20 May 2015

Lyrics Of "Jung Hain" From Movie - Vishwaroop (2013)

Jung Hain
Jung Hain
Lyrics Of Jung Hain From Vishwaroop (2013): A pop song sung by Benny Dayal, Shankar Mahadevan featuring Kamal Haasan & Pooja Kumar

Singer: Benny Dayal, Shankar Mahadevan
Music: Shankar Ehsaan Loy
Lyrics: Javed Akhtar
Star Cast: Kamal Haasan, Pooja Kumar, Shekhar Kapur, Rahul Bose, Andrea Jeremiah, Jaideep Ahlawat.




Lyrics of "Jung Hain"


sadiyo se chalti jung hai, nafrat ka gahra rang hai
shaharo me hinsa dekh kar jungle bhi jaise dung hai

chehre chehre dahsate basi hai
kandhe kandhe banduke rakhi hai
galiyo galiyo khun bah raha hai
insan insan jurm sah raha hai
koi batade kaise lute na hum diwane
payegi nakami kab shish gunj ki sajish
rut jo nayi aayi wo rang naye layegi
nyay jab aayega to shanti aayegi
dhundhta hai har dil aa man ki manzil
sadiyo se chalti jung hai, nafrat ka gahra rang hai
shaharo me hinsa dekh kar jungle bhi jaise dung hai

nagri nagri koi aag hai jaise
chhayi chhayi koi aag hai jaise
mulko mulko barud ki buu hai
shaharo shaharo sirf lahu hai
koi bata de kaise lute na hum diwane
payegi nakami kab shish gunj ki sajish
rut jo nayi aayi wo rang naye layegi
nyay jab aayega to shanti aayegi
dhundhta hai har dil aa man ki manzil
sadiyo se chalti jung hai, nafrat ka gahra rang hai
shaharo me hinsa dekh kar jungle bhi jaise dung hai

Lyrics in Hindi (Unicode) of "जंग है"


सदियों से चलती जंग है, नफरत का गहरा रंग है
शहरों में हिंसा देख कर जंगले भी जैसे दुंग है

चेहरे चेहरे दह्सते बसी है
कंधे कंधे बंदूके रखी है
गलियों गलियों खून बह रहा है
इन्सान इन्सान जुर्म सह रहा है
कोई बतादे कैसे लुटे ना हम दीवाने
पायेगी नाकामी कब शीश गूंज की साजिश
रुत जो नयी आई वो रंग नए लाएगी
न्याय जब आएगा तो शांति आएगी
ढूँढता है हर दिल आ मन की मंजिल
सदियों से चलती जंग है, नफरत का गहरा रंग है
शहरों में हिंसा देख कर जंगले भी जैसे दुंग है

नगरी नगरी कोई आग है जैसे
छाई छाई कोई आग है जैसे
मुल्को मुल्को बारूद की बू है
शहरों शहरों सिर्फ लहू है
कोई बता दे कैसे लुटे ना हम दीवाने
पायेगी नाकामी कब शीश गूंज की साजिश
रुत जो नयी आई वो रंग नए लाएगी
न्याय जब आएगा तो शांति आएगी
ढूँढता है हर दिल आ मन की मंजिल
सदियों से चलती जंग है, नफरत का गहरा रंग है
शहरों में हिंसा देख कर जंगले भी जैसे दुंग है

No comments:

Post a comment