28 June 2016

Lyrics Of "Qatl-e-aam" From Latest Movie - Raman Raghav 2.0 (2016).

Qatl-e-aam
Qatl-e-aam
A rock song sung by Sona Mohapatra featuring Vicky Kaushal, Sobhita Dhulipala.

Singer: Sona Mohapatra
Music: Ram Sampath
Lyrics: Varun Grover
Star Cast: Nawazuddin Siddiqui, Vicky Kaushal, Sobhita Dhulipala, Amruta Subhash, Mukesh Chhabra, Anuschka Sawhney.



The video of this song is available on YouTube at the official channel T-Series. This video is of 2 minutes 09 seconds duration.

Lyrics of "Qatl-e-aam"


hai galimat dil yeh patthar ho chuka tamam hai
hai galimat dil yeh patthar ho chuka tamam hai
aapki aankho me varna aaj qatl-e-aam hai
aapki aankho me varna aaj qatl-e-aam hai
qatl-e qatl-e qatl-e qatl-e

chhod ke saari sharam ko shaam ki chaukhat pare
chhod ke saari sharam ko shaam ki chaukhat pare
aaiye aa jaaiye yeh raat ik gamaam hai
aaiye aa jaaiye yeh raat ik gamaam hai
aapki aankho me varna aaj qatl-e-aam hai
aapki aankho me varna aaj qatl-e-aam hai
qatl-e qatl-e qatl-e qatl-e

sab sunate hai ki humne haq hi kyun tumko diya
sab sunate hai ki humne haq hi kyun tumko diya
jaane ja khud hi bataaye ye koi ilzam hai
jaane ja khud hi bataaye ye koi ilzam hai
aapki aankho me varna aaj qatl-e-aam hai
aapki aankho me varna aaj qatl-e-aam hai
qatl-e qatl-e qatl-e qatl-e

hai sarafa dil ka aur yeh waqt koni ka hua
hai sarafa dil ka aur yeh waqt koni ka hua
lakh thi yeh chiz sahab, kaudiyo ke daam hai
lakh thi yeh chiz sahab, kaudiyo ke daam hai
aapki aankho me varna aaj qatl-e-aam hai
aapki aankho me varna aaj qatl-e-aam hai
qatl-e qatl-e qatl-e qatl-e


Lyrics in Hindi (Unicode) of "क़त्ल-ए-आम"


हैं गलिमत दिल ये पत्थर हो चूका तमाम हैं
हैं गलिमत दिल ये पत्थर हो चूका तमाम हैं
आपकी आँखों में वरना आज क़त्ल-ए-आम हैं
आपकी आँखों में वरना आज क़त्ल-ए-आम हैं
क़त्ल-ए क़त्ल-ए क़त्ल-ए क़त्ल-ए

छोड़ के सारी शरम को शाम की चौखट परे
छोड़ के सारी शरम को शाम की चौखट परे
आइये आ जाइए ये रात इक गमाम हैं
आइये आ जाइए ये रात इक गमाम हैं
आपकी आँखों में वरना आज क़त्ल-ए-आम हैं
आपकी आँखों में वरना आज क़त्ल-ए-आम हैं
क़त्ल-ए क़त्ल-ए क़त्ल-ए क़त्ल-ए

सब सुनाते हैं की हमने हक़ ही क्यूँ तुमको दिया
सब सुनाते हैं की हमने हक़ ही क्यूँ तुमको दिया
जाने जा खुद ही बताये ये कोई इलज़ाम हैं
जाने जा खुद ही बताये ये कोई इलज़ाम हैं
आपकी आँखों में वरना आज क़त्ल-ए-आम हैं
आपकी आँखों में वरना आज क़त्ल-ए-आम हैं
क़त्ल-ए क़त्ल-ए क़त्ल-ए क़त्ल-ए

हैं सराफा दिल का और ये वक़्त कोनी का हुआ
हैं सराफा दिल का और ये वक़्त कोनी का हुआ
लाख थी ये चीज़ साहब, कौड़ियो के दाम हैं
लाख थी ये चीज़ साहब, कौड़ियो के दाम हैं
आपकी आँखों में वरना आज क़त्ल-ए-आम हैं
आपकी आँखों में वरना आज क़त्ल-ए-आम हैं
क़त्ल-ए क़त्ल-ए क़त्ल-ए क़त्ल-ए

No comments:

Post a comment