29 September 2016

Lyrics Of "Chal Udja Re" From Latest Movie - Rock On 2 (2016)

Chal Udja Re
Chal Udja Re
A rock song sung by Chal Udja Re Shraddha Kapoor and music composed by Shankar Ehsaan Loy.

Singer: Shraddha Kapoor
Music: Shankar Ehsaan Loy
Lyrics: Javed Akhtar
Star Cast: Farhan Akhtar, Shraddha Kapoor, Arjun Rampal, Prachi Desai, Shahana Goswami, Purab Kohli, Shashank Arora.




Lyrics of "Chal Udja Re"


chal udja re, udja re, udja re udja
yu lage din saare zehrile teer hai
jo hum pe chal jaate hai
yu lage raate jaise tanhaai ke ajgar hai
jo hume nigal jaate hai
ye jina bhi socho koi jina hai
ki ab insaan machine hai banane laga
ye jina bhi socho koi jina hai
apna chehra khud humko bhi ajnabi lagne laga
chal udja re panchi kahi, udja re chhod zamin
udja re soch nahi, udja
chal udja re panchi kahi, udja re chhod zamin
udja re soch nahi, udja
chal udja re, udja re, udja re

yu lage din saare zehrile teer hai
jo hum pe chal jaate hai
ye jina bhi socho koi jina hai
ki ab insaan machine hai banane laga
ye jina bhi socho koi jina hai
apna chehra khud humko bhi ajnabi lagne laga
chal udja re panchi kahi, udja re chhod zamin
udja re soch nahi, udja

jhunjhalayi si zindagi hai, hai sulga hua sa ye dil
raahe hai awaargi hai, jiski koi nahi hai manzil
jis ghutan me jee rahe hai saare, koi kyun sahe
chaand ko bujha de tod taare, raat ye kahe
ye jina bhi socho koi jina hai
ki ab insaan machine hai banane laga
ye jina bhi socho koi jina hai
apna chehra khud humko bhi ajnabi lagne laga
chal udja re panchi kahi, udja re chhod zamin
udja re soch nahi, udja
chal udja re, udja re, udja re udja ja
chal udja re panchi kahi, udja re chhod zamin
udja re soch nahi, udja, udja re


Lyrics in Hindi (Unicode) of "चल उड़जा रे"


चल उड़जा रे, उड़जा रे, उड़जा रे उड़जा
यूँ लगे दिन सारे ज़हरीले तीर हैं
जो हम पे चल जाते हैं
यूँ लगे रातें जैसे तन्हाई के अजगर हैं
जो हमें निगल जाते हैं
ये जीना भी सोचो कोई जीना है
की अब इंसान मशीनें है बनने लगा
ये जीना भी सोचो कोई जीना है
अपना चेहरा ख़ुद हमको भी अजनबी लगने लगा
चल उड़जा रे पंछी कहीं, उड़जा रे छोड़ ज़मीं
उड़जा रे सोच नहीं, उड़जा
चल उड़जा रे पंछी कहीं, उड़जा रे छोड़ ज़मीं
उड़जा रे सोच नहीं, उड़जा
चल उड़जा रे, उड़जा रे, उड़जा रे

यूँ लगे दिन सारे ज़हरीले तीर हैं
जो हम पे चल जाते हैं
ये जीना भी सोचो कोई जीना है
की अब इंसान मशीनें है बनने लगा
ये जीना भी सोचो कोई जीना है
अपना चेहरा ख़ुद हमको भी अजनबी लगने लगा
चल उड़जा रे पंछी कहीं, उड़जा रे छोड़ ज़मीं
उड़जा रे सोच नहीं, उड़जा

झुंझलाई सी ज़िन्दगी है, है सुलगा हुआ सा ये दिल
राहें हैं आवारगी है, जिसकी कोई नहीं है मंज़िल
जिस घुटन में जी रहे हैं सारे, कोई क्यूँ सहे
चाँद को बुझा दे तोड़ तारे, रात ये कहे
ये जीना भी सोचो कोई जीना है
की अब इंसान मशीनें है बन्ने लगा
ये जीना भी सोचो कोई जीना है
अपना चेहरा ख़ुद हमको भी अजनबी लगने लगा
चल उड़जा रे पंछी कहीं, उड़जा रे छोड़ ज़मीं
उड़जा रे सोच नहीं, उड़जा
चल उड़जा रे, उड़जा रे, उड़जा रे उड़जा जा
चल उड़जा रे पंछी कहीं, उड़जा रे छोड़ ज़मीं
उड़जा रे सोच नहीं, उड़जा, उड़जा रे

No comments:

Post a comment