1 October 2016

Lyrics Of "Tera Nishaan" From Latest Album - Tera Nishaan (2016)

Tera Nishaan
Tera Nishaan
A sad love song in the melodious voice of Danish Alfaaz and music composed by Dev Ashish.

Singer: Danish Alfaaz
Music: Dev Ashish
Lyrics: Danish Alfaaz
Features: Danish Alfaaz







The video of this song is available on YouTube at the official channel unisysmusic. This video is of 5 minutes 41 seconds duration.



Lyrics of "Tera Nishaan"


gumnaam si hasi, bewajah mujhe mili
kya pata yeh dillagi waaste mere na thi
ho sake to ae haseen muskurahate meri
dena lauta sabhi, jo kabhi meri na thi
aashiqui ki raaho pe begunaah nigaaho me
is kadar muhabbat hai, kya karu bayaan
rehmat zara kar khuda, na mila tera nishaan
rehmat zara kar khuda, na mila tera nishaan

befikar se chal diye, manzil juda si thi
tu mili hai is tarah, rehmat khuda ki thi
waqt aise guzra tha chand lamhaat me
aansu mera nikla tha subah ki namaaz me
tu jo mujhko chhuta tha, aahe jaise bharta tha
khushbu teri aati hai aaj bhi yaha
rehmat zara kar khuda, na mila tera nishaan
rehmat zara kar khuda, na mila tera nishaan

kyun teri nigaho me gir gaye the hum kabhi
aaja sabko chhod ke mere paas tu abhi
main to tera chehra hu, tera guzra waqt hu
uth khada hu aaj main, jaata hai kaha
rehmat zara kar khuda, na mila tera nishaan
rehmat zara kar khuda, na mila tera nishaan


Lyrics in Hindi (Unicode) of "तेरा निशान"


दूर होके ये दूरियाँ नजदीकियाँ बन गई
गुमनाम सी हसी, बेवजह मुझे मिली
क्या पता ये दिललगी वास्ते मेरे ना थी
हो सके तो ऐ हसीन मुस्कुराहटे मेरी
देना लौटा सभी, जो कभी मेरी ना थी
आशिकी की राहो पे बेगुनाह निगाहों में
इस कदर मुहब्बत हैं, क्या करू बयान
रहमत ज़रा कर खुदा, ना मिला तेरा निशान
रहमत ज़रा कर खुदा, ना मिला तेरा निशान

बेफिकर से चल दिए, मंजिल जुदा सी थी
तू मिली हैं इस तरह, रहमत खुदा की थी
वक़्त ऐसे गुज़रा था चंद लम्हात में
आंसू मेरा निकला था सुबह की नमाज़ में
तू जो मुझको छूता था, आहे जैसे भरता था
खुशबु तेरी आती हैं आज भी यहाँ
रहमत ज़रा कर खुदा, ना मिला तेरा निशान
रहमत ज़रा कर खुदा, ना मिला तेरा निशान

क्यूँ तेरी निगाहों में गिर गए थे हम कभी
आजा सबको छोड़ के मेरे पास तू अभी
मैं तो तेरा चेहरा हूँ, तेरा गुज़रा वक़्त हूँ
उठ खड़ा हूँ आज मैं, जाता हैं कहा
रहमत ज़रा कर खुदा, ना मिला तेरा निशान
रहमत ज़रा कर खुदा, ना मिला तेरा निशान

No comments:

Post a comment