10 July 2016

Lyrics Of "Barbaad Zindagi" From Latest Album - Barbaad Zindagi (2016)

Barbaad Zindagi
Barbaad Zindagi
A sad song sung by Avi Sharma and Yogi featuring them and Twinkle Agrawal, Romil Moonat in song video.

Singer: Avi Sharma, Yogi
Music: Avi Sharma
Lyrics: Harshit Dubey
Features: Avi Sharma, Twinkle Agrawal, Romil Moonat, Yogi.




The video of this song is available on YouTube at the channel Imploding Music. This video is of 4 minutes 46 seconds duration.

Lyrics of "Barbaad Zindagi"


fir dhuye ke gurd me saaya mera, barbaad zindagi
hamne isko gulshan samjha, hai naraz zindagi
kisi ko khush hum rakh na paye, naraz zindagi
ab do raahe hum bich khade hai, do aab zindagi

tu jo mila man mera khil utha
tu kho gaya sab kuch badal gaya
tu jo mila man mera khil utha
tu kho gaya sab kuch badal gaya
tu aaja tham ja, barbaad zindagi
barbaad zindagi, barbaad zindagi

jabse maine dekha, maine jaana maine tab se
tu hi meri zindagi pehchana maine tab se
pyar tujhe karta hu, naal tere marta hu
manga maine jaan-e-jaana tujhko hai rab se
jaise baadlo ko chir ke wo chand nikla ho
jaise kajal laga ke mera jaan nikla ho
koi usko bula do, koi use hi dila do
main karu fariyad mere yaar tum sab se
chaha maine chaha tujhe bahut sanam
tere liye mera pyar kabhi hoga na kam
meri zindagi ne diye mujhe mauke hazaar
baar baar tu na jaa, tujhe meri kasam
kabse hai mohabbat, karu jo ibadat
tu hi meri aadat thi bas jab se
tab hi to chadha tere pyar ka khumar
mere yaaro meri wo, barbaad zindagi
barbaad zindagi, barbaad zindagi


Lyrics in Hindi (Unicode) of "बरबाद ज़िन्दगी"


फिर धुएं के गर्द में साया मेरा, बरबाद ज़िन्दगी
हमने इसको गुलशन समझा, हैं नाराज़ ज़िन्दगी
किसी को खुश हम रख ना पाए, नाराज़ ज़िन्दगी
अब दो राहे हम बिच खड़े हैं, दो आब ज़िन्दगी

तू जो मिला मन मेरा खिल उठा
तू खो गया सब कुछ बदल गया
तू जो मिला मन मेरा खिल उठा
तू खो गया सब कुछ बदल गया
तू आजा थम जा, बरबाद ज़िन्दगी
बरबाद ज़िन्दगी, बरबाद ज़िन्दगी

जबसे मैंने देखा, मैंने जाना मैंने तब से
तू ही मेरी ज़िन्दगी पहचाना मैंने तब से
प्यार तुझे करता हूँ, नाल तेरे मरता हूँ
माँगा मैंने जान-ए-जाना तुझको हैं रब से
जैसे बादलो को चिर के वो चाँद निकला हो
जैसे काजल लगा के मेरा जान निकला हो
कोई उसको बुला दो, कोई उसे ही दिला दो
मैं करू फरियाद मेरे यार तुम सब से
चाहा मैंने चाहा तुझे बहुत सनम
तेरे लिए मेरा प्यार कभी होगा ना कम
मेरी ज़िन्दगी ने दिए मुझे मौके हज़ार
बार बार तू ना जा, तुझे मेरी कसम
कबसे हैं मोहब्बत, करू जो इबादत
तू ही मेरी आदत थी बस जब से
तब ही तो चढ़ा तेरे प्यार का खुमार
मेरे यारो मेरी वो, बरबाद ज़िन्दगी
बरबाद ज़िन्दगी, बरबाद ज़िन्दगी

No comments:

Post a comment