2 July 2016

Lyrics Of "Meri Zindagi Ka Mita Nishaa" From Latest Movie - Ardhangini - Ek Ardhsatya (2016)

Meri Zindagi Ka Mita Nishaa
Meri Zindagi Ka Mita Nishaa
A ghazal sung by Kavita Krishnamurthy and lyrics penned by Dinesh Arjuna.

Singer: Kavita Krishnamurthy
Music: Dinesh Arjuna
Lyrics: Daur Saifee
Star Cast: Subodh Bhave, Sreelekha Mitra, Subrat Dutt, Manoj Mitra, Reema Lagoo, Varsha Usgaonkar.



Lyrics of "Meri Zindagi Ka Mita Nishaa"


meri zindagi ka mita nishan
meri zindagi ka mita nishan
ke jamin pe aaya aasman, ke jamin pe aaya aasman
jo gale laga le maut ab, to ho khatm ab saari dasta
meri zindagi ka mita nishan

kyu wafa ki rah main ae sanam, mere ladkhada gaye kadam
kyu wafa ki rah main ae sanam, mere ladkhada gaye kadam
jo tadap tadap ke nikale dam, ye saja bhi mere liye hai kam
main thi jiske dil ki dhadkane
main thi jiske dil ki dhadkane, hai usi se kitni duriya
jo gale laga le maut ab, to ho khatm ab saari dasta
meri zindagi ka mita nishan

wo hasin baag uajad gaya, ke nashib mera bigad gaya
wo hasin baag uajad gaya, ke nashib mera bigad gaya
thi ajij jisko main janse wo khudai ishq se bichhad gaya
utthi gam ki aisi aandhhiya
utthi gam ki aisi aandhhiya, ke bikhar gaya mera aashiya
jo gale laga le maut ab, to ho khatm ab saari dasta
meri zindagi ka mita nishan
meri zindagi ka mita nishan
meri zindagi ka mita nishan


Lyrics in Hindi (Unicode) of "मेरी ज़िन्दगी का मिटा निशान"


मेरी ज़िन्दगी का मिटा निशान
मेरी ज़िन्दगी का मिटा निशान
के जमीं पे आया आसमान, के जमीं पे आया आसमान
जो गले लगा ले मौत अब, तो हो ख़त्म अब सारी दास्ता
मेरी ज़िन्दगी का मिटा निशान

क्यूँ वफ़ा की रह मैं ऐ सनम, मेरे लडखडा गए कदम
क्यूँ वफ़ा की रह मैं ऐ सनम, मेरे लडखडा गए कदम
जो तड़प तड़प के निकाले दम, ये सजा भी मेरे लिए है
मैं थी जिसके दिल की धड़कने
मैं थी जिसके दिल की धड़कने, है उसी से कितनी दूरिया
जो गले लगा ले मौत अब, तो हो ख़त्म अब सारी दास्ता
मेरी ज़िन्दगी का मिटा निशान

वो हसीं बाग़ उजड़ गया, के नशीब मेरा बिगड गया
वो हसीं बाग़ उजड़ गया, के नशीब मेरा बिगड गया
थी अजीज जिसको मैं जानसे वो खुदाई इश्क से बिछड़ गया
उट्ठी गम की ऐसी आंधिया
उट्ठी गम की ऐसी आंधिया, के बिखर गया मेरा आशिया
जो गले लगा ले मौत अब, तो हो ख़त्म अब सारी दास्ता
मेरी ज़िन्दगी का मिटा निशान
मेरी ज़िन्दगी का मिटा निशान
मेरी ज़िन्दगी का मिटा निशान

No comments:

Post a comment