1 July 2016

Lyrics Of "Kaise Piya (Sad)" From Latest Movie - Bhouri (2016)

Kaise Piya (Sad)
Kaise Piya (Sad)
A sad song sung by Sapna Awasthi, Sanjay Pathak featuring Raghuveer Yadav, Masha Paur.

Singer: Sanjay Pathak, Sapna Awasthi
Music: Sanjay Pathak
Lyrics: N/A
Star Cast: Raghuveer Yadav, Masha Paur, Aditya Pancholi, Kunika, Shakti Kapoor, Mohan Joshi, Mukesh Tiwari, Manoj Joshi, Sitaram Panchal.



Lyrics of "Kaise Piya (Sad)"


kaise piya ki atari chadho jaaye, na sahni bin bhayeli
kaise piya ki atari chadho jaaye, na sahni bin bhayeli

mai radha nahi tu shyam hai ji, mai sita nahi tu ram hai
milan me to sukh mil jaata par birah me bhi aaram hai
mai radha nahi tu shyam hai ji, mai sita nahi tu ram hai
milan me to sukh mil jaata par birah me bhi aaram hai
gile naina hawa gayi re sukhaye, na sahni bin bhayeli
kaise piya ki atari chadho jaaye, na sahni bin bhayeli

mausam ke sang sawan bite, sare bartan rite hai
duniya me jo amrit bante, zehar bhi wohi pite hai
mausam ke sang sawan bite, sare bartan rite hai
duniya me jo amrit bante, zehar bhi wohi pite hai
aane wala samay thokar khaye, na sahni bin bhayeli
kaise piya ki atari chadho jaaye, na sahni bin bhayeli

uche than pe baithe hai piya, niche hu lachar mai
firu bhatakti katayi akeli bhid bhare sansar me
uche than pe baithe hai piya, niche hu lachar mai
firu bhatakti katayi akeli bhid bhare sansar me
uchhle man koi bhi na uchkaye, na sahni bin bhayeli
kaise piya ki atari chadho jaaye, na sahni bin bhayeli


Lyrics in Hindi (Unicode) of "कैसे पिया (सैड)"


कैसे पिया की अटरी चढो जाए, ना सहनी बिन भाएली
कैसे पिया की अटरी चढो जाए, ना सहनी बिन भाएली

मैं राधा नहीं तू श्याम है जी, मैं सीता नहीं तू राम हैं
मिलन में तो सुख मिल जाता पर बिरह में भी आराम हैं
मैं राधा नहीं तू श्याम है जी, मैं सीता नहीं तू राम हैं
मिलन में तो सुख मिल जाता पर बिरह में भी आराम हैं
गिले नैना हवा गई रे सुखाये, ना सहनी बिन भाएली
कैसे पिया की अटरी चढो जाए, ना सहनी बिन भाएली

मौसम के संग सावन बीते, सारे बर्तन रीते हैं
दुनिया में जो अमृत बांटे, ज़हर भी वोही पीते हैं
मौसम के संग सावन बीते, सारे बर्तन रीते हैं
दुनिया में जो अमृत बांटे, ज़हर भी वोही पीते हैं
आने वाला समय ठोकर खाए, ना सहनी बिन भाएली
कैसे पिया की अटरी चढो जाए, ना सहनी बिन भाएली

ऊँचे थान पे बैठे हैं पिया, नीचे हूँ लाचार मैं
फिरू भटकती कतई अकेली भीड़ भरे संसार में
ऊँचे थान पे बैठे हैं पिया, नीचे हूँ लाचार मैं
फिरू भटकती कतई अकेली भीड़ भरे संसार में
उछले मन कोई भी ना उचकाये, ना सहनी बिन भाएली
कैसे पिया की अटरी चढो जाए, ना सहनी बिन भाएली

No comments:

Post a comment