3 August 2016

Lyrics Of "Intehan Ho Gayi" From Latest Album - Intehan Ho Gayi (2016)

Intehan Ho Gayi
Intehan Ho Gayi
A melodious song recreated and sung by Mayank Maurya featuring Maadhyam - A Team.

Singer: Mayank Maurya
Additional Music: Maadhyam
Additional Lyrics: Maadhyam
Original Music: Bappi Lahiri
Original Lyrics: Anjaan
Features: Maadhyam




The video of this song is available on YouTube at the official channel Saregama GenY. This video is of 4 minutes 45 seconds duration.


Lyrics of "Intehan Ho Gayi"


inteha ho gayi intezaar ki, aayi na kuchh khabar mere yaar ki
inteha ho gayi intezaar ki, aayi na kuchh khabar mere yaar ki
ye hame hai yakin bewfa woh nahi phir wajah kya hui intezar ki
inteha ho gayi intezaar ki

dil ne mujhse jo kaha hai pahle na kaha kabhi kisi ne
dil ko tumse kehna tha jo kehna hai wo dil ko is ghadi me
tanha hai ye raat aur tham si gayi hai meri saanse
aa gayi jo tu yaha to dil ye mera kuch na aur chahe
aa bhi jaao dilruba, yu to na sata
inteha ho gayi intezaar ki, intezaar ki

baat jo hai usme baat woh yaha kahi nahi kisi me
woh hai meri, bas hai meri shor hai yahi gali gali me
saath saath hai woh mere gham me mere dil ki har khushi me
zindagi me woh nahi toh kuchh nahi hai meri zindagi me
bujh na jaaye yeh shama aitbaar ki
inteha ho gayi intezaar ki, intezaar ki, intezaar ki

Lyrics in Hindi (Unicode) of "इम्तेहां हो गई"


इम्तेहां हो गई इंतज़ार की, आई ना कुछ खबर मेरे यार की
इम्तेहां हो गई इंतज़ार की, आई ना कुछ खबर मेरे यार की
ये हमें है यक़ी बेवफा वो नहीं फिर वजह क्या हुई इंतज़ार की
इम्तेहां हो गई इंतज़ार की

दिल ने मुझसे जो कहा हैं पहले न कहा कभी किसी ने
दिल को तुमसे कहना था जो कहना हैं वो दिल को इस घडी में
तनहा हैं ये रात और थम सी गई हैं मेरी साँसे
आ गई जो तू यहाँ तो दिल ये मेरा कुछ ना और चाहे
आ भी जाओ दिलरुबा, यूँ तो ना सता
इम्तेहां हो गई इंतज़ार की, इंतज़ार की

बात जो है उसमें बात वो यहाँ कहीं नहीं किसी में
वो है मेरी, बस है मेरी शोर है यही गली गली में
साथ साथ वो है मेरे गम में मेरे दिल की हर खुशी में
ज़िन्दगी में वो नहीं तो कुछ नहीं है मेरी ज़िंदगी में
बुझ न जाए ये शमा ऐतबार की
इम्तेहां हो गई इंतज़ार की, इंतज़ार की, इंतज़ार की

No comments:

Post a comment