4 July 2016

Lyrics Of "Yeh Jo Ishq Hai" From Latest Album - Yeh Jo Ishq Hai (2016)

Yeh Jo Ishq Hai
Yeh Jo Ishq Hai
A beautiful love song in the voice of Mitali Mahant featuring her in song video.

Singer: Mitali Mahant
Music: Jay Mahant
Lyrics: Gaurav Jogi
Features: Mitali Mahant






The video of this song is available on YouTube at the official channel Ampliify Times. This video is of 4 minutes 08 seconds duration.

Lyrics of "Yeh Jo Ishq Hai"


naa jaane ishq me kyun aisa hota hai
khuli aankh hai fir bhi sapna lagta hai
naa jaane ishq me kyun aisa hota hai
khuli aankh hai fir bhi sapna lagta hai
jaagi man me umange dil hua bawara
bane pagale pawan saa haa udta jaa raha
ye jo ishq hai kuch is kadar, hum pe hai chhaa raha
bin mange hi sab paa liya, rab da shukrana
ye jo ishq hai kuch is kadar, hum pe hai chhaa raha
bin mange hi sab paa liya, rab da shukrana

jajba pyar ka aaj hai jaana, mile dard bhi to hai muskurana
rab se dua me use hai manga, inkar bhi unka ikrar jaana
tuta khwab to hua yu yakin, sab kuch badal gaya
haa anjane me kab kaise kyun ye din fisal gaya
ye jo ishq hai kuch is kadar, hum pe hai chhaa raha
bin mange hi sab paa liya, rab da shukrana
ye jo ishq hai kuch is kadar, hum pe hai chhaa raha
bin mange hi sab paa liya, rab da shukrana

naa jaane ishq me kyun aisa hota hai
khuli aankh hai fir bhi sapna lagta hai
naa jaane ishq me kyun aisa hota hai
khuli aankh hai fir bhi sapna lagta hai



Lyrics in Hindi (Unicode) of "ये जो इश्क है"


ना जाने इश्क में क्यूँ ऐसा होता है
खुली आँख है फिर भी सपना लगता है
ना जाने इश्क में क्यूँ ऐसा होता है
खुली आँख है फिर भी सपना लगता है
जागी मन में उमंगें दिल हुआ बावरा
बने पगले पवन सा हां उड़ता जा रहा
ये जो इश्क है कुछ इस कदर, हम पे है छा रहा
बिन मांगे ही सब पा लिए, रब दा शुकराना
ये जो इश्क है कुछ इस कदर, हम पे है छा रहा
बिन मांगे ही सब पा लिए, रब दा शुकराना

जज्बा प्यार का आज है जाना, मिले दर्द भी तो है मुस्कुराना
रब से दुआ में उसे है माँगा, इंकार भी उनका इकरार जाना
टुटा ख्वाब तो हुआ यु यकीं, सब कुछ बदल गया
हां अनजाने में कब कैसे क्यूँ ये दिन फिसल गया
ये जो इश्क है कुछ इस कदर, हम पे है छा रहा
बिन मांगे ही सब पा लिए, रब दा शुकराना
ये जो इश्क है कुछ इस कदर, हम पे है छा रहा
बिन मांगे ही सब पा लिए, रब दा शुकराना

ना जाने इश्क में क्यूँ ऐसा होता है
खुली आँख है फिर भी सपना लगता है
ना जाने इश्क में क्यूँ ऐसा होता है
खुली आँख है फिर भी सपना लगता है

No comments:

Post a comment