29 September 2016

Lyrics Of "Woh Jahaan" From Latest Movie - Rock On 2 (2016)

Woh Jahaan
Woh Jahaan
A playful song sung by Farhan Akhtar and Shraddha Kapoor, with lyrics penned by Javed Akhtar.

Singer: Farhan Akhtar, Shraddha Kapoor
Music: Shankar Ehsaan Loy
Lyrics: Javed Akhtar
Star Cast: Farhan Akhtar, Shraddha Kapoor, Arjun Rampal, Prachi Desai, Shahana Goswami, Purab Kohli, Shashank Arora.





Lyrics of "Woh Jahaan"


neela aakash jo ek samandar hai
usme kahi koi aisa sitara bhi hai
jisme dusri ek duniya ho basi, jisme ho jaagti zindagi
par humse alag, humse judaa ek nishaan bhi
na ho jahan dard ka, jina jaha ho nahi mushkil
koi rota na ho, chain khota na ho
ho ye sabko yakin, koi tanha nahi
na kabhi toote kisi ka dil
woh jahaan, koi dukh ho na ho koi gham
woh jahaan, palke naa ho nam
dilo me ho na diware na duriya, woh jahaan pure ho armaan
sabko ho ye pataa sab dilo me
mohabbat ek gehri dhara bhi hai
neele aakash me koi aisa sitara bhi hai

neele aakash ke is samandar ka
chand ki kashti me maine kiya hai safar
dhundti ho agar tum jo duniya hasin
woh duniya hai yahi, woh yahi hai kahi
ha magar uske chehre par
nafrat ki, zulm ki ek dhul hai jam gayi
ha magar uske tan pe lipti lalach ki hai zanjir toh
woh duniya aate aate tham gayi
uske chehre se ye dhul hat jaaye toh
uske tan se ye zanjir kat jaaye toh
dekhna phir yaha is zamin par hi hogi woh duniya
woh jahaan, koi dukh ho na ho koi gham
woh jahaan, palke naa ho nam
dilo me ho na diware na duriya, woh jahaan pure ho armaan
muskurati ho chehro pe ek roshni
zindagi ho mohabbat bhari zindagi


Lyrics in Hindi (Unicode) of "वो जहाँ"


नीला आकाश जो इक समंदर है
उसमें कहीं कोई ऐसा सितारा भी है
जिसमें दूसरी इक दुनिया हो बसी, जिसमें हो जागती ज़िन्दगी
पर हमसे अलग, हमसे जुदा एक निशाँ भी
ना हो जहाँ दर्द का, जीना जहाँ हो नहीं मुश्किल
कोई रोता ना हो, चैन खोता ना हो
हो ये सबको यकीं, कोई तन्हा नहीं
ना कभी टूटे किसी का दिल
वो जहाँ, कोई दुःख हो ना हो कोई ग़म
वो जहाँ, पलकें ना हों नम
दिलों में हो ना दीवारें ना दूरियां, वो जहाँ पूरे हो अरमां
सबको हो ये पता सब दिलों में
मोहब्बत एक गहरी धारा भी है
नीले आकाश में कोई ऐसा सितारा भी है

नीले आकाश के इस समंदर का
चाँद की कश्ती में मैंने किया है सफ़र
ढूँढती हो अगर तुम जो दुनिया हसीं
वो दुनिया है यहीं, वो यहीं है कहीं
हाँ मगर उसके चेहरे पर
नफ़रत की, ज़ुल्म की एक धुल है जम गयी
हाँ मगर उसके तन पे लिपटी लालच की है ज़ंजीर तो
वो दुनिया आते आते थम गयी
उसके चेहरे से ये धुल हट जाए तो
उसके तन से ये ज़ंजीर कट जाए तो
देखना फिर यहाँ इस ज़मीं पर ही होगी वो दुनिया
वो जहाँ, कोई दुःख हो ना हो कोई ग़म
वो जहाँ, पलकें ना हों नम
दिलों में हो ना दीवारें ना दूरियां, वो जहाँ पूरे हो अरमां
मुस्कुराती हो चेहरों पे एक रौशनी
ज़िन्दगी हो मोहब्बत भरी ज़िन्दगी

No comments:

Post a comment