21 July 2016

Lyrics Of "Yeh Hawa Sar Sarsariya" From Latest Movie - Mohenjo Daro (2016).

Yeh Hawa Sar Sarsariya
Yeh Hawa Sar Sarsariya
A happy song sung by Shashwat Singh and Shashaa Tirupati, with lyrics penned by Javed Akhtar.

Singer: Shashwat Singh, Shashaa Tirupati
Music: A R Rahman
Lyrics: Javed Akhtar
Star Cast: Hrithik Roshan, Pooja Hegde, Kabir Bedi, Arunoday Singh, Suhasini Mulay, Nitish Bharadwaj, Kishori Shahane, Sharad Kelkar.



The audio of this song is available on YouTube at the official channel T-Series. This audio is of 6 minutes 10 seconds duration.


Lyrics of "Yeh Hawa Sar Sarsariya"


ye sarsaraati hawa jaaye chaaro disha
aise hi mukt mann mera bhi ho gaya
ye hawa sar sarsariya, sar sarsariya
kyu na lehrake mai bhi disha disha nagar nagar jaau

khila khila sa jo mera ye mann hai
khila khila sa jo mera ye tann hai
jo rang rang hai mere sapne
toh sab rang hi laage apne
jo rut koi chhayi toh chha jaane de
jo aayi angdaai toh aa jaane de
hawaaye jo bataaye wohi maan le
tu mann ki satrangi hai ye jaan le
ye sarsaraati hawa jaaye chaaro disha
aise hi mukt mann mera bhi ho gaya
ye hawa sar sarsariya, sar sarsariya
kyu na lehrake mai bhi disha disha nagar nagar jaau

lage ke abhi tu hai anjaani
jagat me jitna bhi hai paani
hai prem utna mere mann me
tu hi toh basi hai mere jeevan me
teri baani mere mann me samaati toh hai
teri baat mujhe sapne dikhati toh hai
tujhe jo dekhu badhti ye dhadkan toh hai
huyi mithi mithi si mann me uljhan toh hai
ye sarsraati hawa jaaye chaaro disha
aise hi mukt mann mera bhi ho gaya
ye hawa sar sarsariya, sar sarsariya
kyu na lehrake mai bhi disha disha nagar nagar jaau
sar sarsariya


Lyrics in Hindi (Unicode) of "ये हवा सर सरसरियाँ"


ये सरसराती हवा जाए चारो दिशा
ऐसे ही मुक्त मन मेरा भी हो गया
ये हवा सर सरसरियाँ, सर सरसरियाँ
क्यूँ ना लहराके मैं भी दिशा दिशा नगर नगर जाऊ

खिला खिला सा जो मेरा ये मन हैं
खिला खिला सा जो मेरा ये तन हैं
जो रंग रंग हैं मेरे सपने
तो सब रंग ही लागे सपने
जो रुत कोई छाई तो छा जाने दे
जो आई अंगडाई तो आ जाने दे
हवाए जो बताये वही मान ले
तू मन की सतरंगी हैं ये जान ले
ये सरसराती हवा जाए चारो दिशा
ऐसे ही मुक्त मन मेरा भी हो गया
ये हवा सर सरसरियाँ, सर सरसरियाँ
क्यूँ ना लहराके मैं भी दिशा दिशा नगर नगर जाऊ

लगे के अभी तू हैं अनजानी
जगत में जितना भी हैं पानी
हैं प्रेम उतना मेरे मन में
तू ही तो बसी हैं मेरे जीवन में
तेरी बानी मेरे मन में समाती तो हैं
तेरी बात मुझे सपने दिखाती तो हैं
तुझे जो देखू बढती ये धड़कन तो हैं
हुई मीठी मीठी सी मन में उलझन तो हैं
ये सरसराती हवा जाए चारो दिशा
ऐसे ही मुक्त मन मेरा भी हो गया
ये हवा सर सरसरियाँ, सर सरसरियाँ
क्यूँ ना लहराके मैं भी दिशा दिशा नगर नगर जाऊ
सर सरसरियाँ

No comments:

Post a comment