18 July 2016

Lyrics Of "Sau Tarah Ke" From Latest Movie - Dishoom (2016)

Sau Tarah Ke
Sau Tarah Ke
A rock song sung by Amit Mishra and Jonita Gandhi featuring Jacqueline Fernandez, Varun Dhawan, John Abraham.

Singer: Amit Mishra, Jonita Gandhi
Music: Pritam
Lyrics: Kumaar
Star Cast: Varun Dhawan, John Abraham, Jacqueline Fernandez, Akshaye Khanna, Rahul Dev, Saqib Saleem, Nargis Fakhri, Vijay Raaz.


The video of this song is available on YouTube at the official channel T-Series. This video is of 2 minutes 09 seconds duration.

The lyrical video of this song is also available on YouTube at the official channel T-Series. This video is of 3 minutes 59 seconds duration.

Lyrics of "Sau Tarah Ke"


kal subah sochenge jo aaj raat kiya
kal subah gin lenge saari galatiya
tu mera abhi ho jaana ajnabi phir hum milenge na kabhi
kal subah chale jayenge hai ghar jahaan
kal subah bole jo bhi bolega jahaan
tu mera abhi ho jaana ajnabi phir hum milenge na kabhi
sau tarah ke rog le lu, ishq ka marz kya hai
sau tarah ke rog le lu, ishq ka marz kya hai
tu kahe toh jaan de du, kehne me harz kya hai
sau tarah ke rog le lu, ishq ka marz kya hai

baaho ko baaho me de de tu jagah
tujhse toh do pal ka matlab hai mera
tere jaise hi mera bhi dil khudgarz sa hai
tere jaise hi mera bhi dil khudgarz sa hai
tu kahe toh jaan de du, kehne me harz kya hai
sau tarah ke rog le lu, ishq ka marz kya hai
sau tarah ke rog le lu, ishq ka marz kya hai

kal subah tak jhuta bhala pyar kar
kal subah tak jhuti baate char kar
tu mera abhi ho jaana ajnabi phir hum milenge na kabhi
tu kahe toh jaan de du, kehne me harz kya hai
sau tarah ke rog le lu, ishq ka marz kya hai
sau tarah ke rog le lu, ishq ka marz kya hai


Lyrics in Hindi (Unicode) of "सौ तरह के"


कल सुबह सोचेंगे जो आज रात किया
कल सुबह गिन लेंगे सारी गलतियाँ
तू मेरा अभी हो जाना अजनबी फिर हम मिलेंगे ना कभी
कल सुबह चले जायेंगे हैं घर जहाँ
कल सुबह बोले जो भी बोलेगा जहाँ
तू मेरा अभी हो जाना अजनबी फिर हम मिलेंगे ना कभी
सौ तरह के रोग ले लू, इश्क का मर्ज़ क्या हैं
सौ तरह के रोग ले लू, इश्क का मर्ज़ क्या हैं
तू कहे तो जान दे दू, कहने में हर्ज़ क्या हैं
सौ तरह के रोग ले लू, इश्क का मर्ज़ क्या हैं

बाहों को बाहों में दे दे तू जगह
तुझसे तो दो पल का मतलब हैं मेरा
तेरे जैसे ही मेरा भी दिल खुदगर्ज़ सा हैं
तेरे जैसे ही मेरा भी दिल खुदगर्ज़ सा हैं
तू कहे तो जान दे दू, कहने में हर्ज़ क्या हैं
सौ तरह के रोग ले लू, इश्क का मर्ज़ क्या हैं
सौ तरह के रोग ले लू, इश्क का मर्ज़ क्या हैं

कल सुबह तक झूठा भला प्यार कर
कल सुबह तक झूठी बाते चार कर
तू मेरा अभी हो जाना अजनबी फिर हम मिलेंगे ना कभी
तू कहे तो जान दे दू, कहने में हर्ज़ क्या हैं
सौ तरह के रोग ले लू, इश्क का मर्ज़ क्या हैं
सौ तरह के रोग ले लू, इश्क का मर्ज़ क्या हैं

No comments:

Post a comment