हर इक मोड़ पे
दिल को धड़कन धीरे धीरे, जा रही है छोड़ के
तुझको फिर से कर लू हासिल, है ये ख्वाहिश आखिरी
ना मिले तो मैं खुदा की, छोड़ दूंगा बंदगी
दिल जो इबादत करे इश्क की, तो मरके भी जिंदा रहे आशिकी
जुनूनियत है यही, जुनूनियत है यही, जुनूनियत है यही
जुनूनियत है यही, जुनूनियत है यही, जुनूनियत है यही
जुनूनियत है यही, जुनूनियत है यही, जुनूनियत है यही

No comments:

Post a comment